राजस्थान के भूगोल के निःशुल्क नोट्स में इस पोस्ट में राजस्थान के खनिज संसाधनों (Rajasthan Mineral Resources) से जुडी महत्वपूर्ण जानकारियों को संकलित किया है जो आपके ज्ञान में वृद्धि के साथ साथ भविष्य में होने वाली प्रतियोगी परीक्षा में भी आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होगी इसलिए पोस्ट को ध्यानपूर्वक पूरा जरूर पढ़ें

1956 में एकीकरण के समय राजस्थान में 11 वृहत उद्योग तथा 207 पंजीकृत कारखाने थे। इन 11 वृहत उद्योगों में 7 सूती वस्त्र मिल, 2 शक्कर उद्योग तथा दो सीमेंट उद्योग थे। राज्य में वर्तमान में 36 जिला उद्योग केंद्र एवं आठ उपकेंद्र है । दूसरी पंचवर्षीय योजना अंतर्गत सर्वप्रथम औद्योगिक विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई खनिज उपलब्धता की दृष्टि से राजस्थान का देश में झारखंड एवं मध्यप्रदेश के बाद तीसरा स्थान आता है

Rajasthan Mineral Resources

राजस्थान में देश के कुल खनिज उत्पादन का 22% तथा मूल्य का 5.7% योगदान है, एशिया का श्रेष्ठ जस्ता एवं सीसा अयस्क भंडार राजसमंद जिले के राजपुर दरीबा में स्थित है राजस्थान में मैगनीज सबसे ज्यादा बांसवाड़ा जिले में पाया जाता है और टंगस्टन सबसे ज्यादा नागौर जिले में पाया जाता है राजस्थान का अधिकांश फेल्सपार अजमेर और भीलवाड़ा जिले में पाया जाता है

भारत का 100% प्रतिशत wollastonite का उत्पादन राजस्थान में सिरोही जिले में होता है, राज्य में सर्वाधिक अभ्रक का उत्पादन भीलवाड़ा एवं उदयपुर जिले में होता हैराज्य में डूंगरपुर जिले में मांडो की पाल नामक स्थान पर एशिया की प्रमुख खान स्थित है, राजस्थान खान ब्लॉकों की नीलामी करने वाला देश का पहला राज्य हैं । राजस्थान के माही बांसवाड़ा क्षेत्र में थोरियम उत्पादन शीघ्र प्रारंभ किया जाएगा। राजस्थान में भीलवाड़ा के हमीरगढ़ क्षेत्र की पहाड़ियों में लौह अयस्क का नया भंडार मिला है। राजस्थान का सबसे बड़ा लिग्नाइट आधारित कन्वेयर बेल्ट बाड़मेर में स्थित है।

वृहत एवं लघु उद्योग इकाइयां

जयपुर एवं भिवाडी (अलवर) वृहत एवं मध्यम उद्योगिक इकाइयों की दृष्टि से अग्रणी जिले है, भिवाडी में सर्वाधिक बहुराष्ट्रीय कंपनियां स्थिति है। अलवर में सर्वाधिक वृहत औद्योगिक इकाइयां है। एवं भिवाडी, जयपुर एवं भीलवाड़ा में सर्वाधिक लघु उद्योग इकाइयां है। जयपुर एवं जोधपुर में सर्वाधिक पंजीकृत फैक्ट्रियां क्रमशः यहाँ है जैसलमेर एवं बारां न्यूनतम पंजीकृत फैक्ट्रियों वाले जिले है। उदयपुर, अलवर, कोटा, भीलवाड़ा को औद्योगिक संभावनाओं के आधार पर राजस्थान के ये जिले “A” श्रेणी अंतर्गत आते हैं।

राजस्थान के प्रमुख औधोगिक संस्थान

  • जोधपुर में साइंस सिटी की स्थापना की जाएगी।
  • अलवर, अजमेर – माचिस एवं अगरबत्ती उद्योग, सालर वुड माचिस बनाने में प्रयुक्त होती है।
  • प्रहलादपुरा (जयपुर):- यहां ऑटोमोबाइल सर्विस कॉम्प्लेक्स स्थापित होगा।
  • कलड़वास (उदयपुर):- इस उद्योगिक क्षेत्र में फार्मास्यूटिकल जॉन विकसित किया जायेगा।
  • सूरा:- बाड़मेर का स्थान लकड़ी पर पीतल की जढ़ाई व नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है।
  • कोटा:- यहां पहला साइंस पार्क व धनिया निर्यात जॉन स्थित है।
  • झालावाड़:- यहाँ राजस्थान में दूसरा विज्ञान पार्क स्थापित किया जाएगा।
  • EPIP:- इसका पूरा नाम निर्यात संवर्धन औद्योगिक पार्क( एक्सपोर्ट प्रमोशन इंडस्ट्रियल पार्क) है।
  • राजस्थली:- यहां ग्रामीण दस्तकार और शिल्पियों के उत्पादों को बेचा जाता है।
  • नेशनल ट्रेनिंग सेंटर फॉर वुड टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन-: जोधपुर में है।
  • ग्रोथ पोल:- सिकंदरा (सिकराय,दौसा) में स्थापित किया जाएगा।
  • क्लस्टर्स:- कुटीर उद्योग के लिए जैसलमेर जिले के पोकरण में कुंभकारी कला ,शेखावटी क्षेत्र में बंधेज, हाड़ौती क्षेत्र में कोटा- डोरिया, सीकर जिले में चर्म उद्योग तथा जोधपुर में हैंडीक्राफ्ट (मेघा क्लस्टर) के क्लस्टर बनाए जाएंगे।

प्रसिद्ध स्थान ( Famous Places )

  • खसखस का इत्र:- सवाई माधोपुर
  • आतिशबाजी:- कोटा
  • साबुन निर्माण:- उदयपुर
  • घोड़े की काठी:- जालौर व जैसलमेर
  • सूती वस्त्र :- इस उद्योग से ग्रामीण जनसंख्या का सर्वाधिक रोजगार प्राप्त होता है।
  • राज्य का 75% कपास क्षेत्र ” गंगानगर एवं हनुमानगढ़ जिले में है।
  • भीलवाड़ा:- ऑफ एक्सपोर्ट एक्सीलेंस फॉर टेक्सटाइल घोषित।

ये भी पढ़े – राजस्थान पर्यटन और परिवहन से जुड़े सवाल

राजस्थान के प्रमुख खनिज क्षेत्र (Rajasthan Mineral Regions)

लौह-अयस्क (Iron ore)

लौह-अयस्क धातु का सर्वाधिक उत्पादन जयपुर जिले में होता है | इसके अलावा जयपुर में मोरीजा बानोल, दौसा में निमला राईसेला, सीकर में नीमकाथाना, झुंझुनू में डाबला सिंघाना तथा उदयपुर जिले में थूर हुंडेर तथा नाथरा की पोल आदि स्थानों पर भी लौह-अयस्क का खनन होता है

मैगनीज ( Manganese )

मैगनीज का सर्वाधिक उत्पादन बांसवाड़ा जिले में होता है | इसके अन्य खनन क्षेत्र बांसवाड़ा जिले में लीलवाना कालाखुआं, उदयपुर जिले में तलवाड़ा तथा सरूपपुरा देबारी में भी है |

सीसा-जस्ता-चांदी (Lead-zinc-silver)

उदयपुर जिले में सीसा-जस्ता-चांदी का उत्पादन होता है | उदयपुर जिले में जावर, देबारी, मोचिया मगरा, बरोड़ मगरा, राजसमंद जिले में राजपुरा दरीबा, भीलवाड़ा जिले में रामपुरा आंगूचा एवं सवाई माधोपुर जिले में चौथ का बरवाड़ा नमक स्थानों पर भी सीसा-जस्ता-चांदी का खनन होता है |

इसे जरूर पढ़ें – Rajasthan Mineral Resources Questions – खनिज संसाधन

तांबा (Copper)

झुंझुनू जिले में राजस्थान का सर्वाधिक तांबा का उत्पादन होता है | खेतड़ी, सिंघाना नामक स्थान तांबा के खनन हेतु प्रसिद्ध है | उदयपुर जिले के अंजनी, सलूम्बर तथा अलवर जिले के खो-दरीबा नामक स्थानों पर भी तांबा का उत्पादन होता है |?

टंगस्टन (Tungsten)

नागौर जिले में रेवंत पहाड़ी (डेगाना) तथा सिरोही जिले में आबू, रेवदर तथा वाल्दा नामक स्थानों पर टंगस्टन का उत्पादन किया जाता है |?

बेरेलियम (Beryllium)

उदयपुर जिले में चंपागुढा, शिकारबाड़ी, भीलवाड़ा जिले में मकरेड़ा तथा राजसमंद जिले में आमेट नामक स्थानों पर बेरेलियम का खनन किया जाता है |

सोना (Gold)

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में सोना धातु के भंडार पाए गए हैं | जगपुरा, आनंदपुरा, भूकिया नामक स्थान बांसवाड़ा जिले में तथा उदयपुर जिले में रायपुर खेड़ा एवं सिरोही जिले में तिमरन माता और बसंतगढ़ में भी सोने के भंडार होने की सम्भावना है 

यूरेनियम (Uranium)

उदयपुर में ऊमरा, सीकर में खंडेला तथा भीलवाड़ा में भूणास नामक स्थानों पर यूरेनियम का उत्पादन किया जाता है |

Important post – Mines & mineral wealth of Rajasthan

Important fact related to Rajasthan Mineral

  • धात्विक श्रेणी की खनिज – तांबा सीसा जस्ता कच्चा लोहा मैगनीज टंगस्टन आदि
  • अधात्विक खनिज – एस्बेस्टस फेल्सपार सिलिक| रेत वोलस्टोनाइट मैग्नेसाइट डोलोमाइट आदि
  • राज्य में संगमरमर पत्थर धोलपुर मैं लाल, भरतपुर में गुलाबी ,जोधपुर में बादामी, राजनगर में सफेद संगमरमर, सात रंग का संगमरमर थांदला गांव पाली ,मकराना नागौर में सफेद , जयपुर में काला पत्थर प्राप्त होता है, जालौर जिले में गुलाबी ग्रेनाइट और कोटा में स्लेटी इमारती पत्थर प्राप्त होता है
  • तेल और कोयले की बदौलत देश की खनिज की आर्थिक राजधानी राजस्थान का बाड़मेर जिला बन रहा है।
  • मुंबई हाई के बाद राजस्थान देश का दूसरा अग्रणी तेल उत्पादक क्षेत्र है।
  • राजस्थान द्वारा भारत का लगभग 25% क्रूड ऑयल का उत्पादन किया जाता है।
  • देश का सबसे बड़ा स्ट्रैटेजिक रिजर्व क्रूड ऑयल सेंटर राजस्थान में बीकानेर में स्थापित किया जाएगा।
  • राजस्थान में फिरोजपुर खालसा गांव राजगढ़ अलवर मैं अब तक का राज्य का सबसे बड़ा बॉल क्ले खनिज भंडार प्राप्त हुआ है।

 

Quiz 

Question – 45

[wp_quiz id=”5074″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

रमेश डामोर सिरोही, P K Nagauri, प्रकाश दाधीच, मेड़ता सिटी, PKGURU, गिरिराज पालीवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.