Table of Contents

Mahajanapadas ( महाजनपद- प्राचीन भारतीय संस्कृति )

भारत के सोलह महाजनपदों का उल्लेख ईसा पूर्व छठी शताब्दी से भी पहले का है। उल्लेख बौद्ध और जैन धर्म के प्रारंम्भिक ग्रंथों में महाजनपद नाम के सोलह राज्यों का विवरण मिलता है। महाजनपदों पर राजा का ही शासन रहता था परन्तु गण और संघ नाम से प्रसिद्ध राज्यों में लोगों का समूह शासन करता था, इस समूह का हर व्यक्ति राजा कहलाता था। अन्य जानकारी शासक किसानों, व्यापारियों और शिल्पकारों से कर तथा भेंट वसूल करते थे। संपत्ति जुटाने का एक उपाय पड़ोसी राज्यों पर आक्रमण कर धन एकत्र करना भी था।

प्रारंम्भिक भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ईसापूर्व को परिवर्तनकारी काल के रूप में महत्त्वपूर्ण माना जाता है। यह काल छठी में पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार लोहे की व्यापक स्तर पर प्रयोग होने से बड़े-बड़े प्रादेशिक एवं जनपद राज्यों के निर्माण की परिस्थितियां बन गई इसी समय में बौद्ध और जैन सहित अनेक दार्शनिक विचारधाराओं का विकास हुआ। भगवान महावीर और भगवान बुद्ध इन्हीं गणों से संबन्धित थे। 

अधिशेष उत्पाद के कारण ही छोटे-छोटे जनों ने बड़े-बड़े जनपदों और फिर महाजनपदों का भी आविर्भाव में होने लगा जिसका उल्लेख बौद्ध ग्रंथ अंगुत्तर निकाय मिलता है इनमें मगध, अवंती, वत्स, कौशल सबसे प्रमुख राज्य थे जिन्हें मगध ने कालांतर में 16 महाजनपदों में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की थी 

वज्जि संघ की ही तरह कुछ राज्यों में ज़मीन सहित आर्थिक स्रोतों पर राजा और गण सामूहिक नियंत्रण रखते थे। स्रोतों की कमी के कारण इन राज्यों के इतिहास लिखे नहीं जा सके परन्तु ऐसे राज्य सम्भवतः एक हज़ार साल तक बने रहे थे।

हर एक महाजनपद की एक राजधानी थी जिसे क़िले से घेरा दिया जाता था। क़िलेबंद राजधानी की देखभाल, सेना और नौकरशाही के लिए भारी धन की ज़रूरत होती थी। सम्भवतः छठी शताब्दी ईसा पूर्व से ब्राह्मणों ने संस्कृत भाषा में धर्मशास्त्र ग्रंथों की रचना प्रारम्भ की। इन ग्रन्थों में राजा व प्रजा के लिए नियमों का निधार्रण किया गया और यह उम्मीद की जाती थी कि राजा क्षत्रिय वर्ण के ही होंगे।

जिसका प्रथम राजवंश हर्यक वंश था जिसकी स्थापना बिंबिसार ने 544 ईस्वी पूर्व में की थी तथा जिसकी मृत्यु 492 ईस्वी पूर्व में होने पर अजातशत्रु 492 से 461 ई पू तक व फिर उदायिन 461-412 ई पू तक गददी पर बैठा

मगध की राजधानी गिरिव्रज या राजगृह थी परंतु उदायिन इसे बदल कर पटना या पाटलिपुत्र कर दिया था उसके पश्चात शिशुनाग वंश मगध की राजगददी पर बैठा

शिशुनाग के बाद नंदवंश और उसके पश्चात मौर्य वंश, गुप्तवंश, जैसे कीर्तिपूर्ण राजवंशों ने प्राचीन भारतीय इतिहास में अमर नायको की भूमिका निभाई

शासक किसानों, व्यापारियों और शिल्पकारों से कर तथा भेंट वसूल करते थे। संपत्ति जुटाने का एक उपाय पड़ोसी राज्यों पर आक्रमण कर धन एकत्र करना भी था। कुछ राज्य अपनी स्थायी सेनाएँ और नौकरशाही तंत्र भी रखते थे और कुछ राज्य सहायक-सेना पर निर्भर करते थे जिन्हें कृषक वर्ग से नियुक्त किया जाता था।

