Computer Memory

( प्राथमिक व द्वितीयक मेमोरी )

मेमोरी कम्प्यूटर का बुनियादी घटक है । यह कम्प्यूटर का आंतरिक भंडारण क्षेत्र है । केन्द्रीय प्रोसेसिंग इकाई (CPU) को प्रोसेस करने के लिए इनपुट डाटा एवं निर्देश चाहिए, जो की मेमोरी में संग्रहित रहता है ।

मेमोरी में ही संग्रहित तथा निर्देश का प्रोसेस तथा आउटपुट प्राप्त होता है अतः मेमोरी कम्प्यूटर का एक आवश्यक अंग है। मेमोरी बहुत सारे सेल में बँटे होते है जिन्हें Location कहते हैं । हर Location का एक अलग लेबल होता है जिसे Address कहते हैं ।

Types of Computer Memory

मेमोरी मुख्‍यत: दो प्रकार की होती है

  1. Primary memory
  2. Secondary memory

प्राथमिक मेमोरी/मुख्‍य मेमोरी ( Primary memory / main memory ) – प्राथमिक मेमोरी केवल उन सूचनाओं व निर्देशों को संगृहित करती है जिनपर कंप्‍यूटर कार्य करता है। इसकी क्षमता सीमित होती है और एक बार विद्युत आपूर्ति बंद हो जाने पर डाटा समाप्‍त हो जाता है।*

द्वितीयक मेमोरी ( Secondary memory )- इस प्रकार की मेमोरी को बाह्य अथवा स्‍थायी मेमोरी भी कहते हैं। यह मुख्‍य मेमोरी की तुलना में धीमी होती है। यह डेटा/निर्देश के स्‍थाई रुप से भंडारण के लिये प्रयोग की जाती है।

Parts of Primary memory

प्राथमिक मेमोरी के मुख्‍यत: दो भाग होते हैं 

  1. Random Access Memory (RAM)
  2. Read only memory

Random Access Memory – RAM

रैम आंकड़ों व सूचनाओं के भंडारण, प्रोग्राम और प्रोग्राम के परिणाम को संगृहित करने के लिये सीपीयू की आन्‍‍तरिक मेमोरी है। इसमें लिखा/पढ़ा गया डेटा मशीन के कार्य करने तक रहता है जैसे ही मशीन बंद हो जाती है, डेटा मिट जाता है।

रैम अस्‍थायी होती है, इसमें संग्रहित डेटा कंप्‍यूटर के बंद होने पर या बिजली जाने पर चला जाता है। इसलिये बैकअप के लिये कंप्‍यूटर में अनइनट्रप्‍टिबल पावर सिस्‍टम (यूपीएस) का प्रयोग किया जाता है।  रैम अपने आकार और डेटा भंडारण दोनों संदर्भ में छोटी होती है।

मुख्‍य रुप से रैम तीन प्रकार की होती हैं-

1. Dynamic random access memory – DRAM : –  यह प्राय: पर्सनल कंप्‍यूटर में प्रयोग की जाने वाली भौतिक मेमोरी है। डायनेमिक शब्‍द यह इंगित करता है कि मेमोरी लगातार रिफ्रेश होनी चाहिए अन्‍यथा यह अपना डाटा खो देगी। इस प्रकार की मेमोरी अधिक किफायती होती है।

2. Static random access memory –SRAM  :- यह मेमोरी DRAM से तेज और कम अस्‍थायी होती है। लेकिन इसे अधिक बिजली की आवश्‍यकता होती है और यह अधिक महंगी भी होती है। स्‍टेटिक शब्‍द के अर्थ से पता चलता है कि इसे DRAM की तरह रिफ्रेश करने की आवश्‍यकता नहीं है।

3. Synchronous Dynamic Random Access Memory – SDRAM : – एक प्रकार की DRAM जो तेज गति से कार्य कर सकती है।

Read only memory – ROM

एक प्रकार की मेमोरी जिसमें लिखे डेटा को हम पढ़ तो सकते है लेकिन आसानी से बदल नहीं सकते। इस प्रकार की मेमोरी स्‍थायी होती है। इन मेमोरी में निर्माण के दौरान जानकारियाँ संग्रहित की जाती हैं। एक रैम में वे जानकारियाँ संग्रहित होती है जो कंप्‍यूटर को शुरु करने के लिये आवश्‍यक होती हैं। इस आपरेशन को बूटस्‍ट्रैप के रुप में जाना जाता है।

मुख्‍य रूप से रोम चार प्रकार की होती हैं-

1. MROM ( Mask Rom ) :- बहुत पहले के रोम हार्डवेयर डिवाइस होते थे जिनमें पहले से प्रोग्राम किये गये डेटा और निर्देश होते थे। इस प्रकार के रोम मास्‍क रोम कहलाते थे जो कि बहुत महंगे नहीं होते थे

2. PROM ( Programmable Read Only Memory ) – पी रोम वह रोम है जो कि यूजर द्वारा केवल एक बार संशोधित की जा सकती है। यूजर एक खाली पीरोम खरीद कर पीरोम प्रोग्राम के प्रयोग से अपने अनुसार कंटेंट डाल सकता है

3. EPROM ( Erasable Programmable Read Only Memory )– ई पी रोम को 40 मिनट तक अल्‍ट्रा वायलेट प्रकाश में रखकर उसके डेटा को मिटाया जा सकता है। आमतौर पर ईपीरोम इस प्रक्रिया को आसानी से पूरा करती है

4. EEPROM  ( Electrically Erasable Programmable Read Only Memory ) – EEPROM को विद्युत से प्रोग्राम करके तथा इसके डेटा को मिटाया जाता है।  इसे लगभग 10,000 बार मिटा कर तथा पुन: प्रोग्राम किया जा सकता है। डेटा मिटाने तथा प्रोग्रामिंग करने में मात्र 4 से 10 मिली सेकेण्‍ड का समय लगता है।

कैश मेमोरी ( Cache Memory  )

यह एक बहुत ही उच्‍च गति वाली सेमीकण्‍डक्‍टर मेमोरी होती है जो सीपीयू की स्‍पीड को बढ़ा देती है। यह मुख्‍य मेमोरी और सीपीयू के बीच में बफर की तरह कार्य करती है।

Secondary memory ( द्वितीयक मेमोरी )

इस प्रकार की मेमोरी को बाह्य मेमोरी भी कहते हैं। यह मुख्‍य मेमोरी और अस्‍थायी मेमोरी से धीमी होती है। इनका प्रयोग डेटा/जानकारी के स्‍थाई रुप से भण्‍डारण के लिये किया जाता है।द्वितीयक मेमोरी का डेटा पहले मुख्‍य मैमोरी में और तब सीपीयू में जाता है।

उदाहरण: डिस्‍क, सीडी रोम, डीवीडी आदि।

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

P K Nagauri

Leave a Reply