Reproductive system ( मानव शरीर- जनन तंत्र )

जनन सभी जीव धारियों में पाए जाने वाला एक अति महत्वपूर्ण तंत्र है जिसमें है एक जीव अपने जैसी संतान उत्पन्न करता है मानव में लैंगिक जनन पाया जाता है यह द्विलिंगी प्रजनन प्रक्रिया हैं जिसमें नर युग्मक के तौर पर शुक्राणुओं का निर्माण करते हैं तथा मादा अंडे का निर्माण करती है शुक्राणुओं तथा अंडाणुओं के निषेचन से युग्मनज का निर्माण होता है जो आगे चलकर नए जीव का निर्माण करता है लैंगिक जनन हेतु इसके लिए उत्तरदाई जनन कोशिकाओं का विकास एक विशेष अवधि जिसे यौन आरंभ कहा जाता है  इस अवस्था में लैंगिक विकास दृष्टिगोचर होने लगता है तथा जन्म परिपक्वता आती है

Image result for Reproductive system

जनन  मुख्यतः दो प्रकार का होता है

  1. लैंगिक
  2. अलैंगिक

1. अलैंगिक जनन (Asexual reproduction )

इस प्रकार के जन्म में केवल एक ही जीव की आवश्यकता होती है प्रारंभिक जीवो में जनन की यह सबसे सरल विधि मानी जाती है यह निम्न प्रकार का होता है

  • द्विखंडन- इसमें जीव दो भागों में बढ़ जाता है इसे असूत्री विभाजन भी कहते हैं कुछ प्रोटोजोआ जंतु जैसे अमीबा में यही जनन की विधि होती है
  • बहू खंडन- इसमें जीव बहुत सारे भागों में विभक्त हो जाता है जैसे यीस्ट, स्पाइरोगाइरा
  • विखंडन – इसमें जिव किसी भी स्थान से टूट जाता है और नए जीव की तरह व्यवहार करने लगता है जैसे सितारा मछली
  • मुकुलन- इस विधि में किसी भी पौधे से उंगली नुमा प्रवर्ध निकलता है जिसे मुकुल कहते हैं और इस विधि को मुकुलन कहते हैं जैसे हाइड्रा, केला
    ध्यान दें – और्गनों जेनेसिस अंग निर्माण की प्रक्रिया होती है इसे पुनरुदभवन कहा जाता है पुनरुदभवन के द्वारा किसी अंग का निर्माण होता है जैसे छिपकली की पूंछ का पुनः वापस आना
  • री जनरेशन- इसे भी पुनरुदभवन कहा जाता है परंतु यह जनन की एक विधि है जैसे प्लेनेरिया
  • बीजाणु निर्माण – यह विधि अलैंगिक जनन की सबसे प्रारूपिक विधि है प्रारंभिक जीवो में जनन की सबसे उत्तम विधि मानी जाती थी इस विधि से जीव बहुत दिनों तक अपने आप को वातावरण के प्रतिकूल परिस्थितियों से बचाए रखता है इस विधि में जीव की कोशिका कुछ अलग दिखाई देने लगती है और बीजाणुधानी की तरह व्यवहार करती है उसमें बीजाणुओ का निर्माण हो जाता है यह बीजाणु कहीं न कहीं जाकर अंकुरित हो जाते हैं बीजाणु द्वारा जनन सबसे सरल विधि मानी जाती है कवक और शैवाल इसी विधि से जनन करते हैं
    वैसे तो बीजाणु के बहुत से प्रकार होते हैं परंतु कुछ मुख्य बीजाणु निम्न प्रकार हैं
    अंतः बीजाणु-  यह बीजाणु ज्वालामुखी में भी रह सकते हैं दूध उबालने के बाद भी फट जाता है इन्हीं बीजाणु के कारण
    चल बीजाणु – यह सामान्य प्रकार के बीजाणु होते हैं तथा क्लेमाइडोमोनास में बनते हैं

2. लैंगिक जनन (Sexual reproduction )

जिसमें 2 लिंगों अर्थात नर व मादा की आवश्यकता होती है लैंगिक जनन कहलाता है लैंगिक जनन से अनुवांशिक विविधता आती है लैंगिक जनन में चूंकी नर और मादा के आधे आधे लक्षण होते हैं इसलिए नए जिवो में कई प्रकार के नए लक्षण आते हैं विकसित पादप और विकसित जंतुओं में जनन का सबसे उत्तम प्रकार यही है लैंगिक जनन द्वारा उद्विकास का प्रकरण आगे बढ़ता है यह जनन पौधे और जंतु दोनों में पाया जाता है

पौधों में लैंगिक जनन पौधों में लैंगिक जनन पुष्पों द्वारा होता है क्योंकि सभी पुष्प द्विलिंगी होते हैं इसलिए इन्हें हरमेफ्रोडाइट भी कहा जाता है पुष्प में नर जनन भाग पुंकेसर कहलाते हैं तथा मादा जनन स्त्रीकेसर कहलाती है स्त्रीकेसर के 3 भाग होते हैं अंडाशय वर्तिका और वर्तिकाग्र वर्तिकाग्र पर वर्तिकाग्र पर जो पुंकेसर गिर जाते हैं चिपक जाते हैं फिर उसके बाद पुंकेसरीनाल द्वारा अंडाशय तक पहुंच जाते हैं इस क्रिया को परागण कहते हैं यह पौधों में निषेचन से पूर्व की क्रिया मानी जाती है परागण के पश्चात नर और मादा केंद्रक आपस में मिल जाते हैं इसे निषेचन कहा जाता है निषेचन के बाद युग्मनज का निर्माण हो जाता है आवृत्तबीजी पौधों में dauble फर्टिलाइजेशन नामक घटना होती है

जंतुओं में जनन अकशेरुक जंतु जैसे जोक, केचुआ, फीता, कृमि, दृलिंगी होने के बावजूद भी परनिषेचन करते हैं परंतु मनुष्य और स्तनधारियों में लैंगिक द्विरूपता पाई जाती है

नर जनन अंग

नर जनन अंगों को प्राथमिक तथा द्वितीयक लैंगिक अंगों में विभाजित किया जाता है
1 प्राथमिक लैंगिक- अंग यह छोटे अंग होते हैं जोया तो लैंगिक कोशिकाओं या युग्म को का निर्माण करते हैं साथ ही यह कुछ हार्मोन का स्त्राव भी करते हैं यह अंग जनक कहलाते हैं नर में जगन वृषण कहलाते हैं तथा नर जनन कोशिका शुक्राणु का निर्माण करने के लिए उत्तरदाई होते हैं यह उदर गुहा के बाहर वृषणकोष में उपस्थित होता है वर्षण के दो भाग होते है प्रथम जो शुक्राणु निर्माण करता है तथा दूसरा अंतः स्रावी ग्रंथि के तौर पर टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्त्राव करता है

द्वितीयक लैंगिक अंग- प्राथमिक लैंगिक अंगों के अलावा जो भी अंग जनन तंत्र में कार्य करते हैं उन्हें द्वितीयक लैंगिक अंग कहा जाता है द्वितीयक अंग निम्न है

  • वृषणकोष
  • शुक्रवाहिनी
  • शुक्राशय
  • प्रोस्टेट ग्रंथि
  • मूत्र मार्ग
  • शिशन

वृषण में शुक्र जनन की प्रक्रिया होती है तथा यह एक अंतः स्रावी ग्रंथि भी है इसमें टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बनता है काउपर तथा प्रोस्टेट ग्रंथियों में बनने वाला स्राव शुक्राणुओं को पोषण प्रदान करता है प्रोस्टेट ग्रंथि निरंतर बढ़ती रहती है इस कारण बुढ़ापे में अधिक बड़ी हो जाने के कारण मूत्र त्याग में समस्या आती है

लड़कों में यौवनारंभ के लक्षण है- आवाज का भारी होना, दाढ़ी मूछ आना, कांख एवं जननांग क्षेत्र में बालों का आना, त्वचा तैलीय होना आदि

मादा जनन तंत्र – इसकी मुख्य भाग

  • अंडाशय
  • फैलोपियन नलिका
  • गर्भाशय
  • वेजिना तथा
  • वुल्वा होता है

12 से 13 साल की उम्र में पीयूष ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन द्वारा वृषण व अंडाशय सक्रिय हो जाता है इसमें अंड जनन की प्रक्रिया होती है इसी उम्र में रज चक्र का प्रारंभ होता है इसे रजोदर्शन कहते हैं 42 से 50 वर्ष के मध्य अंडाशय निष्क्रिय हो जाता है और अंण्डजनन की प्रक्रिया बंद हो जाती है इसे रजोनिवृत्ति कहते हैं

लड़कियों में- स्तन का बनना तथा आकार में वृद्धि, त्वचा का तेली होना, रजोधर्म का शुरू होना आदि यौन आरंभ के लक्षण है

लड़कियों में यौन आरंभ 12 से 14 वर्ष की उम्र में होता है तथा लड़कों में 13 से 15 वर्ष की उम्र में होता है लैंगिक परिपक्वता 18 से 19 वर्ष की उम्र में पूर्ण हो जाती है इस अवधि में मनुष्य की संवेदना हो तथा उसके बौद्धिक व मानसिक स्तर में परिवर्तन आता है यौन आरंभ से लैंगिक परिपक्वता तक आए परिवर्तनों में मूल में विभिन्न हार्मोन ओं का स्त्रावण है मानव नर में टेस्टोस्टेरोन तथा स्त्रियों में एस्ट्रोजन तथा प्रोजेस्टेरोन प्रमुख लिंग हार्मोन है।

कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड (Contraceptive method)

यह 3 प्रकार का होता है मैकेनिकल,  सर्जिकल,  केमिकल

  • मेकेनिकल- use of condom
  • सर्जिकल- पुरुषों में नसबंदी इसे वेशेक्टॉमी कहते हैं महिला नसबंदी इसे ट्यूबेक्टमी कहते हैं
  • केमिकल- कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स Cu T फ्रीडम फाइव इंजेक्शन

STD डिजीज जो लैंगिक संपर्क द्वारा फैलती है उसे STD डिजीज कहते हैं जैसे सुजाक सिफलिस गनोरिया एड्स एक STD होने के बावजूद भी असंक्रामक बीमारी की श्रेणी में आती है

प्रश्न. 1 मानव क्लोनिंग उचित या अनुचित

उतर- अणु युग में जी रहा मानव अब यह भली-भांति जानता है कि विज्ञान एक दोधारी तलवार है यह मानव सभ्यता के लिए हितकारी भी हो सकती है और विनाशक भी हो सकती है आधुनिक विज्ञान में हो रहे नवीनतम आविष्कार एवं खोजों से जुड़े नैतिकता संबंधी प्रश्न अत्यंत गंभीर विमर्श की मांग करते हैं ऐसा ही एक महत्वपूर्ण नैतिक विमर्श मानव क्लोनिंग के विषय में चल रहा है जहां एक और वैज्ञानिकों और बुद्धिजीवियों का समूह है इसकी संभावनाओं से रोमांचित है एवं इस क्षेत्र में हो रहे अनुसंधानों को तीव्र करने का हिमायती है वहीं दूसरी ओर विद्वानों का एक ऐसा समूह है जो मानव क्लोनिंग से जुड़ी आकांक्षाओं के निराकरण तक इस पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की वकालत करता है

क्लोन एक ऐसी जैविक रचना है जो एकमात्र जनक नर या मादा से गैर लैंगिक विधि द्वारा उत्पन्न होती है उत्पादित क्लोन अपने जनक के शारीरिक एवं अनुवांशिक रूप से पूर्णतय समरूप होता है दरसल प्राकृतिक तौर पर नवीन जीवन के जन्म में सामान्यता नर और मादा से प्राप्त होने वाली विशिष्ट कोशिकाएं जिन्हें जननीक कोशिकाएं कहते हैं भाग लेती हैं मानव शिशु के मामले में माता और पिता के पक्ष की जब दो अर्धसूत्री जननी कोशिकाएं आपस में संयोजित होती हैं तो उनके मेल से बनने वाली नई कोशिका में पूरे 46 गुणसूत्र होते हैं इस प्रक्रिया को निषेचन कहते हैं तथा जो रचना बनती है उसे युग्मनज कहते हैं यह युग्मनज गर्भ में समय के साथ हैं विकसित और विभाजित होते हुए अंततः नए जीव के रूप में जन्म लेता है

आरंभ में इस तकनीक का परीक्षण कुछ पशुओं जैसे चूहे भेड़ बकरी इत्यादि पर सीमित रहा 1997 में डॉक्टर इयान विल्मुट और उनके सहयोगियों ने डोली भेड़ का क्लोन तैयार करके सभी को चौंका दिया इस बड़ी सफलता के बाद वैज्ञानिक जगत मानव क्लोनिंग को निकट भविष्य की संभावना के रूप में देखने लगा लेकिन इसी के साथ क्लोनिंग और विशेषकर मानव क्लोनिंग से जुड़े नैतिक एवं कानूनी प्रश्नों को लेकर वैज्ञानिकों को एक बड़े से लेकर समाजशास्त्रियों धार्मिक व्यक्तियों एवं दार्शनिक मुख्य रूप से प्रश्न उठाने शुरू कर दिए लगभग लगभग विश्वभर में इस पर विचार हेतु कमेटियां एवं आयोगों का गठन किया गया भारत में जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा डॉ एम एस वालिनाथन की अध्यक्षता में एक समिति की स्थापना की गई जिसे मानव क्लोनिंग से जुड़े तमाम विषयों के अध्ययन के पश्चात अपनी रिपोर्ट देनी थी क्लोनिंग पर नैतिक विमर्श को मुख्यतः धार्मिक एवं नीतिगत विज्ञानिक के बिंदुओं को जोड़कर समझा जा सकता है क्लोनिग को धार्मिक दृष्टि से परखने वाले अनेक धार्मिक गुरु एवं चिंतकों ने इसका विरोध किया उनका मानना है कि जीवन की उत्पत्ति की प्रक्रिया अत्यंत पवित्र है एवं मानव क्लोनिंग द्वारा उसमें हस्तक्षेप करके ईश्वरी प्रकृति चक्र को नियंत्रित करने की अनैतिकता ही की जा रही है जिसके परिणाम घातक होंगे मानव क्लोनिंग को लेकर नैतिक द्वंद्व की स्थिति और भी विकेट हो जाती है जब हम पाते हैं कि क्लोनिंग की प्रक्रिया अत्यंत जटिल होती है और इसमें सफलता की संभावना बहुत कम होती है

इतिहास को ध्यान में रखते हुए हमें विज्ञान के इस क्षेत्र पर दिखाए जा रहे स्वपन पर गहन विचार विमर्श करना होगा हमें यह नहीं भूलन होगा कि अनु विज्ञान के नियम खोजने वाले वैज्ञानिक इसकी संभावनाओं के प्रति अति उत्साहित थे

अगर क्लोन को मानव की बराबरी का दर्जा दिया जाए तो ऐसा नहीं है कि यह नैतिक ऊहापोह समाप्त हो जाएगा यह बात ठीक है कि व्यक्तित्व निर्माण के आसपास का वातावरण जैविक संरचना जितनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है लेकिन यह बात भी अपनी जगह सच है कि जैविक संरचना में पूर्णता समानता शारीरिक रुप से अत्यधिक मिलते व्यक्तियों का समाज में आम बात बना देगी

Reproductive system important facts and Quiz 

  1. एक ही जाति के दो सदस्यों द्वारा उत्पन्न युग्मकों के बीच संयुग्मन से कौन सा जनन होता है- लैंगिक जनन
  2. अकशेरुकी में कौन सा जनन पाया जाता है- अलैंगिक जनन
  3. एककोशिकीय जीवों में कौन सा जनन पाया जाता है- विखंडन
  4. जिन पुष्पों में पुंकेसर तथा स्त्रीकेसर दोनों होते हैं। क्या कहलाता है- उभयलिंगी
  5. बीजांड कहां होते हैं- अंडाशय में
  6. एक नरयुग्मक एवं भ्रूणकोष में उपस्थित अंड कोशिका के संयोजन को क्या कहते हैं- निषेचन
  7. निषेचन के फलस्वरुप क्या बनता है- युग्मक (Zygote)
  8. मानव में नर जननांग क्या कहलाते हैं- वृषण में
  9. वृषण में किसका निर्माण होता है- शुक्राणु का
  10. वृषण कहां स्थित होता है- उदरगुहा के बाहर वृषणकोष में
  11. उत्पादित शुक्राणुओं का मोचन किसके द्वारा होता हैं- शुक्रवाहिकाओं द्वारा
  12. अमीबा में किस प्रकार का जनन पाया जाता है- विखंडन
  13. किस प्रकार के जनन में जीवधारी के शरीर का कोई भी भाग की खंडों में टूटकर प्रत्येक खंड अलग होकर एक नए जीव को जन्म देते हैं- खण्डन (Fragmentation)
  14. खण्डन द्वारा जनन किसमें होता है- स्पाइरोगायरा तथा स्पंज
  15. नर युग्मक को क्या कहते हैं- शुक्राणु
  16. मादा युग्मक को क्या कहते है- अण्डाणु
  17. शुक्राणुओं के बनने की प्रक्रिया क्या कहलाती हैं- शुक्राणजनन
  18. अण्डकोशिका का निर्माण कहाँ होता है- अण्डाशय में
  19. निषेचन कि क्रिया कहाँ होती है- अण्डवाहिका में
  20. दोनों फैलोपियन ट्यूब संयुक्त होकर क्या बनाते है- गर्भाशय
  21. भ्रूण को पोषण कहां से मिलता हैं- माँ के प्लेसेण्टा द्वारा
  22. अण्डों के बनने कि क्रिया क्या कहलाती है- अण्डजनन
  23. पुरुष के शुक्राण कितने दिनों तक जीवित रहते है।- लगभग 30 दिन तक
  24. शुक्राणुओं के प्रमुख संग्रह स्थान कहां होता है- अधिवृषण
  25. प्रोजेस्ट्राॅन का स्त्रावण किसके द्वारा होता है- कार्पस ल्यूटियम के द्वारा
  26. गर्भाशय का आकार – नाशपातीनुमा
  27. अण्डवाहिनियों कि संख्या कितनी होती है- दो
  28. अपरा- अंकुर और गर्भाशय कोशिकीय परत के सम्पर्क क्षेत्र को अपरा कहते हैं।
  29. रजोनिवृत्ति– स्त्रियों में 40-50 वर्ष की उम्र के पश्चात ऋतुस्त्राव नहीं होता है।इसे ही रजोनिवृत्ति कहते हैं।

Play Quiz 

No of Questions- 42

0%

1. प्रमुख मानव नर लिंग हार्मोन है ?

Correct! Wrong!

2 निम्न में से मानव के प्राथमिक लैंगिक अंग है ?

Correct! Wrong!

3 मानव शरीर मे निम्नलिखित भागों में से किस एक में शुक्राणु डिम्ब को निषेचित करता हैं ?

Correct! Wrong!

4 नारी विकास हार्मोन हैं ?

Correct! Wrong!

5 नर में लिंग गुणसूत्र होते है ?

Correct! Wrong!

6 निम्न में से मानव के द्वितीयक लैंगिक अंग कोनसा हैं ?

Correct! Wrong!

7 अंड वाहिनी की लंबाई कितनी होती हैं ?

Correct! Wrong!

8. माता में प्लेसेंटा का रोपण कंहा होता हैं ?

Correct! Wrong!

9.प्रमुख़ मानव नर लिंग हार्मोन है-?

Correct! Wrong!

10. निम्न में से प्राथमिक लैंगिक अंग है-?

Correct! Wrong!

11.नर व मादा युग्मकों का संलयन कहलाता है-?

Correct! Wrong!

12.टेस्टोस्टेरॉन का उत्पादन करता है-?

Correct! Wrong!

13. अंडाणु कोअंडाशय से गर्भाशय तक लाने का काम करती है-?

Correct! Wrong!

14.युग्मनज(zygote) से कोरक(blastula) बनने के लिए क्या आवश्यक है-?

Correct! Wrong!

Que 15 कौन सा जीव द्विलिंगी होने के बाद भी पर निषेचन करता है

Correct! Wrong!

Que 16 जनन की सही परिभाषा है

Correct! Wrong!

Que 17 निम्न में से एक अलैंगिक जनन का प्रकार नहीं है

Correct! Wrong!

Que 18 पुकेशर होता है

Correct! Wrong!

Que 19 स्पाइरोगाइरा में होता है

Correct! Wrong!

Que 20 लैंगिक जनन का सही क्रम बताए

Correct! Wrong!

Que21 जनन का मुख्य आधार है

Correct! Wrong!

Que 22 अच्छी नस्ल के आम अथवा लीची के पेड़ से उसी नस्ल का लीची अथवा आम का पेड़ प्राप्त करने की क्रिया में हम जिस विधि का प्रयोग करेंगे वह है

Correct! Wrong!

Que.23 हरमेफ्रोडाएट होते हैं

Correct! Wrong!

24. नर जर्म कोशिकाएँ शुक्राणुओं का निर्माण करती हैं-

Correct! Wrong!

25. निम्नलिखित में से मानव शरीर के किस अंग में निषेचन (Fertilization) की क्रिया होती है?

Correct! Wrong!

26. पुरुषों में किशोरावस्था/यौवनारंभ के समय शुक्राणु जनन की प्रक्रिया किस हार्मोन के स्रावण के कारण आरंभ होती है?

Correct! Wrong!

27. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. पुरुषों में वृषण और स्त्रियों में अंडाशय प्राथमिक लैंगिक अंग हैं। 2. शुक्राणु के साथ एक अंडाणु के संलयन की प्रक्रिया को निषेचन (फर्टिलाइज़ेशन) कहते हैं। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

28. निम्नलिखित में से कौन-सा स्वरूप पुरुष गुणसूत्र में पाया जाता है?

Correct! Wrong!

29. मानव शरीर में पल रहे भ्रूण को ऑक्सीजन तथा पोषण की आपूर्ति एवं कार्बन-डाइऑक्साइड तथा भ्रूण द्वारा उत्सर्जी अवशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने का कार्य करता है-

Correct! Wrong!

30. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. सगर्भता (प्रेगनेंसी) के दौरान आवर्त चक्र (मेंन्सट्रुअल साइकिल) बंद हो जाता है। 2. प्रेगनेंसी के 2 महीने के बाद मानव भ्रूण के लगभग सभी अंग-तंत्रों का निर्माण हो जाता है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

31 निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये: 1. सभी तरह के यौन संचरित रोग पूरी तरह से उपचार योग्य हैं। 2. सभी यौन संचरित रोग संक्रमित माता से उसके गर्भस्थ शिशु में संचरित होते हैं। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

32. पात्रे निषेचन (आईवीएफ-इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन) तकनीक के संबंध में नीचे दिये गए कथनों पर विचार कीजिये: 1. इसमें निषेचन शरीर के बाहर किया जाता है। 2. इस विधि में प्रारंभिक भ्रूण या युग्मनज को फैलोपी नलिकाओं में स्थानांतरित किया जाता है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

33. गतिशील जनन कोशिका को क्या कहते है-

Correct! Wrong!

34. किसी भी शिशु के लिंग निर्धारण में प्रमुख भूमिका होती है-

Correct! Wrong!

35. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. एक कोशीय जीव की प्राकृतिक मृत्यु नहीं होती है। 2. एक कोशीय जीव द्विखंडन के द्वारा नए जीव पैदा करता है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

36. लैंगिक जनन के संबंध में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन असत्य है?

Correct! Wrong!

37. जनन के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. जनन की मूल घटना डी.एन.ए. की प्रतिकृति (Copy) बनाना है। 2. जनन कोशिका में डी.एन.ए. की दो प्रतिकृतियाँ बनती हैं जो कि एक-दूसरे के पूर्णतः समरूप होती हैं। 3. किसी प्रजाति (स्पीशीज़) की समष्टि (Population) के स्थायित्व का संबंध उसके जनन से है। उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

Correct! Wrong!

38. नर और मादा युग्मकों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. मादा युग्मक, नर युग्मक की अपेक्षा आकार में छोटा और गतिशील होता है। 2. नर युग्मक में कोशिका को ऊर्जा देने के लिये भोजन का पर्याप्त भंडार होता है। उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

Correct! Wrong!

39. नर जनन तंत्र के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. शुक्राणु उत्पादन के लिये आवश्यक ताप शरीर के ताप से अधिक होता है। 2. टेस्टोस्टेरॉन नर में शुक्राणु उत्पादन तथा यौवनावस्था के लक्षणों के नियंत्रण का कार्य करता है। उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

Correct! Wrong!

40. मादा जनन तंत्र के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. मादा में अंड-वाहिका का निर्माण अंडाशय में होता है। 2. निषेचन का कार्य मादा के गर्भाशय में संपन्न होता है। 3. प्लैसेंटा भ्रूण के पोषण के लिये एक विशेष संरचना है। उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

Correct! Wrong!

Reproductive system Quiz ( मानव शरीर- जनन तंत्र )
VERY BAD! You got Few answers correct! need hard work.
BAD! You got Few answers correct! need hard work
GOOD! You well tried but got some wrong! need more preparation
VERY GOOD! You well tried but got some wrong! need preparation
AWESOME! You got the quiz correct! KEEP IT UP

Share your Results:

Specially thanks to Post Writer ( With Regards )

रमेश डामोर सिरोही, P K Nagauri, Nagaur, चित्रकूट त्रिपाठी, गंगा सिंह जैसलमेर, दिनेश मीना झालरा,टोंक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *