Please support us by sharing on

Ancient Geographical Location

( प्राचीन भौगोलिक क्षेत्रों की वर्तमान स्थिति )

राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रों के वर्तमान नाम ( Rajasthan Ancient Areas )

प्राचीन नाम – वर्तमान नाम

  • श्रीपंथ – बयाना
  • सत्यपुर – सांचोर
  • विराट – बैराठ 
  • अहिछत्रपुर – नागोर
  • कोठी – धौलपुर
  • अजयमेरु – अजमेर
  • कोंकण तीर्थ – पुष्कर
  • मध्यमिका – नगरी 
  • आलौर – अलवर
  • कान्ठल – प्रतापगढ
  • खिज्राबाद – चित्तोड़गढ़ 
  • भटनेर – हनुमानगढ
  • जयनगर – जयपुर
  • श्रीमाल – भीनमाल
  • उपकेश पट्टन – ओसियां
  • ब्रज नगर – झालरा पाटन 
    रामनगर – गंगानगर
  • गोपालपाल – करौली
  • मांड – जैसलमेर
  • ताम्रवती नगरी – आहड़ 

प्राचीन भौगोलिक क्षेत्रों की वर्तमान स्थिति ( Current state of ancient geographic areas )

  • जांगल देश ( Wild country ) – बीकानेर और जोधपुर जिले का उत्तरी भाग
  • यौद्धेय – हनुमानगढ़ और गंगानगर के आसपास का क्षेत्र
  • गिरवा-  उदयपुर में चारों ओर पहाड़ियां होने के कारण उदयपुर की आकृति एक तश्तरीनुमा बेसिन जैसी है जिसे स्थानीय भाषा में गिरवा कहते हैं।
  • गोडवाड – दक्षिण पूर्वी बाड़मेर, पश्चिमी सिरोही, जालौर
  • अहिछत्रपुर-  नागौर
  • राठ- अलवर जिले का हरियाणा राज्य से लगता क्षेत्र
  • शेखावाटी – चूरू, सीकर, झुंझुनू जिले
  • ढूंढाड़ – जयपुर में आसपास का क्षेत्र, दौसा
  • कुरु देश – अलवर जिले का उत्तरी भाग
  • आर्बुद व चंद्रावती –  सिरोही व आबू के आसपास का क्षेत्र
  • मांड या वल्लभ देश-  जैसलमेर
  • वागड या वाग्वर – डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़
  • मेवल- डूंगरपुर बांसवाड़ा के मध्य का भाग
  • मरुवार या मारवाड़ – जोधपुर व आसपास का क्षेत्र
  • मेवात-  अलवर व आसपास का प्रदेश
  • हाडोती –  कोटा, बूंदी, झालावाड़ व बारां जिले
  • तोरावाटी –  शेखावाटी मैं कांतिली नदी का अपवाह क्षेत्र जहां प्रारंभ में तवर या तोमर वंशीय शासकों का अधिपत्य रहा
  • बांगड़ या बांगर –  पाली, नागौर, सीकर, व झुंझुनू जिले का कुछ भाग ( लूनी नदी का अपवाह क्षेत्र )
  • मत्स्य – अलवर, भरतपुर, धौलपुर व करौली
  • मेरु – अरावली पर्वतीय प्रदेश
  • गुर्जरत्रा – जोधपुर जिले का दक्षिणी भाग( मंडोर )
  • मेरवाड़ा –  अजमेर व राजसमंद जिले का दिवेर क्षेत्र
  • खेराड व मालखेराड –  भीलवाड़ा जिले के जहाजपुर तहसील व टोंक जिले का अधिकांश भाग
  • मालव देश –  प्रतापगढ़, झालावाड़
  • थली – बीकानेर, चूरू का अधिकांश भाग एवं दक्षिणी गंगानगर की मरुस्थलीय भूमि
  • भोमट क्षेत्र – डूंगरपुर, पूर्वी सिरोही, उदयपुर जिले का अरावली पर्वतीय आदिवासी क्षेत्र
  • सालव प्रदेश – अलवर का क्षेत्र
  • भोराठ का पठार – उदयपुर जिले की गोगुंदा व राजसमंद जिले की कुंभलगढ़ तहसीलों का क्षेत्र,  कुंभलगढ़ व गोगुंदा के मध्य का पठारी भाग।  
