1. बजट (Budget )

बजट मूल रूप से बोजते शब्द से बना है इसका मतलब होता है चमड़े का थैला पुराने जमाने में व्यापारी अपने रुपए पैसे या कहे छोटे-मोटे खजाने चमड़े के थैले में रखा करते थे धीरे-धीरे यह परंपरा राज काज में भी शामिल हो गई तब के राजाओं के खजांची अपना हिसाब किताब चमड़े के बैग में मैं रखने लगे

2. बजट घाटा ( Budget deficit )

अगर बजट भाषण में बजट घाटा शब्द का इस्तेमाल करें तो आप समझ लीजिए कि यह प्राप्त राजस्व से अधिक खर्च होने की स्थिति में प्रयोग हो रहा है

3. राजकोषीय घाटा (fiscal deficit )

राजकोषीय घाटा सरकार के कुल खर्च और राजस्व प्राप्तियों एवं गैर ऋण पूंजी प्राप्तियो का योग और उनके बीच के अंतर को दर्शाता है

4. सकल घरेलू उत्पाद ( Gross Domestic Product -GDP)➖

जीडीपी शब्द का प्रयोग बजट में कही बार होता है जीडीपी एक वित्तीय वर्ष में प्रदेश की सीमा के भीतर उत्पादित कुल वस्तुओं और सेवाओं का कुल योग होता है

5. विनिवेश ( Disinvestment )➖

विनिवेश शब्द भी बजट में काफी खास होता है यह सरकार द्वारा किसी सार्वजनिक संस्थान में अपनी हिस्सेदारी बेचकर राजस्व जुटाने की प्रक्रिया को कहा जाता है

6. प्रतिभूतियां ( Securities )

प्रतिभूतियां लिखित प्रमाण होती हैं जो ऋण के बदले दी जाती हैं इनमें जारी करने की शर्तों और मूल्यों का उल्लेख होता है इनका क्रय-विक्रय भी किया जाता है सरकार द्वारा जारी किया जाने वाला बांड ,तरजीही ,शेयर ऋण पत्र आदि प्रतिभूतियों की श्रेणी में आते हैं

7. राजकोषीय घाटा( fiscal deficit )➖

सरकार की कुल आय में अंतर को आर्थिक शब्दावली में राजकोषीय घाटा कहा जाता है इससे यह जानकारी मिलती है कि सरकार को अपना काम काज चलाने के लिए कितना उधार लेना होगा

8. सरकारी राजस्व और व्यय ( Government revenue and expenditure )➖

सरकारी श्रोतों से होने वाली आय को राजस्व तथा सरकार जिन जिन मदों में खर्च करती है उसे सरकारी व्यय कहते हैं यह सरकार की वित्तीय नीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है

9. बजट आकलन ( Budget estimation )

बजट में सरकारी आय व्यय के लिए विभिन्न प्रकार के शुल्क और टैक्स का लेखा होता है इसे आमतौर पर बजट आकलन कहा जाता है

10. वित्त विधेयक ( Finance bill )

इस विधेयक के माध्यम से ही आम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सरकारी आमदनी बढ़ाने के लिए अलग-अलग तरह के नए करो का प्रस्ताव करते हैं इसके तहत मौजूदा कर प्रणाली में किसी भी तरह के बदलाव का भी प्रस्ताव किया जाता है सदन की मंजूरी के बाद ही इसे लागू किया जाता है

11. विनियोग विधेयक ( Appropriation Bill )➖

विनियोग विधेयक का मतलब होता है तमाम तरह के उपायों के बावजूद सरकारी खर्च पूरे करने के लिए सरकार की कमाई पर्याप्त नहीं है और सरकार को इस मद में खर्चे के लिए संचित निधि से धन की जरूरत है दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि वित्त मंत्री इस विधेयक के माध्यम से सदन से निधि से संचित धन निकालने की अनुमति मांगते हैं

12 योजना खर्च ( Plan expenditure )

सरकार की योजनाओं पर होने वाले सभी तरह के खर्चे को इसमें शामिल किया जाता है

13. गैर योजना खर्च ( Non plan expenditure )-

इसमें ब्याज की अदायगी ,सब्सिडी, पुलिस पेंशन ,आर्थिक सेवाएं, सार्वजनिक उपक्रमों को दिए जाने वाले कर्ज आदि शामिल है

14. अनुदान मांग (Grant demand )

संचित कोष से मांगे गए धन के खर्चे का अनुमानित लेखा-जोखा ही अनुदान मांग है

15. पूंजी बजट( Capital budgeting )➖

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सरकारी आमदनी का ब्यौरा पेश करते हैं इसमें पूंजीगत आय भी शामिल होते है यानी इसमे सरकार द्वारा रिजर्व बैंक और विदेश बैंक से लिए जाने वाले कर्ज, ट्रेजरी चालान की बिक्री से होने वाली आय के साथ ही पूर्व में राज्य को दिए गए कर्जो की वसूली से आए धन का हिसाब पूंजी बजट का हिस्सा होता है

16. पूंजी भुगतान ( Capital payment )

सरकार को किसी तरह की संपत्ति खरीदने के लिए जो भुगतान देना होता है और इस श्रेणी में आता है केंद्र सरकार द्वारा राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और सार्वजनिक उपक्रमों को मंजूर कर्ज और अग्रिम राशि भी पूजीं खर्च के रूप में जाना जाता है

17. पूंजी प्राप्तिया ( Capital receipt )➖

रिजर्व बैंक अथवा अन्य एजेंसियों से प्राप्त कर्ज,ट्रेजरी चालान की बिक्री से होने वाली आमदनी के साथ ही राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशो का दिए गए पिछले कर्जो की उगाही और सार्वजनिक उपक्रमों में अपनी हिस्सेदारी बेचने से प्राप्त धन भी इसी श्रेणी में आता है

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

MAMTA SHARMA KOTA

Leave a Reply

Your email address will not be published.