सोलह महाजनपद

  1. मगध – दक्षिण बिहार में अवस्थित। इसकी राजधनी राजगृह थी।
  2. वज्जि – उत्तर बिहार में गंगा के उत्तर में अवस्थित था तथा जिसकी राजधानी वैशाली थी।
  3. मल्ल – पूर्वी उत्तर प्रदेश के इलाके इसके क्षेत्र थे।
  4. अंग – वर्तमान के बिहार के मुंगेर और भागलपुर जिले। इनकी राजधानी चंपा थी।
  5. काशी – इसकी राजधानी वाराणसी थी। जो वरुणा और असी नदियों की संगम पर बसी थी।
  6. कुरु – आधुनिक हरियाणा तथा दिल्ली का यमुना नदी के पश्चिम वाला अंश शामिल था। इसकी राजधानी आधुनिक दिल्ली (इन्द्रप्रस्थ) थी।
  7. कौशल – उत्तर प्रदेश के फैजाबाद जिला, गोंडा और बहराइच के क्षेत्र शामिल थे। इसकी राजधानी श्रावस्ती थी।
  8. पांचाल – पांचाल की दो शाखाये थी ― उत्तरी और दक्षिणी । उत्तरी पांचाल की राजधानी अहिच्छत्र और दक्षिणी पांचाल की काम्पिल्य थी।
  9. सूरसेन – इसकी राजधानी मथुरा थी।
  10. मत्स्य – इसमें राजस्थान के अलवर, भरतपुर तथा जयपुर जिले के क्षेत्र शामिल थे। इसकी राजधानी विराट नगर थी।
  11. अवन्ति – आधुनिक मालवा ही प्राचीन काल की अवन्ति है । इसके दो भाग थे― उत्तरी अवन्ति और दक्षिणी अवन्ति। उत्तरी अवन्ति की राजधानी उज्जयिनी और दक्षिणी अवन्ति की राजधानी माहिष्मति थी ।
  12. अश्मक – दक्षिण भारत का एकमात्र महाजनपद। नर्मदा और गोदावरी नदियों के बीच अवस्थित इस प्रदेश की राजधानी पाटन थी।
  13. चेदि – वर्तमान में बुंदेलखंड का इलाका। इसकी राजधानी शक्तिमती थी।
  14. कंबोज – गांधार-कश्मीर के उत्तर आधुनिक पामीर का पठार था, उसके पश्चिम बदख्शाँ-प्रदेश कंबोज महाजनपद कहलाता था। हाटक या राजपुर इस राज्य का राजधानी था।
  15. गांधार – पाकिस्तान का पश्चिमी तथा अफ़ग़ानिस्तान का पूर्वी क्षेत्र। इसकी राजधानी तक्षशिला थी |
  16. वत्स या वंश – आधुनिक उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद तथा मिर्ज़ापुर जिले। इसकी राजधानी कौशाम्बी थी।

इनमें से क्रम संख्या 1 से 7 तक तथा संख्या 11,ये आठ जनपद अकेले उत्तर प्रदेश में स्थित थे। काशी, कोशल और वत्स की सर्वाधिक ख्याति थी।

छठी शताब्दी ईसापूर्व में द्वितीय नगरीकरण प्रारंभ हुआ | इस समय पूर्व से चली आ रही कबायली संरचना टूट गई तथा उसका स्थान वर्णभेद पर आधारित समाज ने ले लिया | अब वर्ण व्यवस्था का आधार जन्म हो गया तथा एक जटिल सामाजिक व्यवस्था की स्थापना हुई| इन सभी परिवर्तनों ने मिलकर एक राज्य निर्माण की प्रक्रिया को पूरा किया | कर प्रणाली स्थापित हो गई थी | स्थाई सेना एवं रक्त संबंध से पृथक नौकरशाही का विकास हुआ | लोहे की अधिकाधिक उपलब्धता के कारण युद्ध उपकरणों का व्यापक निर्माण होने लगा तथा छोटे-छोटे जनपदों ने अपना क्षेत्रीय विस्तार बढ़ाने के लिए युद्ध किए व विजय प्राप्त करते हुए बड़े महाजनपदों का रूप ले लिया | इस काल में राजत्व की स्पष्ट अवधारणा विकसित हुई|

