Computer Number System

( संख्या प्रणाली )

किसी संख्या प्रणाली में जितने प्रकार के अंक या संकेत प्रयुक्त किए जाते हैं उनकी संख्या को उस संख्या प्रणाली का आधार कहते हैं। द्वि – आधारी संख्या प्रणाली का दूसरा नाम है बाइनरी संख्या प्रणाली ।

वह संख्या प्रणाली जिसका आधार 8 है वह ऑक्टल संख्या प्रणाली ( Octal number system ) कहलाती है

एक बाइट का अर्द्धभाग होता निबल है ( एक निबल बराबर 4 बिट्स एवं एक बाइट बराबर 8 बिट्स ) बाइनरी डिजिट का संक्षिप्त रूप बिट है कंप्यूटर डाटा स्टोर और गणनाएं करने के लिए बाइनरी नंबर सिस्टम का प्रयोग करते हैं।  स्टोरेज की यूनिट GB, KB, MB, TB  है

अक्षरों तथा चिन्हों को 0 एवं 1 संकेतों में स्टोर करने की विधि को कोडिंग सिस्टम कहते हैं  आजकल सबसे ज्यादा प्रयोग में आने वाला कोडिंग सिस्टम आस्की एवं एब्सडिक है

कंप्यूटर में जो भी डाटा दिया जाता है उसे इनपुट कहते हैं कंप्यूटर 0, 1 डिजिट प्रणाली पर कार्य करता है 1 का अर्थ स्विच ऑन और 0 का अर्थ स्विच ऑफ

Types of Number Systems

नंबर सिस्टम चार प्रकार का होता है

  1. Binary Number System
  2. Octment Number System
  3. Decimal number system
  4. Hexa digital number system

आधार संख्या ( Base number )

  • गणितीय दशमलव संख्या प्रणाली में – 10
  • बाइनरी संख्या प्रणाली में – 2
  • ऑक्टल संख्या प्रणाली में – 8
  • हेक्साडेसिमल संख्या प्रणाली में – 16

बाइट  ( Byte )

कुंजियों कि संख्या 64 से अधिक 128 से कम होती है | अतः सभी कkeys को अलग-अलग अद्वितीय kut देने के लिए कम से कम 7 बिट का समूह चाहिए| साथ ही एक पैरिटी बिट जो समूह की सत्यता जांच की है की भी जरूरत होती है अतः प्रत्येक संकेत या करैक्टर के लिए 8 बिट का एक यूनिक समूह चाहिए यही समूह वाइट कहलाता है

8 लगातार बिट्टो की सीरीज को बाइट कहा जाता है  कंप्यूटर में किसी शब्द की लंबाई मापी  बाइट में जाती है  बाइनरी सिस्टम एक नंबर सिस्टम है जिसका आधार 2 है  1024 मेगाबाइट से एक गीगाबाइट बनता है

Bit 0 ओर 1

8 bit – 1 byte

  • 1024 byte – 1 KB
  • 1024 KB – 1 MB
  • 1024 MB – 1 GB
  • 1024 GB – 1 TB

कुछ और संख्याओ का बाइनरी में परिवर्तन-

6= 110
7= 111
8= 1000
9= 1001
10= 1010
11= 1011
12= 1100
13= 1101
14= 1110
15= 1111

Number to Binary change – 

संख्या 53 का बाइनरी परिवर्तन–

53÷2=26 शेष 1
26÷2=13 शेष 0
13÷2= 6 शेष 1
6÷2=3 शेष 0
3÷2=1 शेष 1
1÷2=0 शेष 1

Ans – संख्या 53 का बाइनरी में परिवर्तन होगा 110101

शेष उल्टा होगा जैसे 101011 की जगह 110101

संख्या 27 का बाइनरी परिवर्तन
27÷2=13 शेष 1
13÷2=6 शेष 1
6÷2=3 शेष 0
3÷2=1 शेष 1
1÷2=0 शेष 1

Ans बाइनरी संख्या 11011

Computer Important Words

  • Bad sectors =floppy dick का अपठनीय क्षेत्र
  • Bit = binary system में 0 और 1का प्रतिनिधित्व करता है
  • Booting = computer के memory मे operating system लोड करने की प्रक्रिया
  • Byte = computer मे data उपयोगी 8 बिट का set
  • Modem =इसे modulator – demodulator कहा जाता है। यह एक input /output device है
  • Monitor =इसे visual display unit (vdu) भी कहते हैं
  • Mouse pad=यह एक रबड़ या प्लास्टिक बुनियाद कुशन में बनी एक प्लास्टिक की मेट जिस पर mouse move कर सकता है
  • Recycle bin= deleted files और folders स्टोर करने वाले folder
  • Dpi (dots per inch) =printer मे रिसोल्यूशन का माप है। यह स्पष्ट करता है कि एक इंच मे कितने बिन्दुएं (dots) मुद्रित है
  • Drive (ड्राइव) = एक storage medium स write और read करने के लिए प्रयोग होने वाला storage device।

Computer Number System important facts – 

पहला संक्रियात्मक इलेक्ट्रॉनिक अंकीय कंप्यूटर है  – एनियाक
किसी प्रोग्राम में बग क्या होता है – Error
कौन सा उत्पाद पेंटियम ब्रांड नाम से बेचा जाता है – माइक्रोप्रोसेसर
पहले इलेक्ट्रॉनिक अंकीय कंप्यूटर में क्या था – वाल्व
डाटा के प्रेषण की गति को मापने के लिए सामान्यतः प्रयुक्त इकाई है – बिट प्रति सेकंड
किसी आंकड़ा संचय में रिकार्डो का वृक्ष आकार संख्या क्या कहलाता है – श्रेणीबद्ध मॉडल

 

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

जयराम नागौर, Kiran Arora Sirohi, चन्द्र गुप्त जयपुर, राहुल झालावाड़

Leave a Reply