Madhya Pradesh Plateau ( मध्यप्रदेश के प्रमुख पठार )

भौतिक संरचना की दृष्टि से भारत के पठार के उत्तरी भाग मध्य प्रदेश की सीमाओं के अंतर्गत आता है उत्तरी सीमा पर यमुना पार का जलोढ़ मैदान प्रारंभ हो जाता है,पश्चिम की ओर चंबल नदी पार करते ही अरावली की श्रेणियां मिलती हैं, पूर्व में छोटानागपुर का पठार है, लगभग उसी बनावट पहुंचाई के भाग बघेलखंड के पठार में भी मिलते हैं, दक्षिण में ताप्ती नदी को पार करने पर प्रदीप के पठार का प्रारंभ हो जाता है !

भौगोलिक दृष्टि से मध्य प्रदेश की प्राकृतिक रचना, स्थिति जलवायु, वनस्पति,मिट्टी,खनिज, कृषि उद्योग एवं यातायात को ध्यान में रखते हुए निम्न पर प्राकृतिक भागों में विभक्त किया गया है !

?⚜?मालवा का पठार?⚜?

स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? मध्य प्रदेश के पश्चिमी भाग में लावा मिट्टी से निर्मित एक विस्तृत पठार फैला हुआ है इसे मालवा का पठार के नाम से जाना जाता है यह पठार राज्य के पश्चिमी भाग में 220°-17′ उत्तरी अक्षांश से 25°-3′ उत्तरी अक्षांश तक तथा 74°-20′ पूर्वी देशांतर से 79°-20′ पूर्वी देशांतर के मध्य विस्तृत है !
  • ?? इस पठार का प्रारंभ नर्मदा घाटी के उत्तर में विंध्याचल श्रेणी में आता है तथा यह पूर्व से गुना मंदसौर से लेकर सागर तक फैला हुआ है दक्कन ट्रैप से ऑव्रत इस प्रदेश को मालवा के नाम से भी जाना जाता है !
  • ?? मध्य उच्च प्रदेश का यह दक्षिण -पश्चिमी भाग जिसे से चंबल -बेतवा तथा उसकी सहायक नदियों द्वारा जल निकास मिलता है जिनकी ऊंचाई 300 से 600 मीटर तक है इसके अंतर्गत रीवा, दमोह और पन्ना के पठार तथा भांडेर कैमूर और पन्ना की पर्वतीय श्रेणियां भी हैं इस क्षेत्र की मिट्टी काली तथा चुना मिली हुई है जो बहुत उपजाऊ है मंदसौर,उज्जैन, धार, रतलाम, झाबुआ, इंदौर, देवास, सीहोर, राजगढ़,भोपाल, गुना, विदिशा, आदि जिले क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं !
  • ?? मालवा शब्द अपने व्यापक अर्थ में ग्वालियर के दक्षिण से लेकर विंध्य की ऊंची पहाड़ियों के बीच के समस्त क्षेत्र के लिए प्रयुक्त होता है चंबल,क्षिप्रा, कालीसिंध, पार्वती, बेतवा, क्षेत्र की प्रमुख नदियां है !

? मालवा के पठार की जलवायु

  • ?? इस प्रदेश की जलवायु को स्वरूप मोटे तौर पर उष्णकटिबंधीय मानसूनी जलवायु की अपेक्षा थोड़ा सा स्वस्थ महाद्वीपीय रूम है मालवा के पठार के क्षेत्र में गर्मियों में दैनिक औसत तापमान 40 डिग्री से 42.5 डिग्री तक रहता है ! मई का महीना सबसे अधिक गर्म रहता है
  • सर्दियों में औसतन तापमान 10 डिग्री से 12 डिग्री सेंटीग्रेड तक रहता है दक्षिण पूर्वी मध्य प्रदेश के अनुपात में यहां वर्षा कम होती है इस क्षेत्र में अरब सागर से उठने वाले मानसून से वर्षा होती है दक्षिण पूर्वी भागों में वर्षा का औसत 125 सेंटीमीटर है जो उत्तर पूर्व की ओर घटकर औसत 15 सेंटीमीटर तक रह जाता है !

? मिट्टी और वनस्पति

  • ?? लावा मिट्टी से बने होने के कारण इस क्षेत्र में काली मिट्टी पाई जाती है छोटी छोटी पहाड़ियों पर लेटराइट मिट्टी भी मिलती है इस क्षेत्र में वन भूमि का 8.7 प्रतिशत भाग पाया जाता है मालवा मे पठारी भाग पाया जाता है मालवा के पठारी प्रदेश की दक्षिणी सीमा एक दिन यह श्रेणियों से होती हुई वनों की एक पेटी पश्चिम से पूर्व तक फैली है
  • जो महू, बगाली, कॉलोद, आष्टा, नसरुल्लागंज, बुधनी, गोहरगंज, गैरतगंज, सिलवानी, रहली, जिला सागर तहसील तक जाती है ! इंदौर तथा धार के कुछ भागों के अतिरिक्त यहां बन भूमि का औसत 10 से 12% तक पाया जाता है सागौन, सेमल, साजूतिन्सा,हल्द, साल, तेंदूपत्ता, सलाई की लकड़ी इस क्षेत्र के वनों की प्रमुख उपज है यहां तेंदूपत्ता का उपयोग वीडी बनाने के लिए किया जाता है !

? उपज तथा खनिज

  • ?? इस क्षेत्र में कृषि का व्यवसाय प्रमुख है यहां गेहूं का प्रमुख उत्पादन क्षेत्र है इसके अतिरिक्त गन्ना, ज्वार, मक्का, चना मूंगफली, सोयाबीन, कपास, चावल, और अलसी की पैदावार, की जाती है खनिजों का यह क्षेत्र में लगभग आभाव है !

? जनसंख्या और व्यवसाय

  • ?? क्षेत्र में जनसंख्या का घनत्व अधिक है इस प्रदेश का अधिकतम जनसंख्या घनत्व भोपाल का 487 वा इंदौर का 470 व्यक्ति वर्ग किलोमीटर है सीहोर, धार,उज्जैन, रतलाम, राजगढ़ जिले में भी जनसंख्या का घनत्व 100 से 228 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है इस क्षेत्र के लोगों का प्रमुख व्यवसाय कृषि एवं पशुपालन है !

? उद्योग एवं यातायात

?? पश्चिमी मालवा का पठार राज्य का प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र है यहां कृषि पर आधारित उद्योगों तथा उपभोक्ता सामग्री संबंधी उद्योगों की प्रमुखता है !नागदा में कृत्रिम रेशे का कारखाना और रतलाम,इंदौर, देवास, उज्जैन, सीहोर,भोपाल में सूती कपड़े के कारखाने, भोपाल में हेवी इलेक्ट्रिकल्स आदि प्रमुख उद्योग है नई इंजीनियरिंग इकाइयों की स्थापना देवास में इंदौर में की जा रही है !

??मालवा के पठार के प्रमुख नगर
???????

?? मालवा के पठार के प्रमुख नगर इंदौर,भोपाल, उज्जैन, सागर, सीहोर, रतलाम, देवास, विदिशा, एवं धार हैं मांडव इस क्षेत्र का उल्लेखनीय ऐतिहासिक स्थल है मालवा का पठार मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा पठार है !

???⚜??⚜???

?? मध्य भारत का पठार??

? स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? मध्य भारत का पठार 24° डिग्री उत्तरी अक्षांश तथा 74°50 डिग्री पूर्वी देशांतर से 79°10 डिग्री पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है ! यह दक्षिण में मालवा के पठार, पश्चिम में राजस्थान, उत्तर में यमुना के मैदान तथा पूर्व में बुंदेलखंड की पठारी भूमि से घिरा है !
  • ?? इस का जलवा हो अधिकतर चंबल की नदी सहायक नदियों द्वारा होता है इसका क्षेत्र का साधारण ढाल भी उत्तर पूर्व की ओर है चंबल की निचली घाटी में 1530 मीटर गहरे गड्ढे हैं इसका दूसरा नाम “चंबल उप आद्रप्रदेश” भी है !
  • ?? इस क्षेत्र में दोमट मिट्टी से ढकी हुई जले चट्टानें पाई जाती है मध्यप्रदेश के भिंड, मुरैना, ग्वालियर, शिवपुरी गुना व मंदसौर आदि जिलों के क्षेत्र इसी भाग में आते हैं इस क्षेत्र की प्रमुख नदियां चंबल कालीसिंध पार्वती आदि हैं यहां उस अलवर से 75 सेंटीमीटर से कम होती है !

? जलवायु

  • ?? मध्य भारत की जलवायु मूल्य तथा महाद्वीपीय प्रकार की है इस क्षेत्र में गर्मियों में अधिक गर्मी तथा सर्दियों में अधिक सर्दी पड़ती है गर्मियों में औसत तापमान 40° डिग्री सेल्सियस से 45°.5 डिग्री सेल्सियस ट्रक तथा सर्दियों 15° डिग्री सेल्सियस से 18° डिग्री सेंटीग्रेड तक हो जाता है मध्यप्रदेश का यह उपआद्र प्रदेश है जहां औसत वर्षा 75 सेंटीमीटर से कम होती है !

? मिट्टी एवं अनुपात

  • ?? मैदानी भागों में चंबल तथा उसकी सहायक नदियों द्वारा लाई गई जलोढ़ मिट्टी मिलती है पठारों पर काली मिट्टी भी मिलती है बीहड़ प्रदेश तथा उंचे पठारों पर वन पाए जाते हैं इन भागों में बनने प्रदेश 20 से 27% भूमि में मिलते हैं !
  • ?? मध्य प्रदेश के अन्य भागों से मैंने यहां कटीले वन पाए जाते हैं चीन का आर्थिक महत्व अधिक नहीं है शीशम, सागौन,नीम,पीपल, पेड़ बबूल, महुआ, तेंदू ,साजा, करौंदा, इन वनों की प्रमुख पैदावार है बाँस और घान्स भी कहीं कहीं मिलती है !

?कृषि उपज एवं खनिज

  • क्षेत्र में नहरों वक्त कौन से सिंचाई की जाती है भिंड मुरैना तथा ग्वालियर उत्तरी पूर्वी भाग में निरा बोया गया क्षेत्र 57 से 80% तक है जबकि दक्षिणी तथा दक्षिण पश्चिम में पठार पहाड़ों एवं बिहार प्रदेश में निरा बोया गया क्षेत्र 22 से 35% तक मिलता है गेहूं यद्यपि इस क्षेत्र की प्रमुख फसल है
  • किंतु बरसात पतन के कारण गेहूं की फसल के अंतर्गत केवल 40% तक भूमि है इस क्षेत्र के अन्य फसल ज्वार बाजरा मक्का धान तिल अलसी तथा गन्ना व आलू है इस क्षेत्र के प्रमुख खनिज चीनी मिट्टी चूने का पत्थर तथा इमारती पत्थर आदि प्रमुख है !

? जनसंख्या एवं व्यवसाय

  • क्षेत्र में जनसंख्या का घनत्व 110 से 272 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर के लगभग है दक्षिण पश्चिम की ओर यह घनत्व कम होता गया है कृषि प्रदेश में ग्रामीण जनसंख्या असाधारण रूप से अधिक है तथा घनत्व 125 से 225 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर से अधिक है
  • दक्षिणी मुरैना तथा मंदसौर में यह घनत्व 85 से 125 व्यक्ति वर्ग किलोमीटर से अधिक है कृषि क्षेत्र का प्रमुख व्यवसाय है कुछ भागों में पशुपालन को भी प्रमुखता प्राप्त है पहाड़ी क्षेत्र में लकड़ी चीरने तथा लकड़ी एकत्रित करने का व्यवसाय प्रचलित है !

? उद्योग एवं यातायात

  • कुटीर उद्योगों की इस क्षेत्र में बहुलता है हैंडलूम, खिलौना, चीनी मिट्टी का सामान आदि कुटीर उद्योग यहां मिलते हैं डाबरा (जिला ग्वालियर) बा कैलारस (जिला मुरैना )में चीनी कारखाने,शिवपुरी ब वानमोर में खेर लकड़ी से कत्था बनाने के कारखाने, ग्वालियर में कृत्रिम रेशे से कपड़ा बनाने एवं बिस्कुट बनाने के कारखाने, इंजीनियरिंग उद्योग चीनी मिट्टी के कारखाने, चमड़े का सामान बनाने के कारखाने ), खाद्य तेल बिजली का सामान बनाने के उद्योग विशेष उल्लेखनीय है !
  • भिंड मुरैना तथा ग्वालियर जिले सड़क तथा रेल मार्गो से जुड़े हुए हैं शिवपुरी जिला सड़क परिवहन से जुड़ा है नदियों में बीहड़ क्षेत्र में यातायात सुगम नहीं है !

? मध्य भारत के पठार के मुख्य नगर

  • मध्य भारत के पठार के प्रमुख नगर ग्वालियर भिंड मुरैना शिवपुरी इस क्षेत्र के प्रमुख नगर एवं जिलों के मुख्यालय हैं !

?? बुंदेलखंड का पठार ??

? स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? मध्य भारत के पठार के पूर्व में तथा युवा पन्ना के पठार के उत्तर में स्थित पठार को बुंदेलखंड का पठार कहते हैं यह पटवार 24°-06′ डिग्री उत्तरी अक्षांश से 26°-22′ डिग्री उत्तरी अक्षांश तक तथा 77°-51′ डिग्री पूर्वी देशांतर से 80°-20′ डिग्री पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है !
  • ?? बुंदेलखंड के पठार में छतरपुर,पन्ना,टीकमगढ़, दतिया( मध्य प्रदेश के जिले) तथा झांसी, ललितपुर, जालौन,बांदा (उत्तर प्रदेश के जिले) आते हैं ! किस पठार की उत्तरी सीमा का निर्माण यमुना नदी के द्वारा हुआ है !
  • ?? इस विस्तृत प्रदेश का दक्षिणी व पश्चिमी भाग इन विंध्य शैल समूह तथा उत्तरी भाग जलोढ़ का बना हुआ है किंतु प्राकृतिक बनावट की दृष्टि से केवल मध्य का भाग जो बुंदेलखंड ग्रेनाइट नीस से निर्मित है बुंदेलखंड का पठार के नाम से पुकारा जाता है !
  • ?? इस प्रदेश का साधारण ढाल उत्तर तथा उत्तर पूर्व की ओर है दक्षिणी सीमा के निकट औसत ऊंचाई 400 मीटर के लगभग है तथा 300 मीटर की रेखा इस प्रदेश के लगभग मध्य में होती हुई जाती है !
  • ?? बुंदेलखंड का पठार ऊपर उठा हुआ है जिसका प्रमाण यहां की नदियों की प्रकृति है यहां की नदियां तीव्र गति से बहती हैं तथा उनमें कटाव की पर्याप्त क्षमता है चंबल की सहायक नदी सिंह बेतवा धसान तरक्की नदियां इस क्षेत्र की प्रमुख नदियां हैं इस क्षेत्र की मिट्टी काली तथा लाल मिट्टी के सम्मिश्रण से बनी है जो अधिकतर बलुइ दोंमट है !

? जलवायु

  • ?? इस प्रदेश की जलवायु पर महाद्वीपीय ता का प्रभाव स्पष्ट दृष्टिगोचर होता है यहां वर्षा का औसत 75 सेंटीमीटर से 103 सेंटीमीटर तक है गर्मियों में औसत दैनिक तापमान 40° डिग्री सेल्सियस से 42°.5 डिग्री सेल्सियस के मध्य रहता है जो सर्दियों जनवरी में औसत लगभग 10 सेंटीग्रेड तक गिर जाता है मई का महीना सबसे गर्म रहता है !