  • लसाडिया का पठार – उदयपुर में जयसमंद से आगे कटा फटा पठारी भाग।
  • देशहरो – उदयपुर में जरगा (उदयपुर) व रागा (सिरोही) पहाड़ियों के बीच का क्षेत्र सदा हरा भरा रहने के कारण देशहरो कहलाता है।
  • मगरा –  उदयपुर का उत्तरी पश्चिमी पर्वतीय भाग मगरा कहलाता है।
  • उपरमाल –  चित्तौड़गढ़ के भैेसरोडगढ से लेकर भीलवाड़ा के बिजोलिया तक का पठारी भाग उपरमाल कहलाता है।
  • नाकोड़ा पर्वत/ छप्पन की पहाड़ियां – बाड़मेर के सिवाना ग्रेनाइट पर्वतीय क्षेत्र में स्थित गोलाकार पहाड़ियों का समूह नाकोड़ा पर्वत या छप्पन की पहाड़ियां कहलाती है।
  • छप्पन का मैदान – बांसवाड़ा व प्रतापगढ़ के मध्य का भाग छपन का मैदान कहलाता है। यह मैदान माही नदी बनाती है।
  • कांठल –  माही नदी के किनारे-किनारे प्रतापगढ़ का भूभाग कांठल कहलाता है। इसलिए माही नदी को काठल की गंगा कहते हैं।
  • भाखर/भाकर – पूरी सिरोही क्षेत्र में अरावली की तीव्र ढाल वाली उबड़-खाबड़ पहाड़ियों का क्षेत्र भाखर/भाकर कहलाता है।
  • खेराड – भीलवाड़ा व टोंक का वह क्षेत्र जो बनास बेसिन में स्थित है।
  • मालानी – जालौर और बालोतरा के मध्य का भाग।
  • देवल/मेवलिया – डूंगरपुर व बांसवाड़ा के मध्य का भाग।
  • लिटलरण – राजस्थान में कच्छ की खाड़ी के क्षेत्र को लिटलरण कहते हैं।
  • माल खेराड़ – ऊपर माल व खेराड़ क्षेत्र संयुक्त रुप में माल खेराड़ कहलाता है।
  • पुष्प क्षेत्र – डूंगरपुर व बांसवाड़ा संयुक्त रुप से पुष्प क्षेत्र कहलाता है।
  • सुजला क्षेत्र – सीकर, चूरू व नागौर संयुक्त रुप से सुजला क्षेत्र कहलाता है।
  • मालवा का क्षेत्र – झालावाड़ व प्रतापगढ़ संयुक्त रुप से मालवा का क्षेत्र कहलाता है।
  • धरियन – जैसलमेर जिले का बालुका स्तूप युक्त क्षेत्र जहां जनसंख्या “न” के बराबर है। यह क्षेत्र धरियन कहलाता है।
  • भोमट – डूंगरपुर पूरवी सिरोही व उदयपुर जिले का आदिवासी प्रदेश भोमट कहलाता है।
  • कूबड़ पट्टी – नागौर के जल में फ्लोराइड की मात्रा अधिक होती है जिससे शारीरिक विकृति होने की संभावना हो जाती है। इसीलिए इस क्षेत्र को कुबड़ पट्टी के नाम से जाना जाता है।
  • लाठी सीरीज क्षेत्र ( Blackjack Series Area )- जैसलमेर में पोकरण से मोहनगढ़ तक पाकिस्तानी सीमा के सहारे विस्तृत एक भूगर्भीय मीठे जल की पेटी है। इस लाठी सीरीज के ऊपर सेवण घास उगती है।
  • बागड़/बांगर- शेखावटी व मरुप्रदेश के मध्य संकरी पेटी।
  • वागड़ – डूंगरपुर व बांसवाड़ा का क्षेत्र।
  • बीहड़/डांग/खादर- चंबल नदी सवाई माधोपुर करौली धौलपुर में बड़े-बड़े गड्ढों का निर्माण करती है। इन गड्ढों को बीहड़/डांग/खादर नाम से पुकारा जाता है। सर्वाधिक बीहड़ धौलपुर में है।
  • शुरसेन – भरतपुर, धौलपुर, करौली।
  • ढूंढाड़  – जयपुर के आसपास का क्षेत्र।
  • गुजर्राजा – जोधपुर का दक्षिण का भाग।
  • माल/वल  – जैसलमेर
  • अरावली – आडवाल।

 

Quiz 

Question -32 

0%

(1) राजस्थान किस गोलार्द्ध में स्थित है

Correct! Wrong!

