Please support us by sharing on

Literature of Ancient India

( प्राचीन भारत के साहित्य )

धार्मिक साहित्य स्रोत ( Religious literature source )

धार्मिक साहित्य के अन्तर्गत ब्राह्मण तथा ब्राह्मणेत्तर साहित्य की चर्चा की जाती है।

ब्राह्मण ग्रन्थों में – वेद, उपनिषद, रामायण, महाभारत, पुराण, स्मृति ग्रन्थ आते हैं। ब्राह्मणेत्तर ग्रन्थों में जैन तथा बौद्ध ग्रन्थों को सम्मिलित किया जाता है।
ब्राह्मण धर्म ग्रंथ  – प्राचीन काल से ही भारत के धर्म प्रधान देश होने के कारण यहां प्रायः तीन धार्मिक धारायें- वैदिक, जैन एवं बौद्ध प्रवाहित हुईं। वैदिक धर्म ग्रन्थ को ब्राह्मण धर्म ग्रन्थ भी कहा जाता है।

ब्राह्मण धर्म – ग्रंथ के अन्तर्गत वेद, उपनिषद्, महाकाव्य तथा स्मृति ग्रंथों को शामिल किया जाता है।

वेद

वेद एक महत्त्वपूर्ण ब्राह्मण धर्म-ग्रंथ है। वेद शब्द का अर्थ ‘ज्ञान‘ महतज्ञान अर्थात ‘पवित्र एवं आध्यात्मिक ज्ञान‘ है। यह शब्द संस्कृत के ‘विद्‘ धातु से बना है जिसका अर्थ है जानना। वेदों के संकलनकर्ता ‘कृष्ण द्वैपायन’ थे। कृष्ण द्वैपायन को वेदों के पृथक्करण-व्यास के कारण ‘वेदव्यास’ की संज्ञा प्राप्त हुई।

वेदों से ही हमें आर्यो के विषय में प्रारम्भिक जानकारी मिलती है। कुछ लोग वेदों को अपौरुषेय अर्थात दैवकृत मानते हैं। वेदों की कुल संख्या चार है-

  • ऋग्वेद- यह ऋचाओं का संग्रह है।
  • सामवेद- यह ऋचाओं का संग्रह है।
  • यजुर्वेद- इसमें यागानुष्ठान के लिए विनियोग वाक्यों का समावेश है।
  • अथर्ववेद- यह तंत्र-मंत्रों का संग्रह है।

उपनिषद

उपनिषदों की कुल संख्या 108 है। भारत का प्रसिद्ध आदर्श वाक्य ‘सत्यमेव जयते’ मुण्डोपनिषद से लिया गया है। उपनिषद गद्य और पद्य दोनों में हैं, जिसमें प्रश्न, माण्डूक्य, केन, तैत्तिरीय, ऐतरेय, छान्दोग्य, बृहदारण्यक और कौषीतकि उपनिषद गद्य में हैं तथा केन, ईश, कठ और श्वेताश्वतर उपनिषद पद्य में हैं।

वेदांग

वेदांग शब्द से अभिप्राय है- ‘जिसके द्वारा किसी वस्तु के स्वरूप को समझने में सहायता मिले’। वेदांगो की कुल संख्या 6 है, जो इस प्रकार है-

  1. शिक्षा
  2. कल्प
  3. व्याकरण
  4. निरूक्त
  5. छन्द
  6. ज्योतिष

धर्मशास्त्र

ब्राह्मण ग्रन्थों में धर्मशास्त्र का महत्त्वपूर्ण स्थान है। धर्मशास्त्र में चार साहित्य आते हैं-

  1. धर्म सूत्र
  2. स्मृति,
  3. टीका
  4. निबन्ध

स्मृतियाँ

स्मृतियों को ‘धर्म शास्त्र’ भी कहा जाता है।’स्मृतियों का उदय सूत्रों को बाद हुआ। मनुष्य के पूरे जीवन से सम्बधित अनेक क्रिया-कलापों के बारे में असंख्य विधि-निषेधों की जानकारी इन स्मृतियों से मिलती है।

सम्भवतः मनुस्मृति (लगभग 200 ई.पूर्व. से 100 ई. मध्य) एवं याज्ञवल्क्य स्मृति सबसे प्राचीन हैं। उस समय के अन्य महत्त्वपूर्ण स्मृतिकार थे- नारद, पराशर, बृहस्पति, कात्यायन, गौतम, संवर्त, हरीत, अंगिरा आदि, जिनका समय सम्भवतः 100 ई. से लेकर 600 ई. तक था। मनुस्मृति से

उस समय केभारत के बारे में राजनीतिक, सामाजिक एवं धार्मिक जानकारी मिलती है। 

नारद स्मृति से गुप्त वंश के संदर्भ में जानकारी मिलती है। मेधातिथि, मारुचि, कुल्लूक भट्ट, गोविन्दराज आदि टीकाकारों ने ‘मनुस्मृति’ पर, जबकि विश्वरूप, अपरार्क, विज्ञानेश्वर आदि ने ‘याज्ञवल्क्य स्मृति’ पर भाष्य लिखे हैं।

महाकाव्य

‘रामायण’ एवं ‘महाभारत’, भारत के दो सर्वाधिक प्राचीन महाकाव्य हैं।  महाकाव्यों का रचनाकाल चौथी शती ई.पू. से चौथी शती ई. के मध्य माना गया है।

 

Quiz 

Question – 12 

0%

Q1 सबसे पहले चमड़े पर बने चित्र का उल्लेख प्राप्त होता है

Correct! Wrong!

Q2 अजंता में गुफाओं के प्रकार के हैं

Correct! Wrong!

Q3 देव शैली, यक्ष शैली, नाग शैली है

Correct! Wrong!

Q4 गुर्जर शैली कहा जाता है

Correct! Wrong!

Q5 भारतीय चित्रकला के इतिहास में कागज पर की गई चित्रकला की दिशा में किस शैली का प्रथम स्थान है वह है

Correct! Wrong!

Q6 बीजापुर, गोलकुंडा एवं अहमदनगर में तैयार की गई रंगवाला चित्रकारी किस शैली की श्रेष्ठ रचना है

Correct! Wrong!

Q7 मुगल काल में हुमायूं ने सर्वप्रथम शुरुआत की थी

Correct! Wrong!

Q8 मुगल काल में चित्रों में दो प्रकार के चित्र शैलियों का मिश्रण है वह है

Correct! Wrong!

Q9 तिब्बती चित्र शैली है

Correct! Wrong!

Q10 द्रविड़ शैली का जीवंत नमूना है

Correct! Wrong!

Q11 स्थापत्य कला की दृष्टि से मध्यकाल का स्वर्ण काल माना जाता है

Correct! Wrong!

Q12 बोधगया के स्तूप का निर्माण हुआ

Correct! Wrong!

Literature of Ancient India Quiz ( प्राचीन भारत के साहित्य )
बहुत खराब ! आपके कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
खराब ! आप कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया ! अधिक तैयारी की जरूरत है
बहुत अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया! तैयारी की जरूरत है
शानदार ! आपका प्रश्नोत्तरी सही है! ऐसे ही आगे भी करते रहे

Share your Results:

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

नागर, निर्मला कुमारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *