राजस्थान के लोक गीत ( Rajasthan Folk song )

1.पावणा गीत ( Rendition song )

नये दामाद के ससुराल आने पर स्त्रियाँ भोजन करवाते समय गीत गाती है

2.हम सीढों गीत ( ham sidhon geet )

यह उत्तरी मेवाड़ के भीलों का प्रसिद्ध लोकगीत हमसीढों कहलाता है इसे स्त्री व पुरुष मिलकर गाते है

3. लावणी जीत ( Lavani geet )

लावणी का मतलब बुलाने से है नायक के द्वारा नायिका को बुलाने के अर्थ में यह गीत गया जाता है,कुछ लावनियाँ जैसे मोरध्वज, भर्तहरि, सेउसमन की लावनियाँ.

4. कुरजा गीत ( Kurja song )

यह एक सुन्दर ￰पक्षी होता है जो पश्चिम राजस्थान में देखा जा सकता है यह गीत वर्षा ऋतू में गया जाता है ऐसा माना जाता हे की प्राचीन काल में वियोगिनी स्त्रियां आपने प्रदेश गए पति को बुलाने का सन्देश देती है

5. झोरवा गीत ( Zorva song )

प्रेमिका का वियोग में गाया जाता है यह राज्य के जैसलमेर में गाया जाता है इस गीत में प्रेमी के इंतजार में व्यथित स्त्री की विरह व्यथा का चित्रण प्रस्तुत कर प्रितम को घर आने का सन्देश देते हुए गाया जाता है
“केसरिया बालम पधारो जी म्हारे देश”

कला और संगीत संस्थान ( Arts and music institute )

  • जवाहर कला केन्द्र- जयपुर  – 1993 ई. इस संस्था द्वारा सर्वाधिक सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया जाता है।
  •  जयपुर कत्थक केन्द्र-जयपुर  -1978 ई.
  • रविन्द्र मंच- जयपुर  1963 ई.
  • राजस्थान संगीत संस्थान- जयपुर 1950 ई.
  • पारसी रंग मंच – जयपुर  1878 ई. जयपुर के शासक रामसिंह द्वितीय के द्वारा स्थापित है। इसे राम प्रकाश थियेटर भी कहा जाता है।
  • पशिचमी क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र – उदयपुर 1986 ई. यह केन्द्र बागौर हवेली में संचालित है।
  •  राजस्थान संगीत नाटक अकादमी- जोधपुर 1957
  • राजस्थान साहित्य अकादमी- उदयपुर जनवरी 1958 ई
  • भवानी नाट्यशाला – झालावाड़  महाराजा भवानी सिंह द्वारा 1921 ईं. में स्थापित की गई।
  • राजस्थान भाषा साहित्य एवं संस्कृत अकादमी- बीकानेर 1983
  • पं झाबर मल शर्मा शोध संस्थान- जयपुर 2000 ई.
  • सदीक खां मागणियार जोक कला एवं अनुसंधान परिषद/ लोकरंग – जयपुर 2002 ई
  • भारतीय लोक कला मण्डल -उदयपुर संस्थापक – देवी लाल सांभर  स्थापना – 1952 ई.
  • मारवाड़ नाटक संस्थान/मारवाड़ लोक कला मण्डल -जोधपुर संस्थापक-लक्ष्मण दास डांगी स्थापना- 1897 ई.
  • मरूधर लोक कला मण्डल – जोधपुर  संस्थापक -गणपत लाल डांगी  गणपत लाल डांगी को “गीगले का बापू” कहते है।
  • रूपायन संस्थान:- बौरूदा (जोधपुर)  स्थापना:- 1960 ई. संस्थापक – कोमल सिंह कोठारी
  • राजस्थान संस्कृत अकादमी – जयपुर  1980
  • राजस्थान उर्दू अकादमी – जयपुर 1979
  • राजस्थान हिन्दी ग्रन्थ अकादमी – जयपुर 1969
  • मौलाना अब्दुल कलाम आजाद अरबी फारसी शोध संस्थान – टोंक 1978
  • राजस्थान ललित कला अकादमी – जयपुर 1957

Rajasthan Folk song important facts and Quiz

प्रश्न-1 राजस्थान के लोक गीतों को कितने भागों में विभक्त किया गया है ?

