अक्षांश तथा देशांतर रेखाएं ( Latitude and Longitude lines )

अक्षांश ( Latitude )

भूमध्य रेखा से भूतल पर स्थित किसी बिंदु की पृथ्वी के केंद्र से नापी गई कोणिक दूरी को अंक्षाश कहते हैं।  ग्लोब पर भूमध्य रेखा शून्य अंश अक्षांश (0°) से प्रदर्शित की जाती है।

जिसके उत्तर और दक्षिण की ओर अक्षांश का मान क्रमशः बढ़ता जाता है। ओर ध्रुव 90° अक्षांश द्रारा प्रदर्शित होते हैं। उत्तरी ध्रुव का अक्षांश 90° उतर तथा दक्षिणी ध्रुव का अक्षांश 90° दक्षिण होता हैं।

विषुवत वृत के उतर की सभी समांतर रेखाओं को उत्तरी अक्षांश तथा विषुवत वृत्त के दक्षिण में स्थित सभी समानांतर रेखाओं को दक्षिण अक्षांश कहा जाता हैं। इसलिए प्रत्येक अक्षांश के मान के साथ उसकी दिशा यानी उत्तर या दक्षिण को भी लिखा जाता है।

दो अक्षांश रेखाओं के मध्य की दूरी भूतल पर सर्वत्र लगभग समान होती है किंतु ध्रुवों के कुछ चपटपने के कारण ध्रुवीय भाग में यह दूरी कुछ बढ़ जाती हैं। भूमध्य रेखा पर 1° अक्षांश की दूरी 110.569 km. तथा ध्रुवो पर 111.700km. होती हैं।

देशांतर (  )

ग्लोबस समान देशांतरण वाले स्थानों को मिलाने वाली रेखाएं देशांतर रेखाएं या याम्योत्तर कहलाती है  प्रत्येक देशांतर रेखा एक वृहत वृत होता हैं।

Quiz 

Question – 13

[wp_quiz id=”6081″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

प्रभुदयाल मूडं चूरु,  सन्दीप मोखरियां, बुहाना, झुंझुनू, धर्मवीर शर्मा अलवर, चित्रकूट त्रिपाठी श्रीगंगानगर

Leave a Reply