Image result for Concept of public administration

प्रशासन का अर्थ ( Meaning of administration )

  • प्रशासन शब्द एडमिनिस्ट्रेशन शब्द लेटिन भाषा के Ad+ Ministrant  शब्दों से मिलकर बना है  जिसका अर्थ है लोगों की देखभाल करना, एक व्यक्ति के द्वारा दूसरे व्यक्ति की सेवा करना
  • प्रशासन का मूल अभिप्राय एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति के हित की दृष्टि से उसकी सेवा करना है

प्रशासन के दृष्टिकोण (Administration Approaches ) 

प्रशासन के दो दृष्टिकोण है

  • एकीकृत दृष्टिकोण➖ उच्चतम स्तर से लेकर निम्नतम स्तरतक के सभी कर्मचारी प्रशासन के अंग होते हैं
  • संकुचित दृष्टिकोण➖ प्रबंधन का कार्य करने वाले व्यक्ति ही प्रशासन में संबंधित होते हैं

प्रशासन (Administration ) को सामान्य निम्न अर्थ में प्रयुक्त किया जाता है

  • प्रशासन शब्द को सरकार अथवा कार्यपालिका का पर्यायवाची समझा जाता है सामान्यता इसका अभिप्राय मंत्रीमंडल से होता है
  • प्रशासन को एक विज्ञान शाखा के रुप में स्वीकार किया जाता है  इस के आधार पर किसी व्यापारिक, सामाजिक, अथवा राजनीतिक संस्था के प्रबंध का अध्ययन किया जाता है
  • सार्वजनिक नीति अथवा नीतियों को क्रियांवित करने वाली क्रियाओं के प्रयोग का नाम प्रशासन है  प्रशासन प्रबंध करने की कला है  इसका अर्थ है कि प्रशासन में हम वैज्ञानिक विधियों का प्रयोग करते हैं

प्रशासन के प्रमुख लक्षण ( Major signs of administration )

  • प्रशासन को मनुष्य और भौतिक साधनों में इस प्रकार सामंजस्य करना चाहिए  जिससे मनुष्य की दैनिक जीवन की आवश्यकता की पूर्ति होती रहे प्रशासन सामान्य लक्ष्यों और नीतियों का पूर्ण निर्धारण है इस में संगठित मानवीय सहयोग की आवश्यकता है मानवीय प्रयासों का उचित निर्देशन समायोजन और नियंत्रण है समाज के परस्पर विरोधी तत्वों में मैत्रीपूर्ण संबंध स्थापित करता है
  • सम्पूर्ण समाज इसी सहयोगात्मक क्रिया के आधार पर टिका हुआ है
  • प्रशासन की लक्ष्य के प्रति उदासीनता की भावना है
  • प्रशासन को सफल बनाने के लिए लक्ष्य के प्रति प्रशासन की उदासीनता को समाप्त करना आवश्यक है

लोक प्रशासन ( Public Administration )

  • लोक प्रशासन दो शब्दों से मिलकर (लोक+प्रशासन) से बना है  “लोक” सार्वजनिकता का सूचक है  यह आम आदमी के लिए प्रशासन के द्वार खोलता है  अथार्थ जो प्रशासन आम लोगों के लिए हो उसे लोक प्रशासन कहते हैं  लोक प्रशासन सरकारी कार्यों के प्रशासन को कहा जाता है

लोक प्रशासन की क्रियाएं ( Public administration actions ) 

लोक प्रशासन में वे सभी क्रियाएँ सम्मिलित की जाती है  जिनका संबंध लोक नीति को लागू करने से होता है

निजी प्रशासन ( Private administration )

निजी प्रशासन में विभिन्न व्यक्तियों,कंपनियों,व्यापारियों, संस्थानों,निगमोंद्वारा किए जाने वाले प्रशासन को शामिल किया जाता है  दूसरे शब्दों में गैर-सार्वजनिक प्रशासन तथा राज्य क्षेत्र के अधिकार के बाहर स्थित निजी संस्थानों के व्यक्तिगत प्रशासन को निजी प्रशासन कहते हैं

लोक प्रशासन और निजी प्रशासन की मध्य समानता के तत्व

संगठन के समान आधार, समान प्रशिक्षण व्यवस्था, वित्तीय समानता, कर्मचारी वर्ग की समानता, जनसंपर्क की आवश्यकता और उत्तरदायित्वकी भावना कुछ ऐसे तत्व है  जो इन दोनों के मध्य समानता प्रकट करते हैं

लोक प्रशासन और निजी प्रशासन के मध्य अंतर करने वाले प्रमुख तत्व

कार्य क्षेत्र के स्वरुप में अंतर, व्यवहार में समानता, लाभ प्राप्ति का उद्देश्य, एकाधिकारी प्रवति, राजनीतिक स्वरूप ,जनता के प्रति उत्तरदायित्व, सार्वजनिक संपर्क, ब्राहा वित्तीय नियंत्रण, कानून व नियमों का प्रभाव, दक्षता, प्रतिष्ठा, स्थिरता प्रशासन की इच्छा का प्रतिनिधित्व जैसे तत्वों के आधार पर दोनों के मध्य अंतर स्पष्ट किया जा सकता है

लोक प्रशासन में मानवीय तत्व ( Human element in public administration ) 

लोक प्रशासन में मानवीय तत्व के दो रूप है

1 पहला रूप➖ प्रशासन और उसमें कार्यरत कर्मचारियों के मध्य संबंधका है
2 दूसरा रुप➖ प्रशासन और जनता के मध्य संबंध का है

लोक प्रशासन की परिभाषा ( Definition of public administration )

ई.एन.ग्लैडन के शब्दों में लोक प्रशासन की परिभाषा➖  लोक प्रशासन एक लंबा सा अलंकार युक्त शब्द है  इसका सीधा साधा अर्थ लोगों की देखभाल करना और पारस्परिक संबंधों की व्याख्या करना है कुछ वांछित उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए मनुष्य तथा सामग्री की उचित संगठन तथा निर्देशन को लोक प्रशासन कहते हैं
यह एक सामूहिक प्रयास है जिसका लक्ष्य निर्धारित उद्देश्यों को प्राप्त करना हैं
सरकार द्वारा संपन्न सभी क्रियाएं जनहित की होती हैं इसलिए सरकारी कार्य के प्रशासन को भी लोक प्रशासन कहते हैं
लोक प्रशासन को परिभाषित करना कठिन कार्य है लोक प्रशासन की परिभाषा के संबंध में एक वैज्ञानिक मत नहीं है

इस कारण लोक प्रशासन की परिभाषाओं को लोक प्रशासन की व्यापकता प्रकृति क्षेत्र के आधार पर डॉक्टर mp शर्मा ने 4 भागों में वर्गीकृत किया गया है

1 प्रथम वर्ग➖
इस वर्ग में लोक प्रशासन की प्रकृति को व्यापक तथा विषय क्षेत्र को सीमित करने वाली परिभाषाएं आती है  जैसे

ह्वाइट की परिभाषा के अनुसार➖ प्रशासन का संबंध केवल नीतियों के क्रियान्वयन से है  इस वर्ग में वे सभी कार्य आते हैं जिनका उद्देश्य लोकनीति को पूरा करना होता है

2 दूसरे वर्ग➖
इस वर्ग में लोक प्रशासन की प्रकृति और क्षेत्र दोनों को सीमित करने वाली परिभाषाएं आती है जैसे

साइमन की परिभाषा के अनुसार➖सामान्य लोक प्रयोग के लोक प्रशासन से अभिप्राय उन क्रियाओं से हैं जो केंद्र राज्य अथवा स्थानीय सरकारों द्वारा संपादित की जाती है

3 तीसरा वर्ग➖
इस वर्ग में वह परिभाषाएं आती हैं जो लोक प्रशासन की प्रकृति को संकुचित करती है परंतु क्षेत्र को व्यापक मानकर चलती है इस वर्ग के विचारक गुलिक हैं

गुलिक के अनुसार➖लोक प्रशासन प्रशासन की विज्ञान का वह भाग है जिसका संबंध शासन से होता है इस प्रकार मुख्यतः इसका संबंध कार्यपालिका शाखा से है जहां सरकार का कार्य किया जाता है विधायिका तथा न्यायपालिका से संबंधित समस्याएं भी स्पष्ट रुप से प्रशासकीय समस्याए ही हैं

4 चतुर्थ वर्ग➖
इस वर्ग में वे परिभाषाएं आती हैं जो प्रकृति और क्षेत्र दोनों को व्यापक मान करचलती है  डिमाँक व पिफनर की परिभाषा इस वर्ग में आते हैं पिफनर के अनुसार प्रशासन काअभिप्राय➖ जनता का सहयोग प्राप्त करके सरकार के कार्य का संचालन करना है यह सभी परिभाषाएं लोक प्रशासन को 2 क्षेत्रों में विभाजित करती हैं

विषय वस्तु और प्रक्रिया एवं विधि- लोक प्रशासन में सार्वजनिक पहलू का प्रभाव अधिक रहता है  इस कारण लोक प्रशासन जो सामान्य जनता के लिए होता है जन प्रशासन या लोक प्रशासन कहलाता है

PLAY QUIZ 

NO of Question – 20

[wp_quiz id=”446″]

 

Specially thanks to ( With Respects )-

ममता शर्मा, दीपक मीना सीकर

Leave a Reply