Table of Contents

मूल अधिकार का अर्थ

मूल अधिकारों की व्यवस्था भारत के संविधान की प्रमुख विशेषताएं हैं मूल अधिकार उन अधिकारों को कहा जाता है जो व्यक्ति के लिए मौलिक तथा अनिवार्य होने के कारण संविधान द्वारा प्रदान किए जाते हैं और जिन अधिकारों में राज्य द्वारा हस्तक्षेप भी नहीं किया जा सकता

मूल अधिकार का महत्व

मौलिक अधिकारों को मूल विधि या संविधान के स्थान पर प्रदान किया जाता है इन्हें संविधान संशोधन की विशिष्ट विधि द्वारा परिवर्तित किया जा सकता है इनका राज्य द्वारा अतिक्रमण नहीं किया जा सकता है दूसरे शब्दों में यह राज्य कि व्यक्ति के विरुद्ध स्वेच्छाचारिता पर रोक हैं मौलिक अधिकार प्रजातंत्र के आधार स्तंभ है इन के अभाव में व्यक्ति का सर्वांगीण विकास संभव नहीं है मौलिक अधिकारों को न्याय की सुरक्षा भी प्राप्त होती है इनका किसी भी प्रकार से उल्लंघन होने से नागरिक न्यायालय का संरक्षण प्राप्त कर सकता है

भारतीय संविधान में मौलिक अधिकार

संविधान के भाग 3 में अनुच्छेद 12 से 35 तक मूल अधिकारों का विवरण है संविधान के भाग 3 को “भारत का मैग्ना कार्टा” की संज्ञा दी गई है । मुलसंविधान में सात मौलिक अधिकार थे परंतु 44 वें संविधान संशोधन 1979 द्वारा संपत्ति के अधिकार को मौलिक अधिकारों की सूची से हटा दिया गया अब यह केवल कानूनी अधिकार है वर्तमान में भारतीय संविधान को छह मौलिक अधिकार प्राप्त है

  1. समानता का अधिकार अनुच्छेद(14-18)
  2. स्वतंत्रता का अधिकार अनुच्छेद(19-22)
  3. शोषण के विरुद्ध अधिकार अनुच्छेद(23-24)
  4. धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार अनुच्छेद (25-28)
  5. सांस्कृतिक एवं शिक्षा संबंधी अधिकार अनुच्छेद(29-30)
  6. संपत्ति का अधिकार अनुच्छेद 31
  7. संवैधानिक उपचारों का अधिकार अनुच्छेद 32

हालांकि संपत्ति के अधिकार को 44 वें संविधान अधिनियम 1978 द्वारा मूल अधिकारों की सूची से हटा दिया गया है इसे संविधान भाग XII अनुच्छेद 300- का के तहत कानूनी अधिकार बना दिया गया है इस तरह फिलहाल 6 मूल अधिकार हैं .

1. समता का अधिकार (अनुच्छेद 14 से 18 तक)

1- विधि के समक्ष समता एवं विधियों का समान संरक्षण | अनुच्छेद 14
2- धर्म, मूलवंश, लिंग और जन्म स्थान के आधार पर विभेद का प्रतिषेध | अनुच्छेद 15
3- लोक नियोजन के विषय में अवसर की समता | अनुच्छेद 16
4- अस्पृश्यता का अंत और उसका आचरण निषिद्ध | अनुच्छेद 17
5- सेना या विद्या संबंधी सम्मान के सिवाय सभी उपाधियों पर रोक अनुच्छेद 18

2. स्वतंत्रता का अधिकार (अनुच्छेद 19 से 22 तक)

1- 6 स्वतंत्रताओं की सुरक्षा 1 वाक् एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता
2- सम्मेलन की स्वतंत्रता
3- संघ बनाने की स्वतंत्रता
4- संचरण की स्वतंत्रता
5- निवास की स्वतंत्रता
6- वृत्ति की स्वतंत्रता (अनुच्छेद 19)

2- अपराधों के लिए दोषसिद्धि के संबंध में संरक्षण (अनुच्छेद 20)
3- प्राण एवं दैहिक स्वतंत्रता का संरक्षण (अनुच्छेद 21)
4- प्रारंभिक शिक्षा का अधिकार (अनुच्छेद 21)
5- कुछ दशाओं में गिरफ्तारी और निरोध से संरक्षण (अनुच्छेद 22)

3. शोषण के विरुद्ध अधिकार अनुच्छेद 23 एवं 24

1- बलात श्रम का प्रतिषेध अनुच्छेद 23
2- कारखानों आदि में बच्चों के नियोजन का प्रतिषेध अनुच्छेद 24

4. धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार अनुच्छेद 25 से 28 तक

1- अंतकरण की और धर्म के अबाध रूप से मानने, आचरण और प्रचार करने की स्वतंत्रता अनुच्छेद 25
2- धार्मिक कार्यों के प्रबंध की स्वतंत्रता अनुच्छेद 26
3- किसी धर्म की अभिवृद्धि के लिए करो संदाय के बारे में स्वतंत्रता अनुच्छेद 27
4- कुछ शिक्षण संस्थाओं में धार्मिक शिक्षा या धार्मिक उपासना में उपस्थित होने के बारे में स्वतंत्रता अनुच्छेद 28

5. संस्कृति और शिक्षा संबंधी अधिकार अनुच्छेद 29 एवं 30

1- अल्पसंख्यकों की भाषा, लिपि और संस्कृति की सुरक्षा अनुच्छेद 29
2- शिक्षण संस्थानों की स्थापना और प्रशासन करने का अल्पसंख्यक वर्गों का अधिकार अनुच्छेद 30

6. संवैधानिक उपचारों का अधिकार अनुच्छेद 32

मूल अधिकारों को प्रवर्तित कराने के लिए उच्चतम न्यायालय जाने का अधिकार | इसमें 5 याचिकाएं शामिल है
1- बंदी प्रत्यक्षीकरण
2- परमादेश
3- प्रतिषेध
4- उत्प्रेषण
5- अधिकार पृच्छा

मौलिक अधिकारों का अभिप्राय-

  1. मौलिक अधिकारों को लागु करने के लिए अनुच्छेद 32 के अंतर्गत सीधे उच्चतम न्यायालय में जा सकते हैं।
  2. मौलिक अधिकार ,राज्य के विरुद्ध प्राप्त होते हैं।
  3. मौलिक अधिकार ,संविधान के अन्य भागो में दिए गए अधिकारों से महत्वपूर्ण होते है।

भारतीय नागरिकों को प्राप्त मूल अधिकार

1 केवल धर्,म मूलवंश, जाति, लिंग, जन्म स्थान के आधार पर विभेद का प्रतिषेध (अनुच्छेद 15)
2 लोक नियोजन के विषय में अवसर की समता (अनुच्छेद 16) |
3 विचार, अभिव्यक्ति, शांतिपूर्ण सम्मेलन, निर्बाध विचरण एवं निवास तथा संघ बनाने की स्वतंत्रता (अनुच्छेद 19) |
4 अल्पसंख्यकों को शिक्षा एवं संस्कृति संबंधी (अनुच्छेद 29) |
5 अल्पसंख्यकों को अपने धर्म के प्रचार हेतु शिक्षण संस्थाओं की स्थापना का अधिकार (अनुच्छेद 30) |

भारतीय नागरिकों एवं विदेशियों को प्राप्त मूल अधिकार (केवल शत्रु देश के लोगों को छोड़कर)

1 विधि के समक्ष समता और विधियों का समान संरक्षण (अनुच्छेद 14) |
2 अपराधों के लिए दोषसिद्धि के संबंध में संरक्षण (अनुच्छेद 20) |
3 प्राण एवं दैहिक स्वतंत्रता का संरक्षण (अनुच्छेद 21) |
4 प्रारंभिक शिक्षा का अधिकार (अनुच्छेद 21) |
5 कुछ मामलों में हिरासत एवं नजरबंदी से सरंक्षण (अनुच्छेद 22) |
6 बलात श्रम एवं अवैध मानव व्यापार के विरुद्ध प्रतिषेध (अनुच्छेद 23) |
7 कारखानों आदि में बच्चों के नियोजन का प्रतिषेध (अनुच्छेद 24) |
8 धर्म की अभिवृद्धि के लिए प्रयास करने की स्वतंत्रता (अनुच्छेद 25) |
9 धार्मिक संस्थाओं के संचालन की स्वतंत्रता (अनुच्छेद 26) |
10 किसी धर्म को प्रोत्साहित करने हेतु कर से छूट (अनुच्छेद 27) |
11 कुछ विशिष्ट संस्थाओं में धार्मिक आदेशों को जारी करने की स्वतंत्रता (अनुच्छेद 28) |

Play Quiz 

No of Questions-15 

[wp_quiz id=”1758″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

महेन्द्र चौहान, सूरज पाल सिंह चौहान, Naveen Kumar. पूनम जी छिंपा हनुमानगढ़, मुकेश पारीक ओसियाँ

Leave a Reply