महाजनपदकालीन अर्थव्यवस्था

इस काल में द्वितीय नगरीकरण आरंभ हुआ था जिसका आधार मध्य दोआब क्षेत्र में कृषि अधिशेष ने तैयार किया था |इस काल में उत्तरी काल पालिशदार संस्कृति के तहत लोहे के उपकरण, पकाई गई ईंटे, सिक्के, घेरेदार कुएं आदि मिलते हैं | इस काल में कृषि कार्य में लोहे के उपयोग के स्पष्ट प्रमाण मिलते हैं |गांवों की अर्थव्यवस्था का आधार कृषि तथा शिल्प था | खेतों में सिंचाई की व्यवस्था थी तथा उत्पादन बढ़ाने के लिए खाद का भी प्रयोग किया जाता था।मुख्यतः धान, जौ, दलहन, कपास, ज्वार, गन्ने आदि की खेती की जाती थी।

कृषि के साथ साथ पशु पालन भी किया जाता था तथा कृषि से संबंध अनेक व्यवसाय जैसे रस्सी, टोकरी बनाने, चटाई बनाने तथा कृषि में प्रयुक्त होने वाले उपकरणों का भी विकास हुआ | इस विकसित प्रणाली में द्वितीय नगरीकरण का आधार तैयार कर दिया था।

Mahajanapadas important facts and Quiz

  • सोलह महाजनपदों का जिक्र मिलता है – छठी शताब्दी ईसा पूर्व
  • सोलह महाजनपदों के बारे में जानकारी मिलती है – बौद्ध ग्रंथ अंग्गुत्तरनिकाय,जैन ग्रंथ भगवतीसूत्र
  • जनवसभसुत्त में कितने महाजनपदों का उल्लेख मिलता है – 12 महाजनपदों
  • किस ग्रंथ में षोडश महाजनपदों की सूची में कलिंग को जोड़ दिया है तथा गान्धार के स्थान पर योन का उल्लेख मिलता है – चुल्लनिद्देश
  • किस ग्रंथ में गान्धार तथा कम्बोज के स्थान पर क्रमशः शिवि तथा दर्शाण के नाम मिलते हैं  – महावस्तु
  • सोलह महाजनपदों से सम्बन्धित विभिन्न ग्रंथों की सूची में किस ग्रंथ को प्रमाणिक माना गया है –  अंग्गुत्तर निकाय
  • किस विद्वान ने 1000 ई. पू. से लेकर 500 ई. पू. तक के काल को ‘ जनपद युग ‘ की संज्ञा दी है – डॉ . वी. एस. अग्रवाल
  • किस इतिहासकार ने भगवती सूत्र में गिनाये गये महाजनपदों को अंग्गुत्तर निकाय में दिये सोलह महाजनपदों से बाद का बताया है – हेमचंद्र रायचौधरी
  • अंग्गुत्तर निकाय की सूची में कितने प्रकार के राज्यों का विवरण है और वह कौन से हैं –  2 प्रकार के (राजतंत्र ,गणतंत्र )
  • सोलह महाजनपदों में राजतन्त्रों और गणतंत्रों की संख्या थी –  14 राजतन्त्र व 2 गणतन्त्र ।
  • बौद्ध ग्रंथ अंगुत्तर निकाय में 16 महाजनपदों के नाम मिलते हैं।
  • जैन ग्रंथ भगवती सूत्र में भी 16 महाजनपदों की सूची मिलती है दोनों सूचियों में अंग, मगध, काशी, कौशल, वत्स, वज्जि समान है ।
  • इनमें में 4 महाजनपद अधिक शक्तिशाली थे इनमें राजतंत्रात्मक शासन प्रणाली थी। ये है- 1 मगध 2 कौशल 3 वत्स और 4 अवंति ।
  • 16 महाजनपदों में मगध सबसे शक्तिशाली था।
  • अश्मक जनपद दक्षिण भारत में गोदावरी नदी के तट पर स्थित था यह दक्षिण भारत में एकमात्र महाजनपद था।
  • वज्जि व मल्ल को छोड़कर सभी में राजतंत्रात्मक शासन प्रणाली थी वज्जि व मल्ल गणराज्य थे।
  • अंग एवं मगध का सर्वप्रथम उल्लेख अथर्ववेद में मिलता है अथर्ववेद में यहां के निवासियों को व्रात्य कहा गया है।
  • बुद्ध के समय 10 गणराज्य थे। 8 वज्जि संघ के तथा दो मल्ल के अधीन थे।
  • प्रसेनजीत ने अपनी पुत्री वजीरा का विवाह अजातशत्रु (मगध नरेश) के साथ किया व काशी देहज में दिया।
  • अवंति का मगध साम्राज्य में विलय शिशुनाग ने किया।
  • महाजनपद काल में काशी अपने सूती व रेशमी वस्त्रों के लिए प्रसिद्ध था।

महाजनपद से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

 

  • अभिलेखीय साक्ष्य से प्रकट होता है कि नंद राजा के आदेश से एक नहर खोदी गई थी कहां पर – कलिंग में 
  • किसने कहा कि सिकंदर मेरा सिर काट सकता है लेकिन मेरी आत्मा का नाश नहीं कर सकता – मंडन ऋषि 
  • पहला वंश कौनसा था जिसने बड़े पैमाने पर आहत सिक्के जारी किए – नंद वंश 
  • भारत पर आक्रमण करने वाले ईरानी शासकों में प्रथम आक्रमणकारी कौन था -साइरस द्वितीय 
  • कौन सा नंद राजा प्रारंभ में डाकुओं के गिरोह का राजा था – महापद्मनंद 
  • कुसुमपुर की स्थापना किसने की -उदयिन 
  • पाटलिपुत्र किन नदियों के संगम पर स्थित है – गंगा गंडक व सोन 
  • बुद्ध के गुरु अलारकलाम किस गणराज्य से संबंधित थे – केसपुत्त 
  • कोलिय एवं शाक्य गणराज्य के बीच किस नदी के जल को लेकर विवाद था – रोहिणी नदी 
  • बुद्धिष्ट इंडिया पुस्तक किसने लिखी – रिज डेविस ने 1903 में 
  • हिंदू पॉलिटी पुस्तक किसने लिखी- के पी जायसवाल ने 1924 
  • अवंति महाजनपद की राजधानियां उज्जैन एवं महिष्मति के मध्य कौन सी नदी प्रवाहित होती थी – वेत्रवती नदी 
  • कान्यकुब्ज (कन्नौज) नगर किस महाजनपद में स्थित था – पांचाल महाजनपद 
  • हस्तिनापुर नगर किस महाजनपद में स्थित – कुरु महाजनपद 
  • सहेत महेत किस महाजनपद से संबंधित है – कौशल महाजनपद
  • काशी महाजनपद किन नदियों के मध्य स्थित था – वरुणा एवं अस्सी
  • दक्षिण में स्थित एकमात्र महाजनपद- अश्मक 
  • महावस्तु में महाजनपदो की सूची कौनसी भाषा में है –-पाली 
  • कौनसा नगर लिछवियो और वज्जि संघ की राजधानी था – वैशाली
  • भारत मे द्वितीय नगरीकरण का प्रारम्भ कहा हुआ – गंगा घाटी में 6 वी शताब्दी ईसा पूर्व
  • 16 महाजनपदों का उल्लेख मिलता है-  भगवती सूत्र (जैन ग्रंथ), अंगुत्तर निकाय (बोद्ध ग्रंथ)
  • सोलह महाजनपदों में सबसे शाक्तिशाली जनपद था – मगध
  • दक्षिण भारत मे स्थित एकमात्र महाजनपद था – अश्मक
  • महोदय नगर किसका प्राचीन नाम था- कन्नौज या कान्यकुब्ज
  • पाटलिपुत्र (कुसुमपुर) नगर की स्थापना किसने की- उदयिन
  • हर्यक वंश का अंतिम शासक कौन था- नागदशक या दर्शक
  • मगध की राजधानी वैशाली किस शासक ने बनाई- शिशुनाग
  • शिशुनाग वंश का अंतिम शासक कौन था – नंदिवर्धन
  • सिकंदर के आक्रमण के समय मगध का शासक था – धनानन्द
  • विश्व का पहला गणतन्त्र कहा स्थापित किया गया। ➡ वैशाली में लिच्छवियों द्वारा
  • प्राचीन समय का बिहार किसे माना जाता था। ➡ मगध को
  • पंचमार्क सिक्को की विशद व्याख्या किसने की थी। ➡ डी डी कौशाम्बी ने
  • किस वंश को पितृहन्ता वंश भी कहा जाता था। ➡ हर्यक वंश
  • किसे सेनिया अर्थात नियमित और स्थायी सेना रखने वाला कहा जाता था। ➡ बिम्बिसार को
  • उत्तरी भारत का प्रथम ऐतिहासिक सम्राट कौन था। ➡ धनानंद
  • किसे उग्रसेन अर्थात भयानक सेना का स्वामी कहा जाता था। ➡ महापद्मनंद
  • उदयिन ने पाटलिपुत्र की स्थापना किस नदी पर की थी। ➡ गंगा व सोन नदियों के संगम पर
  • यूनानी लेखको ने धनानंद को क्या कहा है। ➡ अग्रगीज व जेंटर मिज
  • कालाशोक का पुराणों में क्या नाम मिलता है। ➡ काकवर्ण
  • सर्वप्रथम 16 महाजनपदों की जानकारी कहा से मिलती है? ➡ अंगुत्तर निकाय(बौद्ध ग्रंथ)
  • जैन परम्परा में अजातशत्रु को किस नाम से जाना जाता है? ➡ कुणिक
  • उड़ीसा के मावर वंश को और किस नाम से जाना जाता है? ➡ मातृहन्ता वंश
  • किस पुस्तक से यह जानकारी मिलती है कि बिम्बसार की 500 रानियाँ थी? ➡ महावग्ग
  • बिम्बसार का राज्य वैद्य कौन था? ➡ जीवक
  • जीवक का जन्म कहाँ हुआ था? ➡ राजगृह में
  • अजातशत्रु ने किस तोप का निर्माण करवाया? ➡ महाकिला कटक
  • महापद्म नंद ने उड़ीसा पर आक्रमण करके किसकी मूर्ति को वहाँ से उठा लाया? ➡ महावीर स्वामी
  • श्रेणी संगठन के बीच सामंजस्य स्थापित करने के लिए किसकी नियुक्ति की जाती थी? ➡ भण्डारिका नामक अधिकारी की
  • राजगृह या गिरिब्रज कितनी पहाड़ियों से घिरा था? ➡ 5 पहाड़ियों से
  • अंग की राजधानी चम्पा का प्राचीन नाम क्या था ? ➡ मालिनी (महाभारत और पुराणो में)
  • बुद्ध काल में वत्स महाजनपद पर किस वंश का शासन था ? ➡ पौराववंश जिसका शासक उदयन था
  • कौटिल्य ने किस महाजनपद को ‘ वर्तशास्त्रोपजीवी ‘ कहा है ?.➡ कम्बोज ( राजधानी राजपुर या हाटक )
  • किस शासक ने अपनी पूरी सेना सहित अचिरावती (राप्ती) नदी में बहकर नष्ट हो गया ?..➡ विदुदभ
  • गणराज्यो के शासन पद्यति में मतदान अधिकारी को क्या कहा जाता था ? ➡ शलाका ग्राहक
  • चेदि महाजनपद आधुनिक में कहां स्थित है ♦ आधुनिक बुंदेलखंड
  • उदयन और वासवदत्ता की प्रेम का वर्णन किस पुस्तक में मिलता है ♦ स्वप्रवासदत्ता/कथा सरित्सागर/व्रहत्कथामंजरी
  • पंचाल की राजधानी क्या थी♦अहिचछत्र
  • उज्जैन और महिष्मति बीच कौन सी नदी प्रवाहित होती है और यह दोनों किसकी राजधानी आते हैं♦शिप्रा
  • मत्स्य जनपद का संस्थापक कौन है♦ विराट
  • अश्मक महाजनपद किस नदी के तट पर स्थित है ♦गोदावरी
  • तक्षशिला के प्रमुख विद्यार्थी कौन कौन थे♦ कोटिल्य, जीवक,चरक
  • महाजनपद काल मे कारीगरों की श्रेणी के मुखिया को क्या कहते थे ➡ जेथक
  • अश्मक राज्य की स्त्रियों ने किसके विरुद्ध युद्ध मे भाग लिया था। ➡ यूनानियों के
  • किस स्थल के साथ कपिलवस्तु की पहचान का समर्थन नवीन साक्ष्य से प्राप्त होता है। ➡ पिपरहवा
  • गणराज्यो में सन्थगरो का क्या महत्व था। ➡ यहाँ वाद विवाद होते थे
  • कालाशोक के उत्तराधिकारियों का क्रम बताये। ➡ उभक संजय कोरण्य व नन्दिवर्धन
  • मगध और वैज्य के बीच हुए युद्ध में इस्तेमाल हुए किन हथियारों का विवरण मिलता है➡ महाशिलाकं और रथमुशाला
  • बृहत मुर्तियां क्या दर्शाती हैं➡ अजातशत्रु और बु्दध् की वार्ता
  • जलदुर्ग किसे कहते थे➡ पाटलिपुत्र का किला
  • अजातशत्रु ने वैज्य राज्य पर आंतरिक कलह द्वारा कितने समय में विजय प्राप्त की➡16 वर्ष.
  • पुष्कलावती की पहचान वर्त मान मे ➡ चारुसद्दा से की जाती है
  • पुष्कलावती की पहचान वर्त मान मे ➡ चारुसद्दा से की जाती है.
  • दक्षिण मे एकमात्र महाजनपद➡ अस्मक.
  • राज निचक्षु ने हस्तिनापुर को गंगा के प्रवाह मे बह जाने के बाद , राजधानी बनायी➡ कौशाम्बी को.
  • चम्पा नगर के निर्माण की योजना ➡ महगोबिन्द.
  • महाभारत मे वर्णित द्रौपदी किस महाजनपद से संबंधित थी➡ पांचाल.
  • महापद्मनंद➡सूद्र शासक था।
  • घनानंद के ➡8 भाई थे।
  • घनानंद ➡सिकन्दर के सम कालीन था।
  • शिशुनाग वंश का➡महानन्दी अंतिम शासक था।
  • शिशुनाग हर्यक वंश का➡अमात्य था।.
  • क्षत्रिय वंशज होने के आधार पर बुद्ध के अस्थि- अवशेषों मे हिस्सेदारी का दावा किया ? अजातशत्रु.
  • नन्द वंश के विनाश मे किस सम्प्रदाय की भूमिका बताई गयी ? जैन सम्प्रदाय.
  • भारतीय नरेशों किसने सर्वप्रथम योग्य प्रशासन की आवश्यकता पर बल दिया ? बिम्बिसार.
  • पाटलिग्राम जो परवर्ती काल मे पाटलिपुत्र बना , का प्रारम्भ में दुगीर्करण करवाया ? अजातशत्रु.
  • नन्दो के पास 11 करोड़ स्वर्ण मुद्राओं का उल्लेख मिलता है ? सोमदेवकृत “कथासरित्सागर.
  • हैहय राजवंश की राजधानी कहाँ थी ? माहिष्मती.
  • सर्वक्षत्रान्तक किस कहाँ गया है ? महापद्मनन्द को.
  • किस शासक को बौद्ध एवं जैन दोनों ही उसे अपने-अपने मत का अनुयायी मानते है ? अजातशत्रु.
  • बुद्धघोष के अनुसार बिम्बिसार के साम्राज्य मे कितने गाँव थे ? 80हजार गाँव.
  • जैन साहित्य मे बिम्बिसार को क्या कहां गया ? श्रेणिक.
  • गणराज्यों की खोज सर्वप्रथम किसने की थी ➡ 1903 में रिज डेविड्स.
  • शाक्य गणराज्य का विनाश किसने किया था ➡कोशल नरेश विडूडभ.
  • शाक्य और कोलिय गणराज्यों के बीच कौन नदी बहती थी ➡ रोहिणी.
  • ईसा पूर्व 1000- 500 तक के काल को जनपद युग की संज्ञा किसने प्रदान की है ➡ वी0 एस0 अग्रवाल.
  • अंगुत्तरनिकाय में वर्णित महाजनपद बुद्ध के ➡ पहले थे.
  • काशी को कोशल महाजनपद में किस शासक ने मिलाया था ➡ कंस.
  • पौराणिक नगरी अयोध्या किस महाजनपद का भाग थी ➡कोशल.
  • चम्पा नदी किन दो महाजनपदो को पृथक करती थी ➡ अंग और मगध.
  • वज्जि गण्डक नदी के पूर्व जबकि मल्ल गण्डक नदी के किस तरफ था➡पश्चिम