(2) राजस्थान के उत्तर से दक्षिण तथा पूर्व से पश्चिम बिंदुओं को मिलाने वाली काल्पनिक रेखाएं किस जिले में आपस में एक दूसरे को कटेगी वह -

Correct! Wrong!

(3) राजस्थान का कौन सा नगर द सिटी ऑफ माउंटेंस एंड फाउंटेन कहलाता है

Correct! Wrong!

(4) जीरो डिग्री देशांतर रेखा को कहते हैं

Correct! Wrong!

(5) प्रतापगढ़ के आसपास का भूभाग स्थानीय रूप से किस नाम से जाना जाता है

Correct! Wrong!

(6) भारत का कुल क्षेत्रफल विश्व के क्षेत्रफल का कितना प्रतिशत है

Correct! Wrong!

(7) सेंट्रल एंड वेस्टर्न राजपूत स्टेट्स ऑफ इंडिया पुस्तक का प्रसिद्ध नाम है

Correct! Wrong!

(8) सेंट्रल एंड वेस्टर्न राजपूत स्टेट ऑफ इंडिया पुस्तक के रचनाकार है

Correct! Wrong!

(9) छपन की पहाड़ियां राज्य के बाड़मेर जिले में तथा छप्पन का मैदान है

Correct! Wrong!

(10) मालाखेड़ा पर्वतमाला है

Correct! Wrong!

(11) मरुस्थलीय प्रदेश में रेतीले टीलों के स्तरीकरण में किस वृक्ष की प्रजाति का रोपण सर्वाधिक हुआ है

Correct! Wrong!

(12) वर्षा के पानी के तलियों में जमने से बनी झीलें क्या कहलाती है

Correct! Wrong!

(13) राजस्थान का कौनसा जिला डांग की रानी कहलाता है

Correct! Wrong!

(14) सापेक्षिक दृष्टि से राजस्थान का दक्षिण-पश्चिम भू-आकृतिक प्रदेश कहलाता है

Correct! Wrong!

(15) सीकर झुंझुनू व नागौर का क्षेत्र कहलाता है

Correct! Wrong!

(16) अरावली पर्वतमाला की चौड़ाई कहां से बढ़ती है

Correct! Wrong!

(17) उड़िया के पठार की आबू पर्वत से ऊंचाई कितनी है

Correct! Wrong!

(18) अरावली पर्वतमाला का सर्वाधिक ऊंचा क्षेत्र हैं

Correct! Wrong!

(19) वह पर्वतमाला जो कालांतर में घर्षण से वर्तमान में अवशिष्ट रूप में रह गई है

Correct! Wrong!

(20) राजस्थान के किस ओर मालवा का पठार है

Correct! Wrong!

(21) पश्चिम राजस्थान थार का मरुस्थल क्यों चर्चित है

Correct! Wrong!

(22) अंजन व पाला नामक घास पाई जाती है

Correct! Wrong!

23. जुनाखेडा किसका प्राचीन नाम था ?

Correct! Wrong!

24. राजस्थान के नगरों के नवीन व प्राचीन नामों के जोड़ों में कौनसा जोड़ा गलत है –

Correct! Wrong!

25. डांग क्षेत्र में आने वाला भू भाग है-

Correct! Wrong!

26. कोंकण तीर्थ कहा जाता है-

Correct! Wrong!

27. गंगानगर का प्राचीन नाम था-

Correct! Wrong!

28. राजस्थान के विभित्र नगरों एवं उनके प्राचीन प्रचलित नामों का कौन-सा युग्म असुमेलित है?  नगर प्राचीन नाम

Correct! Wrong!

29. मारवाड़ में थल व मांड क्षेत्र के बीच के भू भाग को कहा जाता है-

Correct! Wrong!

30. आमेर का प्राचीन नाम-

Correct! Wrong!

31. प्राचीनतम ताम्रवती नगरी को वर्तमान में क्या कहा जाता है-

Correct! Wrong!

32. जैसलमेर क्षेत्र को प्राचीन समय में किस नाम से जाना जाता था-

Correct! Wrong!

Rajasthan Current Geographical Location Quiz ( राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रों स्थिति )
बहुत खराब ! आपके कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
खराब ! आप कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया ! अधिक तैयारी की जरूरत है
बहुत अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया! तैयारी की जरूरत है
शानदार ! आपका प्रश्नोत्तरी सही है! ऐसे ही आगे भी करते रहे

Share your Results:

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

P K Nagauri, ज्योति प्रजापति, पूनम छिंपा नेठराना हनुमानगढ़, 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *