Madhya Pradesh National Sanctuary Part 03 ( राष्ट्रीय अभ्यारण एवं उद्यान )

मध्यप्रदेश वन क्षेत्रफल की दृष्टि से एक संपन्न राज्य हैं ! मध्यप्रदेश में वन प्राणियों की विविधता पाई जाती है ! वन्यजीवों को संरक्षण प्रदान करने की दृष्टि से मध्यप्रदेश राष्ट्रीय उद्यान अधिनियम के अंतर्गत मध्य प्रदेश में 25 अभयारण्यों का निर्माण किया गया है तथा 5 अभ्यारण निर्माणाधीन है !

1. नौरादेही अभ्यारण

Related image

? नौरादेही अभ्यारण मध्य प्रदेश के  सागर, दमोह और नरसिंहपुर जिलों में फैला है यह क्षेत्रफल की दृष्टि से मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा अभ्यारण है ! यह अपनी बायो डायवर्सिटी के कारण नौरादेही वन्य जीव अभ्यारण का स्थान सबसे अलग है इस वाइल्ड लाइफ अभ्यारण में ट्रैकिंग, एडवेंचर और वाइल्ड सफारी का आनंद लिया जा सकता है।

? नौरादेही अभ्यारण की स्‍थापना सन् 1975 में की गई थी। यह करीब 1194.670 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला है। इस अभ्यारण में वन्यजीवों की भरमार है, जिनमें तेंदुआ मुख्य है। एक समय यहां कई बाघ भी पाए जाते थे लेकिन संरक्षण नहीं मिलने के कारण अब वे लुप्त हो चुके हैं। तेंदुआ भी इसी हश्र की ओर अग्रसर है। चिंकारा, हरिण, नीलगाय, सियार, भेडिया, जंगली कुत्ता, रीछ, मगर, सांभर, चीतल तथा कई अन्य वन्य जीव इस क्षेत्र में पाए जाते हैं। वनविभाग इसके संरक्षण का काम करता है।

????⚜⚜????

2. कूनो पालपुर अभयारण्य

? कुनो वन्यजीव अभयारण्य, जिसे पालपुर-कुनो वन्यजीव अभयारण्य और कुनो-पालपुर भी कहा जाता है, उत्तर पश्चिमी मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में स्थित है, जो मध्य भारत में एक राज्य है। यह ग्वालियर से लगभग 200 किमी (120 मील) है। यह कथियावार-गिर सूखी पर्णपाती वन से कोरगियन का हिस्सा है इसका क्षेत्रफल 344.680 वर्ग किलोमीटर है !

3. पेंच अभयारण्य

♨पेंच बाघ अभयारण्य मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में स्थित है यह कई बाघ अभयारण्यों में से एक है। इस अभयारण्य का नाम पेंच नदी के नाम पर रखा गया है। पेंच नदी के नाम से बना और 1992 में गठित यह ‘पेंच बाघ अभयारण्य’ सतपुड़ा पर्वत श्रेणियों के दक्षिणी इलाकों में स्थित है। यह अभयारण्य 118.473 वर्ग कि.मी. पर फैला हुआ है, इस अभयारण्य से बहती पेंच नदी इस अभयारण्य को छिंदवाड़ा और सिवनी, इन दो ज़िलों के बीच विभाजित कर देती है।

????⚜⚜????

4. नरसिंहगढ़ अभ्यारण

Related image

? नरसिंहगढ़ अभ्यारण मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले में स्थित है यह अभ्यारण 57.190 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? इस अभ्यारण का मुख्य आकर्षण केंद्र चिड़ीखो को तालाब हैं इसका आकार चिड़िया के आकार का हैं जिसे नरसिंहगढ़ के महाराजा विक्रमादित्य ने 1935 में बनवाया था ! इस तालाब का क्षेत्रफल 22 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है ! इसके चारों ओर बैल शाखाएं अच्छादित ब पहाड़ियों से घिरा हुआ है ! पीली पहाड़ियों में विभिन्न प्रकार के वन्य जीव भ्रमण करते हैं ! जिन्हे तालाब पर पानी पीते समय देखा जा सकता है !

????⚜⚜????

5. रातापानी अभ्यारण

? रातापानी बाघ अभयारण्य भारत के मध्य प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में स्थित है। यह 689.460 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? रातापानी अभ्यारण में बाघ संरक्षण योजना लागू की जा रही है यह देश व प्रदेश का पहला चरण है जिसमें बाघ परियोजना लागू हुई है !