उत्तर- राजस्थान के लोक गीतों को तीन भागों में विभक्त किया गया है
प्रथम वे गीत- जो जनसाधारण द्वारा विशेष अवसर पर गाए जाते हैं
द्वितीय गीत-जो राज्य के प्रभाव के कारण विकसित हुए और जिन्हे कई जातियों ने अपना पैशा बना लिया
तीसरे लोक गीत-में क्षेत्रीय प्रभाव दिखाई देता है

प्रश्न-2 जनसाधारण द्वारा गाए जाने वाले गीतों को विषय के आधार पर कितने भागों में बांटा जा सकता है ?

उत्तर- जनसाधारण द्वारा गाए जाने वाले गीतों को विषय के आधार पर 5 भागों में बांटा जा सकता है
1-संस्कार संबंधी गीत
2-त्यौहार और पर्व संबंधी गीत
3-धार्मिक गीत
4-ऋतु संबंधी गीत
5-विविध विषयों से संबंधित गीत जैसे इंडोनी कांगसियो गोरबंद

प्रश्न-3 राजस्थान के लोक गीतों की विशेषता क्या है ?

उत्तर- लोकगीत किसी विशेष क्षेत्र के जनमानस के स्वभाविक उद्गारों का प्रस्फुटन होता है जिसमें उल्लास प्रेम करुणा दुख की अभिव्यक्ति होती है इन के रचयिता के बारे में पता ना होना भाषा की अपेक्षा भावपूर्ण होना इसकी मुख्य विशेषताएं संस्कृति रहन सहन और मानवीय भावनाओं का सजीव वर्णन मौखिक होने पर भी ले बंद्ध होना आदि मुख्य विशेषताएं हैं यह हमारी संस्कृति को साकार करते हैं और परंपरा को अक्षुण्ण बनाए रखते हैं और आदिम संस्कृति के प्रवाहमान हैं

प्रश्न-4 निम्न क्षेत्रीय गीतों का वर्णन कीजिए—कुरंजा, मुमल ,केसरिया बालम ,बिछुडो ढोला मारु ?

उत्तर- 1- कुरंजा ( Kuranja )- यह मरुप्रदेश (जोधपुर )क्षेत्र का लोक गीत है इसकी गायन शैली मांड है और यह वर्षा ऋतु के समय गाया जाता है इस गीत का प्रतीक कुरंजा है इस गीत मे पत्नी पति को संदेश भेजती है एक प्रकार से विरह गीत है

2- मुमल ( Mumal ) – यह जैसलमेर क्षेत्र का लोक गीत है इसे किसी भी समय गाया जो सकता है यह गीत लोद्रवा की राजकुमारी मूमल पर आधारित है सुंदरता का नख से शिख वर्णन (श्रंगार गीत) है

3- केसरिया बालम ( Kesaria balam )-  मारवाड़ क्षेत्र का लोक गीत हैं इसकी गायन शैली मांड है यह बिरह और रजवाड़ी गीत स्त्रियों द्वारा गाया जाने वाला गीत है इस गीत को राजस्थान में आने वाले विशेष अतिथियों के आगमन के समय में गाया जाता है

4- बिछुडो ( Bichhuda )-  बिछुडो गीत-हाड़ौती क्षेत्र का लोक गीत है इसे किसी भी अवसर पर किसी भी समय गा सकते हैं इस लोकगीत में बिच्छू के डंक से मरणासन्न पत्नी द्वारा पति को दूसरे विवाह का संदेश देने के लिए कहा जाता है

5- ढोला मारू ( Dhola maru )–  यह सिरोही क्षेत्र का लोकगीत है यह गीत ढोला मरवण की प्रेमकथा पर आधारित प्रेम और श्रृंगार रस का गीत है ढा़ढी़यो द्वारा गाया जाने वाला यह एक प्रसिद्ध लोकगीत है

प्रश्न-5 राजस्थान की विभिन्न लोक गायन शैलियों का वर्णन कीजिए ?

उत्तर- 1- मांड ( Mand )- मांड क्षेत्र (जैसलमेर) में गाए जाने वाली राग मांड राग कहलाती है मांड गायकी शास्त्री गायन कि लोक शैली है यह राजस्थान की एक श्रंगार रसात्मक राग है यहां की जैसलमेरी मांड ,बीकानेर मांड, जोधपुर मांड ,जयपुर की मांड आदि प्रसिद्ध राज्य के प्रसिद्ध मांड गायिका हैं स्वर्गीय गवरी देवी (बीकानेर )स्वर्गीय हाजल अल्लाह जिलाह बाई (बीकानेर) गवरी देवी (पाली )मांगीबाई (उदयपुर )श्रीमती जमीला बानो (जोधपुर )श्रीमती बन्नो बेगम (जयपुर आदी

2- मांगणियार ( Manganiyar )- राजस्थान की पश्चिमी मरुस्थलीय सीमावर्ती क्षेत्रों बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर आदी में मांगणियार जाति के लोगों द्वारा अपने यजमानों के यहां मांगलिक अवसरों पर गाए जाने वाले लोक गायन शैली है जिसमें मुख्यत: 6 राग और 36 रागनियां होती हैं मांगणियार मुस्लिम मूलतः सिंध प्रांत के हैं गायन वादन ही इनका प्रमुख पेशा है इन के प्रमुख वाद्य कमायचा खड़ताल आदी हैं प्रमुख मांगणियार कलाकार साफर खान मांगणियार, गफूर खान मांगणियार, गमडा़ खान मांगणिया, रुकमा देवी, अकला देवी ,समंदर खां मांगणियार, रमजान खान (ढोलक वादक) स्वर्गीय सद्दीक खान मांगणियार (प्रसिद्ध खड़ताल वादक) साकर खां मांगणियार( कमायचा वादक)

3- लंगा ( Langa )- बीकानेर, बाड़मेर, जोधपुर और जैसलमेर जिले के पश्चिमी क्षेत्रों में मांगणियार की तरह मांगलिक अवसरों और उत्सव पर लंगा जाति के गायकों द्वारा गाए जाने वाली गायन शैली लंगा गायकी कहलाती है सारंगी और कमायचा इनके प्रमुख वाद्य हैं राजपूत इन के यजमान होते हैं प्रमुख लंगा कलाकार फूसे खॉ, महरदिन लंगा, अलाउद्दीन लंगा, करीम खान लंगा

4- तालबंदी ( talabandi ) – राजस्थान के पूर्वी अंचल भरतपुर ,धौलपुर, करौली और सवाई माधोपुर आदि में लोक गायन शैली की शास्त्रीय परंपरा है जिसमें राग रागनियों से निबद्ध प्राचीन कवियों की पदावलीया सामूहिक रूप से गायी जाती है इसे ही तालबंदी गायकी कहते हैं इसमें प्रमुख वाद्य सारंगी, हारमोनियम, ढोलक, तबला और झॉझ है और बीच बीच में नगाड़ा( बंब) भी बजाते हैं

Play Quiz 

No of Questions- 45

0%

प्रश्न-1.. कोटा के आलनियाँ बांध से प्राप्त हुए हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-2.. डालू नामक चित्रकार किस शैली से संबंधित है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-3.. राजपूताने की वह प्रथम रियासत जिसने अपने राज्य में शिकार के चित्र पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाया??

Correct! Wrong!

प्रश्न-4.. उनियारा शैली किस शैली की उपशैली है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-5.. राजपूताने में सर्वप्रथम प्राचीन अलंकृत गुफा कहां से प्राप्त हुए??

Correct! Wrong!

प्रश्न-6.. किस पुस्तकालय में खजूर के पत्तों पर लिखी हुई पांडुलिपियों का संग्रह मिलता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-7.. खिड़की से झांकता है चांद किसकी कृति है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-8.. जयपुर को पिंक सिटी नाम द रॉयल टूर टू इंडिया में दिया इसके लेखक हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-9.. पूर्वी राजस्थान के मध्य पूर्व भाग की प्रथम बोली है??

Please select 2 correct answers

Correct! Wrong!

प्रश्न-10.. महाराणा कुंभा द्वारा रचित 4 नाटकों में कीर्ति स्तंभ के अनुसार किस भाषा का प्रयोग किया गया था??

Correct! Wrong!

प्रश्न-11..आयरो प्राचीन जैन ग्रंथ किस से संबंधित है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-12..जरथ्रुस्ट द्वारा परिवर्तित पारसी धर्म के अनुयाई किसके उपासक हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-12.. राजस्थान के किस जिले में लालदासी संप्रदाय की मान्यता अधिक है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-13.. राजस्थान के लोकदेवता जिनकी गणना राजस्थान के प्रमुख पंच पीरों में नहीं की जाती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-14.. राजस्थान में थोरी जनजाति किस लोक देवता को एक आराध्य के रूप में मानती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-15.. राजस्थान का वह महान हिंदू संत जिसने एक मुस्लिम समिति से दीक्षा ग्रहण की थी??

Correct! Wrong!

प्रश्न-16.. राजस्थान के प्रसिद्ध संत जिन्होंने यह लिखा था कि ईश्वर नित्य है सर्वोपरि है और मनुष्य वासनाओं का दास है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-17.. राजस्थान के प्रसिद्ध लोक देवता जिन्हें राजस्थान के कबीर के रूप में ख्याति प्राप्त है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-18.. वीर तेजाजी का संबंध नागौर से था लेकिन राज्य में इनके सर्वाधिक स्थान कहां बने हुए हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-19.. पोकरण जैसलमेर में आशापुरा माता किस जाति की कुलदेवी है जिसमें विवाहित वधू मेहंदी नहीं लगाती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-20.. राज्य में क्षेमकरी देवी का मंदिर कहां स्थित है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-21.. खतरगच्छ, तपागच्छ,संडेरगच्छ, लुक्कागच्छ,सगरगच्छ क्या है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-22.. राजस्थान के पास पांचोटा गांव के पंचमुखी पहाड़ पर घुड़सवार के रूप में लोक देवता तल्लीनाथ जी की मूर्ति है इस प्रकृति प्रेमी लोक देवता की किस जिले में सर्वाधिक मान्यता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-23.. किस समाज के लोग दीपावली के बाद गोवर्धन पूजा के दिन अपने अस्त्रों का प्रयोग नहीं करते हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-24.. गरासिया जनजाति में प्रचलित श्रेष्ठ विवाह जो हिंदू रीति रिवाजों के अनुसार होता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-25.. कुकडी की रस्में किस जनजाति में निभाई जाती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-26.. चांदनी रात की चांदनी में मछली नृत्य का आयोजन राजस्थान में किस जनजाति की महिलाओं द्वारा किया जाता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-27.. किस योजना का क्रियान्वयन भारत विकास परिषद द्वारा किया जा रहा है जिसके अंतर्गत जनजाति क्षेत्र के छात्रों को खेल प्रशिक्षण दिया जा रहा है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-28.. जनजातियों में प्रचलित गारिए का ढोल सूचक है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-29.. आदिवासी क्षेत्रों में पानिया बनाने हेतु मुख्यतः कौन सा पत्ता उपयोग में लिया जाता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-30.. भीली व्याकरण नामक ग्रंथ के रचयिता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-31.. किस जनजाति के लोग पेय पदार्थों में दूध का प्रयोग बिल्कुल नहीं करते हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-32.. राजस्थान की कला और संस्कृति में सामाजिक धार्मिक व्यावसायिक उन्नति के साधन मेले और त्योहारों को मनुष्य की आत्मा किसने कहा??

Correct! Wrong!

प्रश्न-33.. कौन सा धार्मिक मेला पशु मेले के रूप में नहीं लगता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-34.. अन्नकूट मेला आयोजित होता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-35.. राजस्थान में किस त्यौहार पर हीड़ देने जाने की परंपरा निभाई जाती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-36.. कनफटे बाबाओं का संबंध जिस मेले से है वह है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-37.. राजस्थान का वह प्रसिद्ध मेला जिसे राज्य का सबसे बड़ा वीर मेला कहते हैं कहां आयोजित होता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-38.. राजस्थान की कला संस्कृति में किसने राजस्थान के लोक गीतों को राज्य की आत्मा कहा??

Correct! Wrong!

प्रश्न-39.. वह लोकनाट्य जिसमें ना पानी ना रंग ना गुलाल होता है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-40.. राज्य की ऐसी फड़ जिसका वाचन रात के स्थान पर दिन में होता है तथा बिना वाद्य यंत्रों के प्रस्तुत होती है??

Correct! Wrong!

प्रश्न-41.. रुलाने वाले फकीर के नाम से प्रसिद्ध संगीतज्ञ थे??

Correct! Wrong!

प्रश्न-42.. भेट के दंगल कहां आयोजित होते हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-43..अड़ भोपा वह वादक जाती है जिसके गीत संबंधित होते हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-44.. किसके अनुसार लोकगीत किसी संस्कृति के मुंहबोले चित्र हैं??

Correct! Wrong!

प्रश्न-45..हेडा़ऊ मेरी कि रम्मत की सूत्रपात किया??

Correct! Wrong!

Rajasthan Painting, Folk Songs, Folk Dance Quiz ( राजस्थान के लोक गीत )
बहुत खराब ! आपके कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
खराब ! आप कुछ जवाब सही हैं! कड़ी मेहनत की ज़रूरत है
अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया ! अधिक तैयारी की जरूरत है
बहुत अच्छा ! आपने अच्छी कोशिश की लेकिन कुछ गलत हो गया! तैयारी की जरूरत है
शानदार ! आपका प्रश्नोत्तरी सही है! ऐसे ही आगे भी करते रहे

Share your Results:

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

प्रभुदयाल मूण्ड चूरु, 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *