भाषा की वह छोटी से छोटी इकाई जिसके टुकड़े नहीं किए जा सकते हो वर्ण कहलाते हैं वर्णों के मेल से शब्द बनते हैं शब्दों के मेल से वाक्य तथा वाक्यों के मेल से भाषा बनती है अतः वर्ण ही भाषा का मूल आधार है

हिंदी में वर्णों की संख्या 44 है मुंह से उच्चरित होने वाली ध्वनियों और लिखे जाने वाले इन वर्णो को दो भागों में बांटा जाता है
१- स्वर
२- व्यंजन

स्वर- जो बिना किसी स्वर (वर्ण)की सहायता के बोले जा सकते हैं वह स्वर कहलाते हैं यह 11 है

व्यंजन- जो स्वरों की सहायता से बोले जाते हैं वह व्यंजन कहलाते हैं मूल रूप से व्यंजन स्वर रहित होते हैं

वर्णो के उच्चारित स्थान

          वर्ण.          उच्चारण स्थान
क वर्ग अआ(ः) ह–कंठ
च वर्ग इ ई य श——तालु
ट वर्ग ष र ड़ ढ़——मूर्द्धा
त वर्ग ल स————-दाँत
प वर्ग उ ऊ ————ओष्ट
ए ऐ—————–कंठतालु
व-_————–दन्तोष्ट
ओ औ————-कंठोष्ट
नासिक्य-ड ण ञ न म
अन्तस्थ–य र ल व
ऊष्म— श ष स ह
संयुक्त— क्ष त्र ज्ञ श्र

 

Play Quiz 

No of Questions- 12

[wp_quiz id=”2659″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

शान्ति जी जजोरिया अजमेर, गरिमा अमित उपाध्याय कुचामन सिटी नागौर, लोकेश स्वामी 

Leave a Reply