? यह राजधानी भोपाल से बहुत कम दूरीपर स्थित है। यह अपने सुन्दर सागौन (टीक) वनों के लिये प्रसिद्ध है। यह अभयारण्य तरह-तरक के जीव-जन्तुओं एवं पेड़-पौधों से भरा है। यहाँ बाघ, लियोपार्ड जंगली कुत्ते, स्लॉथ बीय, शियार, लोमड़ी, चीतल, सांभर, नीलगाय, चिंकारा, चौसिंघा, हनुमान लंगूर तथा भारतीय शैल अजगर प्रमुखता से पाये जाते हैं। कुछ दशक पहले यहाँ बारहसिंघा भी पाया जाता था। भीम बैठका इसी अभयारण्य के अन्दर  हैं !

????⚜⚜????

6. गांधी सागर अभ्यारण

? गांधी सागर अभयारण्य प्रकृति का जादू देखने के लिए और खोज करने के लिए एक अभूतपूर्व स्थल है। यह मध्यप्रदेश में नीमच और मंदसौर जिले की उत्तरी सीमा पर स्थित है। गांधी सागर अभयारण्य 1974 में अधिसूचित किया गया था एवं 1983 में सरकार ने इसमें और क्षेत्र सम्मिलित कर दिया। गांधी सागर अभयारण्य का कुल क्षेत्रफल 368.620 वर्ग किलोमीटर से भी अधिक है।

? पर्यटक इस अभयारण्य में आकर कुछ समय शांतिपूर्वक व्यतीत कर सकते हैं। यह अभयारण्य राजस्थान राज्य से लगा हुआ है। चंबल नदी सोने पर सुहागे का काम करती है जो अभयारण्य के मध्य में से गुजरती है और इसे दो हिस्सों में बांटती है।

? इस प्रकार यह नदी इस अभयारण्य को पश्चिमी एवं पूर्वी दो भागों में बांटती है, जिसमें से पश्चिमी भाग नीमच जिले में और पूर्वी भाग मंदसौर जिले में स्थित है। गांधी सागर अभयारण्य आने वाले पर्यटकों के लिए निश्चित रूप से यहाँ देखने को बहुत कुछ है।

????⚜⚜????

7. केन घड़ियाल अभ्यारण

? केन घडियाल अभयारण्‍य, भारत का एक महत्‍वपूर्ण अभयारण्‍य है जिसे देश में तेजी से लुप्‍त हो रहे घडियालों की प्रजाति को बचाने के लिए स्‍थापित किया गया है। यह मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है।

? यह अभयारण्‍य बेहद खूबसूरत है और यह चारों तरफ से जंगलों से घिरा हुआ है। अभयारण्‍य के बराबर पर ही 45.202 किमी. बर किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है इसमें लम्‍बी नदी केन है जो हमेशा बहती रहती है।

? वास्‍तव में, अभयारण्‍य दो नदियों – खुद्दार और केन के मिलान की गवाह है। इस अभयारण्‍य को आम जनता के लिए 1985 में खोल दिया गया था, यहां घडियालों के अलावा और भी प्रकार के जीव व सरीसृप का प्राकृतिक घर है। इस सेंचुरी में  6 मीटर लम्‍बे मगरमच्‍छ भी है।

? नदियों के रेतीले तट पर पर्यटक, चिंकारा, चीतल, जंगली सुअरों, मोर और नीले बैलों को भी देख सकते है। पर्यटकों को बच्‍चों को इस अभयारण्‍य में अवश्‍य साथ ले जाना चाहिए, वह यहां आकर काफी कुछ सीख सकते है और रोमांचक यात्रा का अनुभव भी कर सकते है। सेंचुरी सुबह से लेकर शाम तक पर्यटकों के लिए खुली रहती है।

????⚜⚜????

8. केओनी अभ्यारण

? केओनी अभ्यारण मध्यप्रदेश के देवास सिहोर एवं पन्ना जिले में स्थित है यह 122.700 किलोमीटर वर्ग क्षेत्र में फैला हुआ है !

? राष्ट्रीय चंबल घड़ियाल अभ्यारण
? राष्ट्रीय चंबल घड़ियाल अभ्यारण मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में 320 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है यह अभ्यारण मुख्य रूप से घड़ियालों के लिए प्रसिद्ध है !

? पंनपठा अभ्यारण
? पनपठा अभ्यारण मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में स्थित है यह 344.842 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? पचमढ़ी अभ्यारण
? पचमढ़ी अभ्यारण मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में स्थित है यह 415.904 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

????⚜⚜????

? बोरी अभ्यारण
? बोरी अभ्यारण मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में 485.340 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। यहाँ मुख्य रूप से शेर, तेंदुआ और चीतल को संरक्षित किया जाता है।

? बगदरा अभ्यारण
? बगदरा अभ्यारण मध्यप्रदेश के सीधी जिले में 478 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? फैन अभ्यारण
? फैन अभ्यारण मध्यप्रदेश के मंडला जिले में 110.740 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? घाटीगांव अभ्यारण
? घाटीगांव अभ्यारण मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले में स्थित है यह 512 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है वन्यजीवों का इस में एक मनोरम आकर्षण प्राप्त होता है !

? करेरा अभ्यारण
? करेरा अभ्यारण मध्यप्रदेश के जिले शिवपुरी में 202.210 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

????⚜⚜????

? संजय डुबरी अभ्यारण
? संजय डुबरी अभ्यारण मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में स्थित है यह अभ्यारण 364.590 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? सिंधोरी अभ्यारण
? सिंधोरी अभ्यारण मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में 287.910 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? सोन घड़ियाल अभ्यारण
? सोहन घड़ियाल अभ्यारण मध्यप्रदेश के सीधी बस शहडोल जिले में 41. 8 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

????⚜⚜????

? सरदारपुर अभ्यारण
? सरदारपुर वन्यजीव अभ्यारण्य मध्य प्रदेश के धार जिले में है। इसकी स्थापना 1983 में हुई और इसका क्षेत्रफल 348 वर्ग किमी है।

? सैलाना अभ्यारण
? सियाणा भैरव मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में 12 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? रालामंडल अभ्यारण
?  रालामंडल अभ्यारण मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में स्थित है यह 2.340 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है ! यह अभ्यारण वन्य जीव संरक्षण के लिए प्रसिद्ध है !

? ओरछा अभ्यारण
? ओरछा अभ्यारण मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में 44 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

?गंगऊ अभ्यारण
?  गंगऊ अभ्यारण मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में 68 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

????⚜⚜????

? दुर्गावती अभ्यारण
? रानी दुर्गावती अभ्यारण मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में 23.970 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है !

? मयूर अभ्यारण
? मयूर अभ्यारण मध्यप्रदेश के जिले झाबुआ में स्थित है इसमें मोर की अधिकता होने के कारण इसका नाम मयूर अभ्यारण पड़ गया है 

? सुरनियां
? सोमानी अभ्यारण मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में स्थित है !

? कट्ठीवाड़ा
? कट्ठीवाड़ा अभ्यारण मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले में स्थित है !

? मंधाता
? मंधाता मध्य प्रदेश के जिले खंडवा मैं सुरनिया के निकट स्थित है !

? कालीभीत अभ्यारण
? कालीभीत अभ्यारण मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में स्थित है!

????⚜⚜????

मध्यप्रदेश के प्रमुख अभ्यारण के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य:-

⚜ मुकुंदपुर में चिड़ियाघर :- 

केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण एवं भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च न्यायालय एवं मंत्रिपरिषद से अनुमति मिलने के पश्चात सतना जिले के मुकुंदपुर में चिड़ियाघर एवं रेस्क्यू सेंटर की स्थापना की गई है ! क्योंकि सर्वप्रथम वाइट टाइगर मोहन इसी क्षेत्र में पाया गया था अतः वाइट टाइगर के प्रजनन हेतु अनुकूल क्षेत्र होने के कारण इसकी स्थापना हुई है !

  • ⚜ सैलाना एवं सरदारपुर अभ्यारण में दुर्लभ पक्षी खरमोर का संरक्षण किया जा रहा है !
  • ⚜ करेरा एवं घाटीगांव अभ्यारण में दुर्लभ पक्षी सोन चिड़िया को संरक्षण दिया जा रहा है !
  • ⚜ चंबल जली अभ्यारण में डॉल्फिन एवं घड़ियाल का संरक्षण किया जा रहा है !
  • ⚜ केन एवं सोन अभ्यारण में घड़ियाल का संरक्षण किया जा रहा है !
  • ⚜ रातापानी अभ्यारण में बाघ संरक्षण योजना लागू की जा रही है यह देश व प्रदेश का पहला चरण है जिसमें बाघ परियोजना लागू हुई है 
  • ⚜ एशियाई शेरों के पुनर्वास हेतु कूनो पालपुर अभ्यारण का चयन किया गया है !
  • ⚜ ग्रुप तो चीता जीव के संरक्षण के लिए कूनो पालपुर एवं नवरात्रि अभ्यारण सागर का चयन किया गया है !

???⚜??⚜???

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

विष्णु गौर सीहोर, मध्यप्रदेश