सर्वनाम शब्द का अर्थ है -सबका नाम। वाक्य में संज्ञा की पुनरुक्ति को दूर करने के लिए संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किये जाने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं। जैसे -सीता विद्यालय जाती है। वह वहाँ पढ़ती है।

पहले वाक्य में ‘सीता ‘ तथा ‘विद्यालय ‘ शब्द संज्ञाएं हैं, दूसरे वाक्य में ‘ सीता ‘ के स्थान पर ‘ वह ‘ तथा ‘ विद्यालय ‘ के स्थान पर ‘ वहाँ ‘ शब्द प्रयुक्त हुए हैं।अत : ‘ वह ‘ और ‘ वहाँ ‘ शब्द संज्ञाओं के स्थान पर प्रयुक्त हुए हैं इसलिए इन्हें सर्वनाम कहते हैं। संज्ञा की पुनरुक्ति न करने के लिए सर्वनाम का प्रयोग किया जाता है।

जैसे – मैं, तू, तुम, आप, वह, वे आदि।

सर्वनाम सार्थक शब्दों के आठ भेदों में एक भेद है। व्याकरण में सर्वनाम एक विकारी शब्द है।

सर्वनाम के भेद सर्वनाम के छह प्रकार के भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. संबंधवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम

1. पुरूषवाचक सर्वनाम :

जिन सर्वनामों का प्रयोग बोलने वाले, सुनने वाले या अन्य किसी व्यक्ति के स्थान पर किया जाता है, उन्हें पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

पुरूषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं –

1- उत्तम पुरुष- 

  • एकवचन- मैं, मैंने, मुझे, मुझसे, मेरे लिए, मुझसे, मेरा/मेरी/मेरे, मुझमें/मुझ पर
  • बहुवचन- हम,हमें, हमने, हमसे, हमारे लिए, हमसे, हमारा,हमारी, हमारे, हममें, हम पर

2 – मध्यम पुरुष- 

  • एक वचन- तू,तुने, तुझे, तुझसे, तेरे लिए, तुझसे, तेरा, तेरी, तेरे, तुझमें, तुझ पर
  • एकवचन/बहुवचन- तुम, तुमने, तुम्हें, तुमसे, तुम्हारे लिए

3- अन्य पुरुष- वह, वे लोग, यह

  • एकवचन (समीप) यह, इसने, इसे, इससे, इसके लिए, इससे, इसका, इसकी, इसके, इसमें, इस पर
  • एकवचन (दूरी) वह, उसने, उसे, उससे, उसके लिए, उससे, उसका, उसकी, उसके, उसमें, उस पर
  • बहुवचन (समीप) ये, इन्होंने, इन्हें, इनसे, इनके लिए, इनसे, इनका, इनकी, इनके, इनमें पर
  • बहुवचन (दूरी) वे, उन्होंने, उन्हें, उनसे, उनके लिए, उनसे, उनका, उनकी, उनकी, उनमें, उन पर

Quiz 

Questions-13

[wp_quiz id=”2668″]

2. निश्चयवाचक सर्वनाम :-

वे सर्वनाम,जो किसी निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध कराते हैं,उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं -जैसे -यह ,वह,इस,उस , ये ,वे,आदि।

जैसे-निकट की वस्तुओं के लिए- यह , ये
दूर की वस्तुओं के लिए -वह, वे

  • वह हिन्दी की पुस्तक है।
  • ये हिरन हैं।
  • वह राम है।

3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम :-

वे सर्वनाम शब्द, जिनसे किसी निश्चित वस्तु या व्यक्ति का बोध नहीं होता बल्कि अनिश्चय की स्थिति बनी रहती है,उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।जैसे -कोई जा रहा है।किसी ने कहा था। वाक्यों में कोई, किसी शब्द अनिश्चयवाचक सर्वनाम हैं। जैसे -कुछ, कोई

  • मुझे कुछ नहीं मिला।
  • दूध में कुछ पड़ा है ।
  • बाहर कोई खड़ा है।

4. प्रश्नवाचक सर्वनाम:-

वे सर्वनाम जो प्रश्न का बोध कराते हैं या वाक्य को प्रश्नवाचक बना देते हैं,उन्हें प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे -कौन गाना गा रही है ? वह क्या लाया है? किसकी पुस्तक है ? उक्त वाक्यों में कौन,क्या,किसकी शब्द प्रश्नवाचक सर्वनाम हैं। जैसे- क्या ,किससे ,कौन 

5. सम्बन्धवाचक सर्वनाम :-

वे सर्वनाम,जो दो पृथक -पृथक बातों के स्पष्ट संबंध को व्यक्त करते हैं,उन्हें संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे -जो-वह, जो-सो , जिसकी -उसकी, जितना -उतना,आदि संबंधवाचक सर्वनाम है।उदाहरणार्थ -जो पढ़ेगा सो पास होगा। जैसे- जो,जिसे, जिसका, जिसको

  • जैसा बोओगे वैसा काटोगे ।
  • जो सोयेगा, सो खोयेगा; जो जागेगा, सो पावेगा।
  • जहाँ चाह वहाँ राह ।

6. निजवाचक सर्वनाम:-

वे सर्वनाम,जिन्हें बोलने वाला कर्ता स्वयं अपने लिए प्रयुक्त करता है,उन्हें निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे – आप ,अपना, स्वयं,खुद आदि निजवाचक सर्वनाम हैं।मैं अपना खाना बना रहा हूँ ।तुम अपनी पुस्तक पढ़ो आदि वाक्यों में ‘अपना ‘ ‘ अपनी ‘ शब्द निजवाचक सर्वनाम है ।-जैसे- आप ,अपना ,स्वयं ,खुद, हमें , तुम , अपने  

Play Quiz 

No of Questions-39

[wp_quiz id=”5517″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

नागर नागौर, ममता कुमावत JAIPUR, शान्ति जाजोरिया अजमेर, P K Nagauri, लोकेश स्वामी, kiran arora pali, अंजु जी जयपुर, थाना राम बोस बाड़मेर, मनीषा जी हिन्द, 

Leave a Reply