 

Play Quiz 

No of Question -26

0%

1.मत्स्य जनपद की राजधानी थी?

Correct! Wrong!

2.दक्षिण भारत में स्थित जनपद था-?

Correct! Wrong!

3.सोलह महाजनपदों का वर्णन सबसे पहले किस ग्रन्थ में मिलता है-?

Correct! Wrong!

4.मगध की प्रारम्भिक राजधानी थी-?

Correct! Wrong!

5.वर्तमान पाकिस्तान में कौनसा जनपद स्थित था-?

Correct! Wrong!

6. सूरसेन महाजनपद की राजधानी कहाँ थी?

Correct! Wrong!

Q.7 मगध के राजा अजातशत्रु का किसके साथ सदैव युद्ध रहा?

Correct! Wrong!

Q.8 किस मगध शासक ने गंगा नदी के तट पर पाटलिपुत्र नगर की स्थापना की थी?

Correct! Wrong!

9. तक्षशिला के प्रसिद्ध स्थल होने का क्या कारण था?

Correct! Wrong!

10. उत्तरी बिहार का प्राचीन नाम क्या था?

Correct! Wrong!

11. महाभारत के अनुसार उत्तरी पांचाल की राजधानी स्थित थी ?

Correct! Wrong!

12. गोदावरी नदी के तट पर स्थित महाजनपद था?

Correct! Wrong!

13. निम्नलिखित में से कौन एक मगध साम्राज्य की राजधानी नहीं रहा?

Correct! Wrong!

14.मालवा क्षेत्र पर मगध की सत्ता का विस्तार निम्न में से किसके शासनकाल में हुआ था ?

Correct! Wrong!

15. मगध का कौन सा सम्राट *अपरोपरशुराम के नाम से जाना जाता है?

Correct! Wrong!

16. महाजनपद काल में "कोसल जनपद" की प्रमुख नगरी थी ?

Correct! Wrong!

17. वो कौन सा पहला भारतीय राजा था जिसने अपने आपको शक्तिशाली बनाने के लिए वैवाहिक गठजोड़ की शुरुवात किया था?

Correct! Wrong!

18. निम्नलिखित में से कौन सा प्राचीन ग्रंथ है जिसमे चंद्रगुप्त मौर्य द्वारा नंदों को उखाड़ने के सम्बन्ध उलेख किया गया है?

Correct! Wrong!

19 साटेह माटेह किसे कहा जाता था

Correct! Wrong!

20. मगध व अंग के मध्य नदी कौनसी थी

Correct! Wrong!

21. मगध का सर्वथम उल्लेख मिलता है

Correct! Wrong!

22. पाणीनी की अष्टाध्यायी में उल्लेख हुआ है

Correct! Wrong!

23. मल्ल राष्ट्र को भागों में बांटती थी

Correct! Wrong!

24. जिस जैन ग्रंथ में तीर्थंकरों के जीवन चरित्र है उसका नाम है?

Correct! Wrong!

25 निम्न में से जैन धर्म के त्रिरत्न में क्या शामिल नहीं है ?

Correct! Wrong!

26 बोधि प्राप्त करने के पूर्व ज्ञान की खोज में सिद्धार्थ गौतम किन आचार्यों के पास गए1अलार कालाम 2रूद्रक राम पुत्र 3 मोगली घोषाल। 4 नीलकंठ नाथ पुत्र निम्नलिखित कोर्ट से अपना उत्तर चुनिए

Correct! Wrong!

Mahajanapadas Quiz ( महाजनपद- प्राचीन भारतीय संस्कृति )
VERY BAD! You got Few answers correct! need hard work.
BAD! You got Few answers correct! need hard work
GOOD! You well tried but got some wrong! need more preparation
VERY GOOD! You well tried but got some wrong! need preparation
AWESOME! You got the quiz correct! KEEP IT UP

Share your Results:

Specially thanks to Post and Quiz Makers ( With Regards )

प्रियंका,  अनीश, कमलनयन पारीक अजमेर, रोहित साहू मप्र, लोकेश स्वामी, Rajendra singh Rawat, महेन्द्र चौहान, चंद्र गुप्त जयपुर, प्रदीप श्योराण, रमेश डामोर सिरोही, जुल्फिकार अहमद दौसा, भवँर सिंह जी भाटी बाड़मेर, लोकेश जी नागर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *