How to achieve your goal ( अपना लक्ष्य कैसे प्राप्त करें )

आपने कभी बहती हुई नदी को देखा होगा वह अपने उद्गम स्थल से तेज बहाव के साथ बहते हुए अपने लक्ष्य (सागर)की ओर आगे आगे बढ़ती है मार्ग में हजारों बाधाएं आती है फिर भी हार नहीं मानते हुऐ नदी नहीं रुकती भले ही उसकी गति धीमी हो जाएगी लेकिन वह निरंतर अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ते हुए समुद्र में जाकर मिल जाती है,

सोचिए अगर नदी अपने मार्ग में आई परेशानी, कठिनाई को देख कर रुक जाती तो एक दिन वह सूख कर नष्ट हो जाती है लेकिन नदी ने अपने मार्ग की हजारों बाधाओं को अपने निरंतर प्रयास से पार करते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त किया

साथियों हमारा जीवन भी इसी प्रकार का है हमें भी अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयास करना पड़ेगा और जो व्यक्ति शुरुआत में ही हार मान लेते हैं उन्हें केवल असफलता प्राप्त होती है और वह अपने भाग्य को कोसते हैं

अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पहली शर्त है निरंतर नदी की तरह बहते हुए लगातार कठिन परिश्रम करते रहना अपने लक्ष्य को प्राप्त करना

अगर हमें अपना लक्ष्य प्राप्त करना है तो मन में एक दृढ़ विश्वास के साथ एक विचार विकसित करना आवश्यक होगा कि लगातार परिश्रम किया जाए जाए मार्ग मे कितनी बाधाएं आए, लेकिन हमें अपना लक्ष्य प्राप्त करना ही है

जिन व्यक्तियों का कॉन्फिडेंस लेवल कमजोर होता है या जो व्यक्ति मेहनत नहीं करना चाहते वह शुरुआती प्रयास किए बिना ही हार मान लेते हैं और सफलता की ओर बढ़ते जाते हैं लेकिन सामान्य ज्ञान ग्रुप के सभी सदस्य निरंतर परिश्रम करते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त कर रहे हैं और सभी सदस्यों से भी अपेक्षा है कि वह भी निरंतर प्रयास करते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करें

क्योंकि दुनिया में हर व्यक्ति सफल नहीं हो सकता अगर बिना प्रयास के हर व्यक्ति सफल होता तो असफलता नाम का शब्द कहीं नहीं होता इसीलिए हमें कठिन परिश्रम की आवश्यकता है तभी हम सफलता के शिखर को प्राप्त कर सकते हैं

हमारे शरीर में दिल धड़कता है केवल हमे अपने लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए

हमारे शरीर में निरंतर खून की बूंदे चलती रहती है केवल इसलिए कि हम जीवित रह सके और अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके

लेकिन मानव प्राणी ऐसा होता है कि जरा सी असफलता से हार मान कर बैठ जाता है और निरंतर परिश्रम करने का प्रयास नहीं करता और भाग्य को कोसता रहता है

समय निरंतर चलता रहता है इसीलिए दुनिया समय की गुलाम है

हवा निरंतर बहती है चाहे उसकी गति धीमी या तेज हो लगातार बहती है इसीलिए कोई भी मनुष्य हवा के बिना नहीं रह सकता

इसीलिए साथियों अगर आपको अपना लक्ष्य प्राप्त करना है सफलता के शिखर पर चढ़ना है तो मन में आज ही यह फैसला ले लीजिए कि हमें निरंतर कठिन परिश्रम करना है जब तक कि हम अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर ले क्योंकि सफलता की सबसे बड़ी शर्त कठिन परिश्रम ही है

आशा है कि आपको हमारे विचार पसंद अवश्य आए होंगे

Specially thanks to Post writer ( With Regards )

Mamta Sharma Kota

Leave a Reply