? मिट्टी एवं वनस्पति

  • किस क्षेत्र में काली मिट्टी तथा लाल मिट्टी के मिश्रण से बनी हुई बालू दोमट मिट्टी पाई जाती है इस प्रदेश में प्राकृतिक वनस्पति साफ कर दी गई है वर्तमान में यहां मात्र 14.3 प्रतिशत क्षेत्र में वन आच्छादित हैं
  • यह उष्णकटिबंधीय शुष्क पतझड़ वन पाए जाते हैं यह उत्तर भूमि पर भी वनों का विस्तार किया गया है इस प्रदेश में सागौन सेजा,साज, तेंदू खेर नीम महुआ वीजा आदि के वृक्ष पाए जाते हैं !

? कृषि उपज तथा खनिज

  • ?? क्षेत्र की प्रमुख फसल गेहूं का ज्वार है इसके अतिरिक्त दलहन व तिलहन की फसलें भी अच्छी होती हैं पर्याप्त वर्षा तथा उपयुक्त तापमान के कारण निरा बोया गया क्षेत्र टीकमगढ़ में 45.5% छतरपुर में 36.1% तथा दतिया में 64.8% है !
  • ?? उत्तर में जालौढ क्षेत्र में निरा बोया गया क्षेत्र कुछ अधिक है टीकमगढ़ तथा छतरपुर में गेहूं के अंतर्गत भूमि बहुत सीमित है इस क्षेत्र में सिंचाई की पर्याप्त साधनों का विस्तार है इस क्षेत्र में पाए जाने वाला उल्लेखनीय खनिज कोई भी नहीं है !

? जनसंख्या एवं व्यवसाय

  • ??इस क्षेत्र में नगरीय जनसंख्या की अपेक्षा ग्रामीण जनसंख्या का घनत्व अधिक है इस में 123 से 186 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर जनसंख्या घनत्व पाया जाता है कृषि पशुपालन क्षेत्र के प्रमुख व्यवसाय हैं !

? यातायात

  • ?? इस क्षेत्र में प्रमुख नगर मध्य प्रदेश के सभी बड़े नगरों से सड़क मार्गों से जुड़े हुए हैं कुछ नगर रेल मार्ग पर भी उपलब्ध है !

? मुख्य नगर एवं दर्शनीय स्थल

  • ?? दतिया छतरपुर टीकमगढ़ नौगांव महाराजपुर बीजावर तथा चंदेरी क्षेत्र के प्रमुख नगर है उपयुक्त सभी बड़े नगर प्राचीन ऐतिहासिक नगर है तथा खंडहर और प्राचीन इमारतें यहां के वैभव का गान करते हैं !
  • ?? बेतवा के तट पर बुंदेली की राजधानी ओरछा के खंडहर हैं जो इस काल के वैभव को बताते हैं चतुर्भुज मंदिर राम मंदिर तथा लक्ष्मी नारायण मंदिर भी अपनी विशालता को भव्यता के कारण दर्शनीय है !

?? रीवा पन्ना का पठार ??

? स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? मालवा के पठार के उत्तर पूर्व में रीवा पन्ना का पठार फैला हुआ है इसका दूसरा नाम विंध्य का पठारी प्रदेश भी है उत्तर की ओर बुंदेलखंड के पठार की भूमि से इसकी सीमाएं स्पर्श करती है इसके दक्षिण में भांडेर तथा कैमूर की पर्वत श्रंखला आए हैं !
  • ?? यह प्रदेश 23°10′ डिग्री उत्तरी अक्षांश से 25°12′ डिग्री उत्तरी अक्षांश तक और 78°4′ डिग्री पूर्वी देशांतर से 82°18′ डिग्री पूर्वी देशांतर के मध्य विस्तृत है! इस पठार की ऊंचाई 300 से 450 मीटर तक है यद्यपि अधिकतम ऊंची चोटी 750 मीटर तक मिलती है !
  • ?? रीवा पन्ना का पठार हल्का ऊंचा नीचा है विंध्यन शैल समूह से साधारणता बालवीर लाल तथा पीली मिट्टी बनी है किंतु दक्कन ट्रैप की निकटता के फलस्वरुप नदियां अपने साथ काली मिट्टी लाती हैं यही कारण है कि पठार के पश्चिमी भाग जैसे सोनार तथा बेयमा की घाटी में लाल रंग काली मिश्रित मिट्टी मिलती है ! केन सोन सोनार और बबेयमा इस क्षेत्र की प्रमुख नदियां हैं चचाई व केकटो प्रमुख जलप्रपात है दमोह सतना रीवा पन्ना जिले इस क्षेत्र में आते हैं !

? जलवायु

  • ?? क्षेत्र के पूर्वी तथा दक्षिणी भाग में औसत वर्षा 125 सेंटीमीटर के लगभग होती है तथा उत्तर पश्चिम की ओर कम होती है उत्तर पश्चिम की ओर वर्षा 112.5 सेंटीमीटर के लगभग होती है यहां का तापमान गर्मियों में 40 डिग्री से 42.डिग्री सेंटीग्रेड तक रहता है !

? मिट्टी एवं वनस्पति

  • ?? क्षेत्र के पश्चिमी भाग में लाल तथा शेष क्षेत्र में लाल तथा काली मिट्टी पाई जाती है इस पठार का दक्षिणी तथा उत्तरी का द्वार तथा आसपास का क्षेत्र सघन वनों से आच्छादित है ! अजयगढ़ पन्ना हटा नागौर रघुराज नगर तथा सिरमौर क्षेत्र में वन मिलते हैं यहां के वनों में सागौन बहुतायत से पाया जाता है साज, छावा, खेर, सतई, हल्दू ,वीजा. तेंदूपत्ता. बाँस तथा सवाई साज भी वनों से ही मिलती है यहां तेंदू के पत्ते से पीढ़ी बनाई जाती है इस क्षेत्र की 30 से 40% भूमि के अंतर्गत है !

? उपज एवं खनिज

  • ?? गेहूं क्षेत्र की प्रमुख फसल है क्षेत्र से पूर्व की ओर चावल की खेती होती है अन्य प्रमुख फसलें हैं ज्वार तथा तिलहन हैं इस क्षेत्र में नेहरू और कुओं के द्वारा सिंचाई की जाती है !
  • ?? इस क्षेत्र में खनिज पाए जाते हैं यहां चूने का पत्थर सतना जिले में एवं हीरा पन्ना जिले में पाया जाता है यहां के अन्य खनिजों में गेरू, सिलिका ,बालू, सिलिमीनाईट,बालूकाशं आदि प्रमुख है !

? उद्योग एवं व्यवसाय

  • ?? यहां का प्रमुख व्यवसाय कृषि है इसके अतिरिक्त सीमेंट उद्योग सतना तथा मैहर में हैं कत्था उद्योग रीवा में हीरा तराशने का उद्योग पन्ना में इस क्षेत्र के प्रमुख उद्योग में ग्रामीण जनसंख्या का घनत्व अधिक है तथा नगरीय जनसंख्या का घनत्व कम है!

? मुख्य नगर

  • ?? सतना रीवा पन्ना दमोह इस क्षेत्र के प्रमुख नगर एवं जिलों के मुख्यालय हैं डिवाइस क्षेत्र का प्रमुख शिक्षा केंद्र है !

??बघेलखंड का पठार??

? स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? मध्य प्रदेश के पूर्वी भाग में सोन नदी के पूर्व तथा सोहन घाटी के पूर्व का क्षेत्र बघेलखंड का पठार कहलाता है ! 23040′ उत्तरी अक्षांश से 24035′ उत्तरी अक्षांश तथा 8005′ पूर्वी देशांतर से 82035′ पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है !
  • ?? यह 150 मीटर से अधिक ऊंचा नीचा कटा फटा प्रदेश है विस्तृत प्रदेश में आज जय महाकाल तथा जुरैसिक कॉल के शैल समूह मिलते हैं गोंडवाना शैल समूह किस प्रदेश की भौगोलिक विशेषता है मध्य प्रदेश का प्रमुख कोयला क्षेत्र भी इसी क्षेत्र में स्थित है यहां आदम जातियों तथा वन्य पशुओं का क्षेत्र है इस क्षेत्र में बनने भूमि 30 से 40% तक पाई जाती है इस क्षेत्र की प्रमुख नदीया हंसदी,सोन तथा इसकी सहायक नदियां है !
  • ?? सोहन तथा महा नदी के जल विभाजक बघेलखंड के ऊंचे पठार हैं इन नदियों तथा इनकी सहायक नदियों के कटाव के द्वारा सिंगरौली बेसिन, सोहागपुर बेसिन तथा हम दो रामपुर में बेसिन बनाया है !
  • ?? इनको हड्डियों में औसत ऊंचाई 300 से 450 मीटर के लगभग मिलती है मध्य में देवगढ़ का पठार है जिस पर अधिकतम ऊंचाई 1020 मीटर है पूर्व में छोटानागपुर का भाग जमीर पाठ है जहां पुन: इतनी ऊंचाई मिलती है !

? जलवायु

  • ?? कर्क रेखा किस प्रदेश के लगभग मध्य से गुजरती है अतः यहां की जलवायु मानसूनी है यहां गर्मी उष्णाआद्र एवं शीत ऋतु सामान्य एवं शुष्क होती है पूर्वी क्षेत्र में वर्षा का औसत बढ़ता चला जाता है गर्मियों में औसत तापमान 35.50 डिग्री सेंटीग्रेड तथा सर्दियों में 12.50 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच रहता है इस क्षेत्र में औसत वर्षा 125 सेंटीमीटर से अधिक होती है !

? मिट्टी एवं वनस्पति

  • ?? इस क्षेत्र में काली लाल एवं पीली और पथरीली मिट्टी पाई जाती है वनों की बहुलता के कारण यहां वनोपज अधिक उत्पन्न होती है बघेलखंड क्षेत्र का लगभग 50% से अधिक भाग वनाच्छादित क्षेत्र है यहां पतझड़ वाले बन पाए जाते हैं यहां के वनों में साल ,सागौन, टीक,कुसुम ,गुंजा आदि प्रमुख रूप से पाए जाते हैं !

? उपज एवं खनिज

  • ?? इस क्षेत्र की घाटियों में मैदानी क्षेत्र के अधिकतर भाग में कृषि की जाती है चावल यहां के प्रमुख फसल है तथा ज्वार अलसी तथा तीन अन्य प्रमुख फसल है यह क्षेत्र रेशम वक्त कौसा के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है कोयला उत्पादन के 20 छोटे-छोटे क्षेत्र यहां पाए जाते हैं जिनमें सिंगरौली,बैढ़न, सोहागपुर, उमरिया, झिलमिल प्रमुख इसके अतिरिक्त बॉक्साइट, चूने का पत्थर ,फायर क्ले, के भंडार कहां पाए जाते हैं !

