Currency Definition and Function

मुद्रा की परिभाषा एवं कार्य 

मुद्रा की परिभाषा ( Currency Definition )

मुद्रा एक ऐसा मूल्यवान रिकॉर्ड है या आमतौर पर वस्तुओं और सेवाओं के लिए भुगतान के रूप में स्वीकार किया जाने वाला तथ्य है मुद्रा यह एक सामाजिक-आर्थिक संदर्भ के अनुसार ऋण के पुनर्भुगतान के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता हैं।

अंग्रेजी भाषा में मुद्रा को Money कहा जाता है अंग्रेजी भाषा के शब्द Money की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द Moneta से हुई है रोम में पहली टकसाल देवी मोनेटा के मंदिर में स्थापित की गई थी

इस टकसाल से उत्पादित सिक्को का नाम देवी मोनेटा के नाम पर मनी पड़ गया था और धीरे-धीरे मुद्रा के लिए सामने रूप से मनी शब्द का उपयोग किया जाने लगा ऐसा माना जाता है कि सीन के साथ-साथ भारत में भी विश्व के प्रथम सिक्के जारी करने वाले देशों में से एक हैं भारतीय सिक्कों का इतिहास ईसा पूर्व से प्रारंभ हो जाता है

उत्खनन में मिले मौर्य काल के चांदी के सिक्के इस बात को सूचित करते हैं कि भारत में इससे पूर्व भी सिक्को का प्रयोग आरंभ हो गया था भारत में पहला रुपया शेरशाह सूरी द्वारा 1540-45 ईसवी में जारी किया गया था वर्तमान में भारत में 50 पैसे ₹1 ₹2 ₹5 ₹10 के मूल्य वर्गों के सिक्के जारी किए जा रहे हैं साथ ही भारत के केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा ₹10 ₹20 ₹50 500 रु तथा ₹2000 मूल्य वर्ग के बैंक नोट जारी किए जा रहे हैं

रुपए ₹1रू 5 के बैंक नोटों का उत्पादन वर्तमान में बंद कर दिया गया है लेकिन यह चलन में बने हुए हैं 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी ने प्रचलित ₹500 तथा ₹1000के नोटों का विमुद्रीकरण की घोषणा कर दी

विमुद्रीकरण ( Demonetization )– प्रचलित मुद्रा की कानूनी वैधता समाप्त करके उसे प्रचलन से हटाना ही विमुद्रीकरण कहलाता है

मुद्रा की भूमिका-

विनिमय का माध्यम ( Medium of exchange )

  1. खाते की काया मूल्य का मापक
  2. विलंबित भुगतान की मानक
  3. मूल्य का भंडार

Quiz 

Question- 30

[wp_quiz id=”5489″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

महेन्द्र चौहान, प्रभुदयाल मूडं, चूरु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *