राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य हैं और इसका क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किलोमीटर है प्रशासनिक रूप से यह 7 संभागों, 33 जिलो, 295 पंचायत समितियों और 9,894 ग्राम पंचायतों में विभक्त है राजस्थान की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है राजस्थान का आर्थिक विकास सकल घरेलू उत्पाद को आधार बनाकर मापा जाता है
आमतौर पर प्रदेश की आर्थिक स्थिति मापने के लिए राज्य की सीमा में 1 वर्ष में अंतिम रूप से उत्पादित वस्तुओं एवं सेवाओं की कुल मौद्रिक मूल्य को सकल घरेलू उत्पाद के तौर में जोड़ा जाता है वर्ष 2016-17 के अग्रिम अनुमानों की अनुसार प्रचलित कीमतों पर सकल घरेलू उत्पाद अनुमान 7,49,692 करोड़ अनुमानित किया गया है वर्ष 2015-16 में अग्रिम अनुमानों के अनुसार प्रचलित कीमतों पर सकल घरेलू उत्पाद अनुमान 6,72,707 करोड़ अनुमानित है
इस गणना के हिसाब से वर्ष 2016-17 में राज्य के सकल घरेलू उत्पाद में 11•44% की वृद्धि दर्ज की गई है। राज्य के सकल मूल्य संवर्धन में कृषि क्षेत्र का 26•49 %, उद्योग का 26•89 प्रतिशत और सेवाओं में 46•10% का योगदान है (प्रचलित कीमतों पर)

2016-17 में राजस्थान में (2011-12) की स्थिर कीमतों पर प्रति व्यक्ति आय 69,000 हजार 730 रूपये सलाना और प्रचलित कीमतों पर 90000 हजार से 447 सालाना है राजस्थान में कृषि वर्ष 2016-17 के दौरान खाद्यान्न का कुल उत्पादन 213•12 लाख मेट्रिक टन होने की संभावना थी जोकि कृषि वर्ष 2015-16 के 182•98 मेट्रिक टन की तुलना में 16•45% की वृद्धि को दर्शाता है राज्य में बैंकिंग का अच्छा विकास हुआ है और राज्य में सितंबर 2016 तक 6822 बैंक कार्यालय और शाखाएं हैं जिनमें से 2827 राष्ट्रीयकृत बैंक,1546 State Bank of India,1440 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक,983 निजी क्षेत्र के बैंक,6 विदेशी बैंक की शाखाएं हैं।

अर्थव्यवस्था का संक्षिप्त परिचय (Brief introduction of the economy)

भारत की अर्थव्यवस्था में राजस्थान का महत्वपूर्ण स्थान हैं।राजस्थान का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किलोमीटर हैं। क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य हैं। राजस्थान की जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार 6•86 करोड़ हो गई हैं। राज्य में पूरे देश की जनसंख्या 121•02 करोड़ का 5•67 प्रतिशत भाग निवास करता हैं।
क्षेत्रफल और जनसंख्या की दृष्टि से राजस्थान की महत्ता सहज रूप से स्पष्ट होती हैं। अर्थव्यवस्था के विकास की गति को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक और मानव संसाधन महत्वपूर्ण हैं।राजस्थान इन दोनों दृष्टि से समृद्ध प्रांत हैं। प्राकृतिक संसाधनों में खनिजों की भरपूर उपलब्धता के कारण भारत में राजस्थान “खनिजों का अजायबघर”के नाम से जाना जाता हैं।खनिज संपदा के बल पर आज राजस्थान देश के औधोगिक परिदृश्य में तेजी से उभर रहा हैं।

उधोगों के साथ साथ यहाँ की अर्थव्यवस्था में कृषि का बहुत बड़ा योगदान हैं।राजस्थान की प्रमुख फसलें ज्वार, बाजरा, मक्का, चावल, जौ, चना, गेहूँ, तिलहन, दालें, कपास और तम्बाकू हैं।

राजस्थान में पिछले कुछ वर्षों में सब्जियों तथा संतरा, नींबू, आँवला, अमरूद आदि फलों के उत्पादन में काफी वृद्धि हुई हैं। राजस्थान की अर्थव्यवस्था में मानव संसाधन की भूमिका बढ़ गई। उल्लेखनीय है,राजस्थान की साक्षरता दर 1991में 38•55 प्रतिशत थी। वर्ष 2001 की जनगणना में राजस्थान की साक्षरता दर बढ़कर 60•41 हो गईं। वर्ष 2001में राजस्थान साक्षरता दर में उत्तरप्रदेश,अरूणाचल प्रदेश,जम्मू कश्मीर,झारखंड,दादर और नगर हवेली से आगे बढ़ गयी।

राजस्थान ने हाल ही उच्च शिक्षा के क्षेत्र में तीव्र प्रगति की हैं।राजस्थान में विश्वविद्यालयों की संख्या में वृद्धि हो रही हैं।इस श्रृंखला में अजमेर केन्द्रीय विश्वविद्यालय खुलना महत्वपूर्ण हैं।जोधपुर में आईं आई टी का खुलना बड़ी उपलब्धि हैं।

सिंचाई की व्यवस्था ( Irrigation system )

अत्यधिक शुष्क भूमि के कारण राजस्थान को बड़े पैमाने पर सिंचाई की आवश्यकता है। जल की आपूर्ति पंजाब की नदियों, पश्चिमी यमुना (हरियाणा) और आगरा नहर (उत्तर प्रदेश) तथा दक्षिण में साबरमती व ‘नर्मदा सागर परियोजना’ से होती है। यहाँ हज़ारों की संख्या में जलाशय (ग्रामीण तालाब व झील) हैं, लेकिन वे सूखे व गाद से प्रभावित हैं।

‘राजस्थान भांखड़ा परियोजना’ में पंजाब और ‘चंबल घाटी परियोजना’ में मध्य प्रदेश का साझेदार राज्य है। दोनों परियोजनाओं से प्राप्त जल का उपयोग सिंचाई व पेयजल आपूर्ति के लिए किया जाता है।

 1980 के दशक के मध्य में स्वर्गीय प्रधानमंत्री की स्मृति में ‘राजस्थान नहर’ का नाम बदलकर ‘इंदिरा गांधी नहर’ रखा गया, जो पंजाब की सतलुज और व्यास नदियों के पानी को लगभग 644 किलोमीटर की दूरी तक ले जाती है और पश्चिमोत्तर व पश्चिमी राजस्थान की मरुभूमि की सिंचाई करती है।  ‘इन्दिरा गाँधी नहर’ को मरु की गंगा भी कहते हैं

यह राजस्थान प्रदेश के उत्तर-पश्चिम भाग में बहती है। इस नहर का उद्घाटन 31 मार्च 1958 को हुआ, जबकि दो नवंबर 1984 को इसका नाम इंदिरा गांधी नहर परियोजना कर दिया गया।

थोक एवं उपभोक्ता मूल्य सूचकांक

  • राज्य का सामान्य थोक मूल्य सूचकांक (आधार वर्ष 1999 -2000 =100)वर्ष 2016 के 282.261 से बढ़कर वर्ष 2017 (नवंबर 2017 तक )में 290.55 हो गया है जो कि गत वर्ष से 2.81 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है
  • गत वर्षो से प्राथमिक वस्तु समूह के सूचकांक में 2.61 प्रतिशत की कमी जबकि ईंधन शक्ति प्रकाश और उप स्नेहक समूह के सूचकांक में 9.26 प्रतिशत और विनिर्मित उत्पाद समूह के सूचकांक में 4.04 प्रतिशत की वृद्धि हुई है
  • जबकि अखिल भारतीय स्तर पर सामान्य थोक मूल्य सूचकांक ( आधार वर्ष 2011- 12=100) में वर्ष 2017 (नवंबर 2017 तक) में 3.26 प्रतिशत की औसत वृद्धि हुई है
  • वर्ष 2017 के दौरान औद्योगिक श्रमिकों के उपभोक्त मूल्य सूचकांक में निरंतर वृद्धि की प्रवृत्ति देखी गई है वर्ष 2017 में (नवंबर 2017 तक )सामान्य उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (आधार वर्ष 2001-=100)में गत वर्ष से जयपुर केंद्र पर 4.28% अजमेर केंद्र पर 1.17% और भीलवाड़ा केंद्र पर 1.86 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है

बैंकिंग एवं वित्त ( Banking and finance )

  • ✍? राज्य में बैंकिंग और वित्तीय व्यवस्था का व्यापक तंत्र विद्यमान है राज्य में सितंबर 2017 तक 6957 बैंक कार्यालय शाखाएं हैं जिनमें से 4340 राष्ट्रीयकृत बैंक (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और उसके सहयोगी बैंकों सहित) 1498 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक 1081 निजी क्षेत्र के बैंक 6 विदेशी बैंक और 32 लघु वित्तीय बैंक हैं
  • ✍? राज्य में सितंबर 2017 तक जमाओ में सितंबर 2016 के सापेक्ष 14.86 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई है जबकि इसी अवधि में अखिल भारतीय स्तर पर यह वृद्धि 8.23 प्रतिशत रही है
  • ✍? सितंबर 2017 तक राजस्थान में समस्त अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों का साख जमा अनुपात 68.64 प्रतिशत है और अखिल भारतीय स्तर पर इसी अवधि में यह अनुपात 73.27% रहा
  • ✍? जबकि सितंबर 2016 तक राजस्थान में अनुपात 70.61% था और अखिल भारतीय स्तर पर 74 46% रहा

उद्योग (  Industry )

  • ✍?राज्य में वर्तमान में उद्यमियों को इनपुट प्रदान करने और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु उद्योग विभाग के अधीन 36 जिला उद्योग केंद्र और आठ उप केंद्र कार्यरत हैं
  • ✍?नये सिंगल विंडो क्लीयरेंस सिस्टम के अंतर्गत 1 जून 2016 से 31 दिसंबर 2017 तक स्वीकृति/अनुमोदन के लिए कुल 5489 आवेदन प्राप्त हुए इसमें से 3791 आवेदनों को स्वीकृति अनुमोदन दिया जा चुका है
  • ✍?राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास और विनियोजन निगम लिमिटेड (रीको )राज्य के औद्योगिक विकास को गति देने वाला शीर्षस्थ संगठन है
  • ✍?वित्तीय वर्ष 2017-18 में दिसंबर 2017 तक निगम द्वारा ₹50.65 करोड़ के सावधि ऋण की स्वीकृति दी गई ₹29.37 करोड़ के ऋण वितरित किए गए और ₹153.16 करोड़ के ऋण की वसूली की गई

ऊर्जा ( Energy )

  • ✍?राज्य में ऊर्जा उत्पादन के प्रमुख स्त्रोत कोटा व सूरतगढ़ तापीय संयंत्र ,धोलपुर गैस तापीय संयंत्र ,माही पनबिजली परियोजना ,पवन ऊर्जा ,बायोमास, केप्टिव ऊर्जा संयंत्र ,भाखड़ा ब्यास, चंबल, सतपुड़ा, अंतर राज्य भागीदारी परियोजनाएं राजस्थान परमाणु ऊर्जा संयंत्र और सिंगरोली रिहंद दादरी अंता औरैया दादरी गैस संयंत्र ऊंचाहार तापीय और टनकपुर सलाल चमेरा और उरी जलविद्युत केंद्रीय परियोजनाएं हैं
  • ✍?राज्य में मार्च 2017 तक ऊर्जा की अधिष्ठापित क्षमता 18,677.18 मेगावाट थी । वर्ष 2017-18 में (दिसंबर 2017 तक) 859.59 मेगा वाट की वृद्धि हुई इस प्रकार दिसंबर 2017 तक अधिष्ठापित क्षमता बढ़कर 19,536.77 मेगा वाट हो गई है
  • ✍?राजस्थान में बहुत कम औसत वर्षा है राज्य अधिकतम सौर विकिरण तीव्रता से समृद्ध राज्य में दिसंबर 2017 तक 2,258.50 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित हो चुके हैं
  • ✍?राज्य में पवन ऊर्जा की अनुमानित क्षमता लगभग 18,770 मेगावाट (सौ मीटर की ऊंचाई पर) है राज्य में दिसंबर 2017 तक पवन ऊर्जा में कुल 4,292.5 मेगावाट क्षमता स्थापित की जा चुकी है
  • ✍?विभिन्न प्रकार के गैर पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों में से बायोमास ऊर्जा का बहुमुखी स्त्रोत है जो कि स्वच्छ होने के साथ-साथ ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को भी कम करता है राज्य में बायोमास उर्जा के मुख्य स्रोत सरसों की तूड़ी और जूलीफ्लोरा है राज्य में दिसंबर 2017 तक 120.45 मेगावाट क्षमता के 13 बायोमास ऊर्जा उत्पादन संयंत्र स्थापित हो चुके हैं
  • ✍?राज्य में मार्च 2012 तक अत्यंत उच्च वोल्टेज प्रसारण नेटवर्क 28,363.29 सर्किट किलोमीटर था,जो कि मार्च 2017 तक बढ़कर 35,972.35 सर्किट किलोमीटर हो गया है
  • ✍?राजस्थान में मार्च 2017 तक उपभोक्ताओं की संख्या 138.28 लाख थी जो 3.96 में प्रतिशत की वृद्धि के साथ दिसंबर 2017 तक 142.72 लाख तक पहुंच गई है

सड़क और परिवहन ( Roads and Transportation )

  • ✍?राज्य में 31 मार्च 2017 तक सड़कों की लंबाई 2,26, 853.86 किलोमीटर थी राज्य में सड़कों का घनत्व 66.29 किलोमीटर प्रति वर्ग किलोमीटर है वर्ष 2017-18 में माह दिसंबर तक 3794 किलोमीटर डामर की सड़कों का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना राजस्थान सड़क क्षेत्र आधुनिकीकरण परियोजना और अन्य कार्यक्रम परियोजनाओं के अंतर्गत किया गया
  • ✍? ग्रामीण गौरव पथ योजना के प्रथम चरण के अंतर्गत 1973 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर 873 करोड़ खर्च कर 1726 किलोमीटर की सड़क सीसी रोड का निर्माण किया गया 1872 ग्राम पंचायतों में नालियों का निर्माण कार्य पूर्ण किया और शेष कार्य प्रगति पर है दूसरे चरण के अंतर्गत 1729 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर 688 करोड रुपए खर्च कर 1778 किलोमीटर के ग्रामीण गौरव पथ (सीसी रोड) का निर्माण किया गया और शेष कार्य प्रगति पर है ग्रामीण गौरव पथ के तृतीय चरण कज 2086 ग्राम पंचायत के 2077 किलोमीटर ग्रामीण गौरव पथ के निर्माण की स्वीकृति जारी हो चुकी है चतुर्थ चरण में 436 पंचायत मुख्यालयों पर 261. 36 करोड़ की लागत से 436 किलोमीटर ग्रामीण गौरव पथ के निर्माण की स्वीकृति जारी हो चुकी है
  • ✍? प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गतॄ 250 से अधिक आबादी के 626 आबाद गांव को 2106 किलोमीटर डामर सड़कों से जोड़ा गया है राजस्थान सड़क क्षेत्र आधुनिकरण परियोजना एवं राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक के अंतर्गत 250 से 499 तक की आबादी के 15 गांव को डामर की सड़कों से जोड़ा गया 19 राज्य राजमार्ग 10 जिला सड़कों से 37 शहरों सड़कों और 215 ग्रामीण सड़कों के निर्माण की स्वीकृति जारी की जा चुकी है
  • ✍? परिवहन क्षेत्र में वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान दिसंबर 2017 तक 4050 करोड़ के राजस्व लक्ष्य के विरुद्ध 839.34 करोड़ का राजस्व संगठित किया गया परिवहन विभाग में वर्ष 2016- 17 के अंत तक कुल 149 लाख मोटर वाहन पंजीकृत हुए थे 2 दिसंबर 2017 के अंत तक बढ़कर 159.31 लाख तक पहुंच गए हैं जो की 6.91% की वृद्धि को दर्शाते हैं

तेल और गैस ( Oil and Gas )

माननीय प्रधानमंत्री महोदय द्वारा 16 जनवरी 2018 को पचपदरा बाड़मेर में 9 मिलियन मेट्रिक टन वार्षिक क्षमता की राजस्थान रिफाइनरी परियोजना के कार्य का शुभारंभ किया गया है

⚜परियोजना की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं—

  • 1-देश में अपनी तरह की पहली ऐसी परियोजना है जिसमें पेट्रोकेमिकल कॉन्प्लेक्स भी सम्मिलित है
  • 2-परियोजना की लागत राशि 43.129 करोड़ है
  • 3-यह परियोजना एक संयुक्त उपक्रम है जिसमें HPCL का 74% और राज्य सरकार का 26% है

✍?वित्तीय वर्ष 2017-18 में दिसंबर 2017 तक ₹30 कुँओ के लक्ष्य के विरुद्ध 16 कुऐ खोदे जा चुके हैं जिसमें से एक एयर इंडिया लिमिटेड के द्वारा 8 कुँए फोकस एनर्जी द्वारा 7 कुँए और ऑयल इंडिया लिमिटेड के द्वारा एक कुआं खोदा गया है

✍?वित्तीय वर्ष 2017-18 में केयर इंडिया लिमिटेड द्वारा बाड़मेर सांचौर बेसिन में कुल 58.19 मेट्रिक टन खनिज तेल का उत्पादन किया गया तथा केयर्न इंडिया लिमिटेड फोकस एनर्जी ओएनजीसीएल और ऑयल इंडिया लिमिटेड द्वारा जैसलमेर और बाड़मेर सांचौर बेसिन में लगभग 531.90 एम एम एस सी एम प्राकृतिक गैस का उत्पादन किया गया

✍?वर्तमान में मंगला भाग्यम ऐश्वर्या सरस्वती रागेश्वरी कामेश्वरी आदि क्षेत्रों से लगभग 1,60,000 से 1,65,000 बैरल कच्चे तेल का प्रतिदिन उत्पादन किया जा रहा है

✍? वित्तीय वर्ष 2017 18 के दौरान दिसंबर 2017 तक राज्य को एक 1,806.35 करोड़ के राजस्व की प्राप्ति हुई है

✍?मैसर्स केयर्न एनर्जी द्वारा बाड़मेर बेसिन में स्थित रागेश्वरी डीप गैस क्षेत्र से 1.1 एम एम एस सी एम डी की दर से प्राकृतिक गैस का उत्पादन किया गया और जिसमें से लगभग 0.3एम एम एस सी.एम.डी प्राकृतिक गैस का उपयोग कंपनी के कार्य हेतु और 0.8एम एम एस सी एम डी प्राकृतिक गैस की आपूर्ति गुजरात नर्मदा वैली फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स लिमिटेड और कृभको को दी जा रही है

✍?मैसर्स फोकस एनर्जी द्वारा 8 जुलाई 2010 से प्राकृतिक गैस का उत्पादन किया जा रहा है और वर्तमान में लगभग 12 से 1300000 घनमीटर प्राकृतिक गैस की आपूर्ति प्रतिदिन रामगढ़ विद्युत संयंत्र को( 110 मेगावाट+ 160 मेगावाट )की जा रही है

✍?मेसर्स फोकस एनर्जी द्वारा जैसलमेर और बाड़मेर बेसिन के ब्लॉक क्रमशः आर जे-ओ एन-06 और आर जे -ओ एन एन- 2003/2 में माह दिसंबर 2017 तक 123 कुंओ की खुदाई पूर्ण की जा चुकी है

सूचना प्रौद्योगिकी और संचार ( Information Technology and Communications )

✍? द्वितीय वार्षिक सूचना प्रौद्योगिकी दिवस प्रथम ,हैकाँथन के साथ 21 मार्च 2017 को बीएम बिरला ऑडिटोरियम जयपुर में मनाया गया 18 अगस्त 2017 को कोटा में प्रथम डीजीफेस्ट के साथ द्वितीय हैकथॉन आयोजित किया गया इस डिजीफेस्ट आयोजन के दौरान राज्य में स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने के लिए तीन नए प्लेटफॉर्म यथा:–आई स्टार्ट, चैलेंज फोर चेंज और राजस्थान स्टेक लाँच किए गए

✍? द्वितीय डीजी फेस्ट के साथ तृतीय हैकाँथन का आयोजन उदयपुर दिनांक 2-3 दिसंबर 2017 को किया गया इस डीजी फेस्ट में माननीय मुख्यमंत्री महोदया द्वारा चार नए प्रोजेक्ट यथा:– ई-मित्र प्लस ,राज मेल, इंक्यूबेशन सेंटर और राज वाईफाई प्रारंभ किए गए

✍? भौगोलिक सूचना तंत्र:--शिक्षा ,चिकित्सा और स्वास्थ्य समेकित, बाल विकास सेवाएं, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, आयुष, सहकारिता ,आर वी पी एन एल, डिस्कॉम ,भूजल, पुलिस ,आर वी सी डी, ई मित्र,उच्च और तकनीकी शिक्षा ,नगर नियोजन, सार्वजनिक निर्माण, जनजाति क्षेत्रीय विकास भवन ,जल संसाधन आदि के लिए एक समान भौगोलिक सूचना तंत्र प्लेटफार्म स्थापित किया गया है जयपुर शहर के विकास और क्रियान्वयन का कार्य प्रक्रियाधीन है

✍? राजस्थान संपर्क पोर्टल:– केंद्रीय कृत शिकायत निवारण प्लेटफॉर्म के लिए मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के रूप में एक नया टोल फ्री नंबर 181 उपयोग में लिया जा रहा है राज्य के सभी ब्लॉक में अटल सेवा केंद्रों पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग उपकरणों और सुविधाओं सहित राजस्थान संपर्क केंद्र स्थापित किए गए हैं

✍? ई मित्र कियोस्क:— वर्तमान में सरकारी विभागों और निजी एजेंसी की 350 से अधिक सेवाओं को राज्य के नागरिकों को 48000 से अधिक ई मित्र कियोस्क के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक रूप से उपलब्ध कराया जा रहा है कि मित्र कियोस्क पर प्रतिमाह लगभग 4000000 लेनदेन कर लगभग 400 करोड़ के राजस्व संग्रहण किया जा रहा है

✍? विभाग द्वारा कुछ अभिनव प्रोजेक्ट जैसे सिंगल साईन ऑन ,राज नेट,राज ई वाँल्ट ,राज ई साईन,मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपमेंट, डाटा एनालिटिक्स और बिग डाटा क्लस्टर प्रारंभ किए गए हैं

✍? जयपुर कोटा अजमेर और उदयपुर में एकीकृत समाधान हेतु GPS और CCTV आधारित अभय कमांड नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं

✍? विभाग द्वारा अन्य महत्वपूर्ण योजनाएं जैसे डिजिटली हस्ताक्षरित प्रमाण पत्र सेकलेन सहित वाईफाई सुविधा स्टेट पोर्टल ई संचार और आई फेक्ट स्टेट मास्टर सेंट्रलाइज डाटा हब राजकाज आदि संचालित की जा रही है

 

Play Quiz 

No of Question-18

[wp_quiz id=”649″]

Specially thanks to ( With Regards )

दिनेश मीना झालरा टोंक,  ममता शर्मा Kota, कुम्भा राम बाड़मेर, MAMTA SHARMA KOTA , NISHA  SHARMA JHALAWAD, प्रीति जी मिश्रा, प्रभुदयाल मूण्ड चूरु, ज्योति प्रजापति 

Leave a Reply

Your email address will not be published.