? जनसंख्या

  • ?? इस क्षेत्र में जनसंख्या का घनत्व बहुत कम है अधिकांश क्षेत्रों में ग्रामीण जनसंख्या 80 से 100 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर से अधिक नहीं है कोयला उत्खनन के विकास के फलस्वरुप सिंगरौली में यह घनत्व 194 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है ग्रामीण कृषि जनसंख्या का प्रतिशत यहां अधिक मिलता है ग्रामीण अधिवास किसी भी भाग में 45 व्यक्ति प्रति हजार वर्ग किलोमीटर से अधिक नहीं है !

? यातायात

  • ? इस क्षेत्र में वन्य तथा पहाड़ी दुर्गा स्थान होने के कारण आवागमन के साधनों की कमी है दक्षिणी एवं पश्चिमी सीमा से रेलवे मार्ग जाते हैं अब मंडावरा के चोपन तक नया रेल मार्ग बनाया गया है जो इस प्रदेश के मध्य से जाता है जिसमें शेर चीते बारहसिंहा आदि आसानी से विचरण करते देखे जा सकते हैं !

? उद्योग धंधे

  • ? अमरकंटक में ताप बिजलीघर तथा अमलाई में कागज मिल भी स्थापित है रायगढ़ में जूट का सामान बनाने का प्रमुख कारखाना स्थापित हुआ है !

? मुख्य नगर

?रीवा,सतना, शहडोल, उमरिया सीधी सिंगरौली तथा अनूपपुर मुख्य नगर है उमरिया पाली पाषन जयलहरी, नौरोजाबाद, गौतम,बिजुरी, बुढ़ार, धनपुरी कुर्सियां झागरखंड अनूपपुर जिला सिंगरौली प्रसिद्ध कोयला खदान नगर हैं !

?? नर्मदा सोन नदी (नर्मदा सोन घाटी )??

?? स्थिति एवं प्राकृतिक दशा

  • ?? यह क्षेत्र प्रदेश के पूर्वी तथा पश्चिमी भाग में नर्मदा सोन घाटी की संकरी घाटियों के मध्य का भाग नर्मदा सोन नदी की घाटी कहलाता है नर्मदा घाटी 22°30′ उत्तरी अक्षांश से 23°45′ उत्तरी अक्षांश तथा 74°पूर्वी देशांतर से 81°30′ पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है !
  • ?? नर्मदा सोन घाटी मध्य प्रदेश के मध्य सर्वाधिक नीचे भाग है जिसकी ऊंचाई लगभग 300 से 400 मीटर है यह घाटी संकरी और लंबी है जो पश्चिम से उत्तर पूर्व तक विस्तृत है इन घाटियों की चौड़ाई सभी भागों में समान नहीं है !
  • ?? मंडलेश्वर तथा होशंगाबाद के मैदान लगभग 120 किलोमीटर छोड़े हैं होशंगाबाद तथा इटारसी के निकट मैदान केवल 40 किलो मीटर चौड़ा है !सोन की निचली घाटी 20 से 40 किलोमीटर से अधिक चौड़ी नहीं है ! नर्मदा की घाटी जबलपुर नरसिंहपुर होशंगाबाद रायसेन पूर्वी तथा पश्चिमी निमाड़ जिलों में पढ़ती है जबकि ऊपर ही बेसिन मंडला जिले में अथवा मेंकल के पठार में पड़ता है नर्मदा की घाटी में प्रमुख धक्कनट्रेप प्रमुख चट्टानें मिलती है !

? जलवायु

  • ? नर्मदा तथा सोन नदी की घाटी में अधिकतम औसत दैनिक तापमान मई में तथा न्यूनतम तापमान दिसंबर में रहता है जून में जबलपुर तथा खंडवा का औसत तापमान 31 डिग्री से 31.5 डिग्री सेंटीग्रेड तक पाया जाता है !
  • ?? दिसंबर में खंडवा का तापमान औसतन कम रहता है जबकि होशंगाबाद में 8 डिग्री सेल्सिययस रहता है जबलपुर में औसत वर्षा 142.5 सेंटीमीटर है होशंगाबाद में 125 सेंटीमीटर तथा महेश्वर मैं 82 सेंटीमीटर तथा बड़वानी में 57.5 सेंटीमीटर वर्षा होती है इस घाटी में पूर्व से पश्चिम की ओर वर्षा कम होती जाती है !

? मिट्टी एवं वनस्पति

  • ?? यहां की मिट्टी काली तथा गहरी काली है अतः कृषि भूमि का केंद्रीयकरण मिलता है नर्मदा घाटी में 25% तथा सोहन घाटी में 40 से 50% भूमि वनों के अंतर्गत आती है इस भाग में 30% क्षेत्र में वनों का विस्तार है
  • यहां महादेव श्रेणी पर उसने सदाबहार, सतपुड़ा श्रेणी पर पूर्व में आद्र पतझड़ वाले वन,राजपुर उतच्चर प्रदेश में शुष्क पतझड़ वाले और निमड़ के मैदान में कटीले जाडीदार वनस्पति मिलती है इस प्रदेश में सागौन.ओम, जामुन, बीजा,तेन्दू, अंजन व सलाई के वृक्षों की बाहुल्यता है !

?? उपज तथा खनिज

  • ?? नर्मदा बेसिन के 43% क्षेत्र पर खेती की जाती है जिसमें 50% से अधिक क्षेत्र गेहूं,कपास .ग्वार, चना, चावल, बाजरा. मक्का. मूंगफली तथा दालें उगाने में प्रयुक्त होता है नर्मदा की घाटी गेहूं उत्पादन का एक प्रमुख क्षेत्र है गेहूं के अंतर्गत भूमि का विशेष केंद्रीयकरण होशंगाबाद, नरसिंहपुर, जबलपुर जिले की तहसील में मिलता है हरदा से पश्चिम की ओर ज्वार तथा कपास की महत्वपूर्ण फसल होती है निरा बोया गया क्षेत्र 50% या उससे भी अधिक है !
  • ?? रानी अवंती सागर परियोजना (बरगी),जबलपुर तथा तथा योजना के पूर्ण होने के पश्चात इस क्षेत्र के सिंचित रकबा में वृद्धि हुई है सोन नदी की घाटी में चावल प्रमुख फसल है चावल की कृषि का केंद्रीयकरण ब्यौहारी गोपदनाश तथा शहडोल की तहसीलों में मिलता है नर्मदा की घाटी में खनिजों की बहुलता है इसमें चूने का पत्थर, फायर क्ले,गेरू,संगमरमर पत्थर में आदि प्रमुख है जबकि सोन नदी की घाटी में चूने का पत्थर तथा कोयला ही मिलता है !

? जनसंख्या तथा व्यवसाय

  • ?? क्षेत्र के प्रमुख नगर नर्मदा नदी के तट पर स्थित है अतः यहां की नगरीय जनसंख्या अधिक है सोन नदी की घाटी का विकसित होने के कारण तथा नगरों की संख्या कम होने के कारण यहां पर जनसंख्या का घनत्व विरल है कृषि एवं खनिजों का उत्खनन कार्य यहां का प्रमुख व्यवसाय है !

? यातायात

  • ? यातायात का विकास नर्मदा घाटी क्षेत्र में अधिक हुआ है जबकि सोन नदी की घाटी में अपेक्षाकृत कम है यहां के सभी प्रमुख नगर रेल तथा सड़क मार्ग से देश एवं प्रदेश के प्रमुख नगरों से जुड़े हैं सोन नदी की घाटी में रेल यातायात नाम मात्र को भी नहीं है !

? उद्योग

  • ? सीमेंट, रंग बनाने के उपयोग,कांच बनाने के उद्योग, चूना मिट्टी उद्योग,चीनी मिट्टी के बर्तन बनाने का उद्योग, रबड़ बनाने के उद्योग तथा उत्खनन उद्योग यहां के प्रमुख उद्योग हैं !

? प्रमुख नगर

  • ?? मध्य प्रदेश का तीसरा प्रमुख बड़ा नगर जबलपुर क्षेत्र में स्थित है नरसिंहपुर,गाडरवारा, पिपरिया, होशंगाबाद, बड़वाह, बड़वानी, महेश्वर ओमकारेश्वर इटारसी हरदा क्षेत्र के प्रमुख नगर हैं नर्मदा के दक्षिण में खंडवा तथा खरगोन अन्य विकासशील नगर हैं सोन की घाटी में मुड़वारा तथा सिंधी प्रमुख नगर है !

?सतपुड़ा मैकल की श्रेणियां?

? स्थिति एवं प्राकृतिक दश

  • ? दक्षिणी मध्यप्रदेश में पश्चिमी सीमा के पूर्व में सतपुड़ा की श्रेणी तथा मेकल का पठार स्थित है इस का भौगोलिक विस्तार 21° डिग्री उत्तरी अक्षांश तथा 74°30 डिग्री पूर्वी देशांतर 81° पूर्वी देशांतर के मध्य है यह नर्मदा तथा ताप्ती नदियों के मध्य तथा विचलन की श्रेणियों के समांतर है
  • इस क्षेत्र के विस्तृत भाग लगभग 600 मीटर ऊंचे हैं तठा चोटियों की ऊंचाई 1000 मीटर तक पहुंच जाती है महादेव की श्रेणी अधिकतम होती है जहां धूपगढ़ की चोटी 1350 मीटर तक है !

? पश्चिमी सतपुड़ा तथा झाबुआ

  • ? बुरहानपुर दर्रे के पश्चिम का भाग पश्चिमी सतपुड़ा में सम्मिलित है नर्मदा के उत्तर में झाबुआ जिले के भौगोलिक लक्षण सतपुड़ा से अधिक भिन्ननहीं है अतः इसे एक भाग में शामिल किया गया है एक भाग में सतपुड़ा की श्रेणियां संकरी तथा कम होती है !
  • ? यहां अधिकतम ऊंचाई 1033 मीटर तक पहुंच जाती है इसके पूर्वी भाग को असीरगढ़ तथा पश्चिमी भाग को अखरानी तथा बड़बानी की श्रेणियों के नाम से जाना जाता है इसके पूर्व विभाग नर्मदा के उत्तर में बाघ तथा मथवार की श्रेणियां हैं बड़बानी के पश्चिम में नर्मदा की लंबी तथा संकरी कंदरा है !

? जनसंख्या एवं व्यवसाय

  • ? क्षेत्र में खंडवा तथा खरगोन जिलों में जनसंख्या अधिक है खंडवा में 135 व्यक्ति तथा खरगोन में 151 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर घनत्व है अन्य जिलों में जनसंख्या का घनत्व कम होता गया है वनो से ऊपज एकत्रित करना तथा खनन उद्योग में कार्य करना यहां का मुख्य व्यवसाय समतल भूमि वाले क्षेत्रों में कृषि होती है सिंचाई की ओर इस क्षेत्र में विशेष ध्यान दिया गया है !

? यातायात

  • यातायात की दृष्टि से यह क्षेत्र प्रदेश सुगम में नहीं है अधिकतर भागों में पथरीली कच्ची सड़के हैं कुछ तो रेलवे लाइन से 100 किलोमीटर दूर तक पढ़ते हैं दक्षिण में ताल तथा उत्तर में नर्मदा घाटी से रेल मार्ग गुजरते हैं इस क्षेत्र में सड़क मार्ग भी वर्षभर चालू नहीं रहता है !

?? प्रमुख नगर

  • छिंदवाड़ा, बुरहानपुर,खंडवा,सिवनी, बेतूल, मंडला,बालाघाट, खरगोन,बड़वानी,झाबुआ क्षेत्र के प्रमुख नगर हैं !

???⚜??⚜???

Play Quiz 

No of Questions-25

0%

Q.1 महलों की नगरी के नाम से कौनसा जिला /जिले प्रसिद्ध है ?

Correct! Wrong!

Q.2 मालनपुर फूड पार्क मध्यप्रदेश के कौन से जिले में स्थित है ?

Correct! Wrong!

Q.3 चंदेरी नगर किसके लिए प्रसिद्ध है ?

Correct! Wrong!

Q.4 राज्य में जनसंख्या नियंत्रण दिवस कब मनाया जाता है ?

Correct! Wrong!

Q.5 मंडला जिले का प्राचीन नाम क्या था ?

Correct! Wrong!

Q.6 मध्य प्रदेश का सबसे पूर्वी जिला कौन सा है ?

Correct! Wrong!

Q.7 निम्न में से कौन सा पठार "मध्य उच्च प्रदेश" के पठार के अंतर्गत नहीं आता है ?

Correct! Wrong!

Q.8 प्रदेश का 51 वा जिला कब अस्तित्व में आया ?

Correct! Wrong!

Q.9 बालाघाट जिले में पाई जाने वाली धारवाड़ शैल समूह को किस सीरीज की संज्ञा दी जाती है ?

Correct! Wrong!

Q.10 राज्य की जनसंख्या वृद्धि दर में सर्वाधिक कमी किस संभाग में हुई है ?

Correct! Wrong!

Q.11 पिछली जनगणना की अपेक्षा राज्य के जनसंख्या घनत्व में कितने व्यक्ति प्रति किलोमीटर की वृद्धि हुई है ?

Correct! Wrong!

Q.12 मध्यप्रदेश में H.E.G. फैक्ट्री कहां स्थित है जो एशिया की सबसे बड़ी फैक्ट्री है ?

Correct! Wrong!

Q.13 इंदौर जिले में कौनसा अभयारण्य स्थित है ?

Correct! Wrong!

Q.14 मार्च 2005 में नामित अचानकमार एवं अमरकंटक जेब रिजर्व मंडल कहां स्थापित किया गया है ?

Correct! Wrong!

Q.15 महेश्वर कौन सी नदी के किनारे पर बसा हुआ है ?

Correct! Wrong!

प्रश्न 16. मध्य प्रदेश का यह मुख्य जिला बघेल खंड पठार की अंतर्गत नहीं आता है

Correct! Wrong!

प्रश्न 17. निम्नलिखित में से कौन सा शैल समूह मध्य प्रदेश से संबंधित नहीं है

Correct! Wrong!

प्रश्न 18. मध्यप्रदेश का सबसे पूर्वी जिला है ?

Correct! Wrong!

प्रश्न 19. मध्य प्रदेश की जलवायु का भाग नहीं है

Correct! Wrong!

प्रश्न 20. प्रदेश के समुद्री प्रभाव से बचे रहने का कारण है

Correct! Wrong!

प्रश्न 21. दक्कन ट्रेप से निर्मित पठार है -

Correct! Wrong!

प्रश्न 22. जो सम्बंधित है नर्मदा घाटी में काली मिट्टी के जमाव के लिये, वह है ?

Correct! Wrong!

प्रश्न 23. मध्यप्रदेश का अधिकतम जल निकास होता है-

Correct! Wrong!

प्रश्न 24. "गोविंदगढ़ के महल" स्थित है -

Correct! Wrong!

प्रश्न 25. मध्यप्रदेश का वह हिस्सा जहाँ कपास का उत्पादन नहीं होता, वह है -

Correct! Wrong!

Madhya Pradesh Plateau Quiz ( मध्यप्रदेश के प्रमुख पठार )
VERY BAD! You got Few answers correct! need hard work.
BAD! You got Few answers correct! need hard work
GOOD! You well tried but got some wrong! need more preparation
VERY GOOD! You well tried but got some wrong! need preparation
AWESOME! You got the quiz correct! KEEP IT UP

Share your Results:

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

विष्णु गौर सीहोर, मध्यप्रदेश, हेमलता जी कौशिक गुना, मध्यप्रदेश