Science and Technology- Electronics Part 02 

विज्ञान एवं प्राधोगिकी -इलोक्ट्रॉनिक्स 

टेलीविजन ( Television )

टेलीविजन का अर्थ-दूर की वस्तुओं को देखना ! इसका आविष्कार सन 1923 में जॉन एल बेयर्ड ने किया था इस के चित्र द्वारा श्रव्य दृश्य प्रोग्राम और चलचित्रों तथा जीवन उपक्रमों को दूर बैठे देखा जा सकता है

भारत में टेलीविजन प्रसारण – भारत में टेलीविजन का प्रसारण का प्रारंभ 15 सितंबर 1959 को दिल्ली से हुआ।रोज नियमित प्रसारण 1965 में शुरू हुआ रंगीन प्रसारण की शुरुआत 1982 के नई दिल्ली के एशियाई खेलों के दौरान हुई

टेलीविजन के दो भाग होते हैं

1⃣ आईकोनोस्कोप ( Iconoscope )– यह चित्र द्वारा प्रकीर्णित प्रकाश तरंगों को विद्युत तरंगों में परिवर्तित करता है

2⃣ काइनोस्कोप ( Kinoscope )– यह एक प्रकार का कैथोड किरण आँसिलोग्राफ है जो आइकोनोस्कोप से आने वाले विद्युत तरंगों से तुल्यकालिक होता है यह पर्दे पर चित्र और दृश्य के अनुसार प्रतिदीप्त उत्पन्न करता है

नवीन TV तकनीके ( New TV Technologies )

LED ( Light emitting diode )- यह प्रकाश डायोड पर आधारित टेलीविजन होता है इसमें डायोड को फॉरवर्ड वॉइस कर प्रकाश का उत्सर्जन कराया जाता है लाइट एमिटिंग डायोड लिंक कॉन्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप की तुलना में अधिक उर्जा दक्ष होते हैं

ओएलईडी टीवी– एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स ने दुनिया के पहले ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड OLED TV का प्रदर्शन किया है

क्वांटम डॉट्स TV– ब्रिटेन के मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के एक शोध दल ने प्रकाश उत्सर्जित करने वाले एक क्रिस्टल का विकास किया है जिसका नाम क्यूडी( क्वांटम डॉट्स ) रखा है इसका उपयोग बेहद पतले टेलीविजन के निर्माण में किया जाता है

लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले ( liquid crystal display )- यह एक ऐसी तकनीक है जिसका प्रयोग कंप्यूटर TV और बैटरी वाली इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में डिस्प्ले के लिए होता है इसमें ऊर्जा की खपत अन्य तकनीकों के मुकाबले कम होती है क्योंकि यह लाइट को ब्लॉक करने के सिद्धांत पर काम करती है

प्लाज्मा टीवी ( Plasma tv )– प्लाज्मा TV हाई डेफिनेशन TV होता है जो आमतौर पर प्रचलित कैथोड किरण दूरदर्शी का विकल्प होता है प्लाज्मा टेलीविजन स्क्रीन में हजारों की संख्या में छोटे-छोटे एलिमेंट होते हैं जिन्हें पिक्सेल कहते हैं प्रत्येक पिक्सेल अक्रिय गैस नियॉन और जिनॉन के छोटे-छोटे कंटेनर से मिलकर बनता है यह फ्लैट स्क्रीन टीवी होता है जिसे सीधे दीवार पर लगाया जा सकता है

इंटरनेट प्रोटोकॉल TV ( Internet Protocol TV )- यह एक ऐसी प्रणाली है जिसके तहत डिजिटल टेलीविजन कार्यक्रम इंटरनेट प्रोटोकॉल का प्रयोग कर ब्रांड बैंड कनेक्शन के माध्यम से घरों तक उपलब्ध कराया जाता है यह डिजिटल रूप में होता है इसीलिए सभी एनालॉग टीवी में आईपीटीवी सेट टॉप बॉक्स की जरूरत होती है

इंटरनेट प्रोटोकॉल TV के साथ कई अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होती है जैसे वीडियो ऑन डिमांड वॉइस ओवर आईपी या डिजिटल फोन और इंटरनेट तक पहुंच जिसे ट्रिपल प्ले सेवा भी कहते हैं केवल TV जहां एक मार्ग संचार है वहीं इंटरनेट प्रोटोकॉल टीवी द्विमार्गी संचार प्रणाली है इसके तहत व्यक्ति जिस कार्यक्रम के लिए अनुरोध करता है वह उसे उपलब्ध करा दिया जाता है

सर्वप्रथम सन 1994 में ABC वर्ल्ड न्यूज़ द्वारा इंटरनेट के माध्यम से प्रथम टेलीविजन कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया था भारत में सर्वप्रथम वर्ष 2006 में MTNL द्वारा मुंबई में इंटरनेट प्रोटोकॉल टीवी सेवा की शुरुआत की गई

हाई डेफिनिशन TV ( High Definition TV )- इसके अंतर्गत अधिक उच्चतर दृश्य सूचनाओं के साथ टीवी सिंगल का प्रसारण और उत्पादन करना संभव है इसमें DD TV की अपेक्षा 5 गुना अधिक रिजोल्यूशन होता है HD TV से सिनेमा हॉल की भांति बड़े दृश्य को देखा जा सकता है हाई डेफिनेशन TV 1080 क्षितिज रेखाओ तक रिजोल्यूशन प्रदान करता है इसमें डॉल्बी डिजिटल साउंड शामिल है जो सिनेमाघरों में और डीवीडी पर प्रयोग किए जाने वाले साउंड के समान है

अभी विश्व के मात्र 3 विकसित देश अमेरिका जर्मनी और जापान ही हाई डेफिनेशन TV के विकास के लिए अनुसंधान कार्य कर रहे हैं इलेक्ट्रॉनिक विभाग में हाई डेफिनेशन TV के तीव्र उत्कर्ष के अध्ययनार्थ दूरदर्शन प्रतिनिधि की अध्यक्षता में एक अंतर मध्यम वर्गीय समिति का गठन किया गया है

डिजिटल टेलीविज़न ( Digital television )- यह एक नई प्रसारण तकनीक है जो प्रसारण कर्ताओं को सिनेमा गुणवत्ता के चित्र और ध्वनि के साथ टेलीविजन सेवाएं देने में समर्थ बनाता है डिजिटल TV चित्रों को द्वि-अंकीय संख्याओं की एक श्रृंखला के रूप में कूटबद्ध करती है

3D टेलीविजन– ब्रिटेन के क्रिश यूडाँल ने 3D प्रोग्राम वाले टेलीविजन का निर्माण किया । नई होलोग्राफिक प्रौद्योगिकी के माध्यम से 3D टेलीविजन पर प्रोग्राम बिना किसी विशेष चश्मे की मदद से देखे जा सकेंगे

इंटरएक्टिव TV– एक नए पर्सनल वीडियो रिकॉर्डर उपकरण के जरिए टेलीविजन को पर्सनल कंप्यूटर के रूप में प्रस्तुत करना है इंटरैक्टिव TV है इस TV पर अपने मनपसंद कार्यक्रमों को देखने के साथ-साथ उन्हें तुरंत रिकॉर्ड करने, रीप्ले करने और फिर खोज करने की सुविधा उपलब्ध होगी

इंटीग्रेटेड डिजिटल टीवी ( Integrated Digital TV ) इन टीवी में सेट टॉप बॉक्स लगाने की आवश्यकता नहीं होगी और इस TV में इंटरनेट भी चलाया जा सकेगा इन हाइब्रिड टीवी सेट को इंटीग्रेटिड डिजिटल टीवी कहा जाता है सेट टॉप बॉक्स टीवी के अंदर होने के चलते उसे चलाने के लिए अलग से रिमोट लेने की जरूरत नहीं होती है टीवी के रिमोट से ही सभी फीचर्स को नियंत्रित किया जा सकता है

डायरेक्ट टू होम टेलीविजन ( Direct to Home Television )  सैटेलाइट पर आधारित एक नई तकनीकी है इस सेटेलाइट आधारित तकनीक जिसे डायरेक्ट टू होम टेलीविज़न या डायरेक्ट सिस्टम कहा जाता है इसका अभिप्राय– उस डिजिटल रूप से तेज और क्रिस्टल रहित TV से है जिसे हमारे घरों में सीधे भेजा जाता है और जिसमें कार्यक्रमों का चयन करने और उसे चलाने के लिए हमारे पास अनेक विकल्प होते हैं

2004 में डायरेक्ट टू होम ( DTH ) की शुरुआत हुई डिश टीवी भारत की पहली व्यवसाय डायरेक्ट टू होम टेलीविजन सेवा थी इसे एक्सेस की कंपनी ने Zee TV के साथ मिलकर शुरू किया था डायरेक्ट टू होम टेलीविज़न सेवा उपलब्ध कराने वाली सभी कंपनियां एक ही टैरेस्ट्रियल अपलिंकिंग स्टेशन का प्रयोग करती है

रोबोटिक्स ( Robotics )

रोबोटिक्स की परिभाषा ( Definition of robotics ) – रोबोट की अभिकल्पना निर्माण और तकनीकों को रोबोटिक्स कहते हैं इस क्षेत्र में कार्य करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक्स यांत्रिकी और सॉफ्टवेयर के साथ-साथ कई अन्य क्षेत्रों में व्यवहारिक ज्ञान की आवश्यकता होती ह

रोबोटिक शब्द का प्रयोग – रोबोटिक शब्द का प्रयोग किसी भी प्रकाशन में सबसे पहले आईसेक एसिमेव ने अपनी लघु विज्ञान कथा एनअराउंड (1942) में किया था

रोबोट शब्द का अर्थ – रोबोट चेक भाषा का शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ होता है बंधुआ मजदूर अथवा गुलाम रोबोट एक आभासी या यांत्रिक कृतिम एजेंट है जो व्यवहारिक रूप से एक विद्युत यांत्रिकी निकाय होता है रोबोट एक पुनः प्रोग्राम योग्य बहु-आयामी मेनी फ्यू लेटर है जिसे विभिन्न प्रकार के कार्यों को पूरा करने के लिए परिणाम्य प्रोग्राम प्रस्ताव के माध्यम से वस्तुओं को जो उपकरणों और विशेष उपकरणों को स्थांतरित करने के लिए तैयार किया जाता है

जापान का एडिसन– जापानी शिल्पकार हिसशिगे तनाका (1799-1881) को जापान का एडिसन कहा जाता है

  1. 1913 में अमेरिका की स्पेयरी जायरोस्कोप कंपनी ने पहला सफल रोबोट जाँर्ज बनाया
  2. 1926 में वेस्टिंगहाउस इलेक्ट्रिक कारपोरेशन ने पहले तेलोवोक्स नामक प्रथम ऐसा रोबोट तैयार किया जो उपयोगी कार्यो को कर सकता था
  3. 1948 और 49 में इंग्लैंड के बर्डन तंत्रिका विज्ञान संस्थान ब्रिस्टल में विलियम ग्रे वॉल्टड द्वारा प्रथम इलेक्ट्रॉनिक रोबोट का निर्माण किया गया उनका नाम एल्मेर और एल्सी रखा गया

वास्तविक रोबोट का आविष्कार– 1954 में जॉर्ज डेवोल ने यूनिमेट नामक प्रथम वास्तविक रोबोट का आविष्कार किया जो डिजिटली संचालित था

रोबोट के प्रकार ( Types of robots ) 

सामान्य उद्देश्य स्वायत्त रोबोट ( General purpose autonomous robot )- ऐसा रोबोट दिन में एक गाइड के रूप में और रात में एक सुरक्षा गार्ड के रुप में काम करता है इस प्रकार के रोबोट को ह्युमनोइड रोबोट कहा जाता है

औद्योगिक रोबोट और सेवा रोबोट ( Industrial robot and service robot ) – पहली श्रेणी में ऐसे रोबोट आते हैं जो कि किसी कार्य को अधिक उत्पादकता सटीकता या मनुष्य की तुलना में धीरज के साथ कर सकते हैं जबकि दूसरे ऐसे रोबोट कार्य करते हैं जिन्हें गंदे खतरनाक या उबाऊ होने की वजह से मनुष्य करना नहीं चाहते औद्योगिक रोबोट का प्रयोग भी निर्मित वस्तुओं की पैकेजिंग के लिए बड़े पैमाने पर होता है

सॉफ्ट रोबोट ( Soft robot )ऐसे रोबोट का शरीर सिलिकन का होता है इनमें एक लचीला प्रवर्तक अथार्थ वायु मांसपेशियां विद्युत सक्रिय पॉलीमर और फेलोफ्लूइड होता है

झुंड रोबोट ( Herd robot ) सूक्ष्मजीवों के समूह से प्रेरित होकर अनुसंधानकर्ताओं ने हजारों सूक्ष्म रोबोटों को बनाया जो मिलकर एक कार्य करते हैं जैसे कि कुछ छुपी हुई चीज ढूंढना साफ करना या जासूसी करना

स्वचालित निर्देशित वाहन ( Automated guided vehicles ) – ऑटोमेटेड गाइड विकल एक मोबाइल Robot है जो फर्श में लगे मार्करो या तारों का निर्देश मानता है अथवा विजन या लेजर का प्रयोग करता है वेयरहाउस कंटेनर बंदरगाहों या अस्पताल के आसपास चीजों के परिवहन के लिए स्वचालित निर्देशित वाहन का प्रमुखता से उपयोग होता है

हैप्टिक अंतरफलक रोबोट ( Haptic interface robot )  विशेष रोबोटों का हैप्टिक अनुसंधान समुदाय में व्यापक इस्तेमाल होता है हेप्टिक इंटरफ़ेसरोबोट पुनर्वास सहायता में भी इस्तेमाल किए जाते हैं

टेलिरोबोट ( Tele-robot )  जब कोई खतरनाक कार्य करना होता है जिसके आसपास रहने से मनुष्य को खतरा हो सकता है तो काफी दूर से टेलिऑपरेटेड रोबोट का प्रयोग किया जाता है एक बम को निष्क्रिय करते समय ऑपरेटर एक छोटे रोबोट को निष्क्रिय करने के लिए भेजता है कहीं लेखक दूर से पुस्तकों पर हस्ताक्षर करने के लिए लॉन्ग पेन नाम का एक उपकरण इस्तेमाल कर रहे हैं रोबोट विमान अथार्थ मानवरहित हवाई वाहन का प्रयोग सेना द्वारा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है

एशिया की पहली रोबोटिक सर्जरी– रोबोटिक सर्जरी को रोबोट द्वारा किया जाता है जिसका नियंत्रण डॉक्टर के हाथ में होता है एशिया में सबसे पहले रोबोटिक सर्जरी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के यूरोलॉजी विभाग में की गई है

विश्व की सबसे पहली रोबोटिक सर्जरी– विश्व में सबसे पहले रोबोटिक सर्जरी कनाडा क कैलगैरी फुटहिल्स मेडिकल सेंटर ऑफ न्यूरोलॉजी में की गई है

विभिन्न प्रकार के रोबोट ( Different types of robots )

  1. रेक्स- ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला बायोनिक मानव बनाया और इसका नाम रैक्स यानी रोबोटिक एक्सोकेल्टन है
  2. असीमों– टोक्यो की प्रयोगशाला में 8 नवंबर 2011 को मनुष्य जैसे दिखने वाले इस रोबोट को सार्वजनिक किया गया
  3. कुरातास– हॉलीवुड फिल्म अवतार में दिखाए गए रोबोटिक एक्सो सुट “वार मशीन” जैसा यह रोबोट जापान की इलेक्ट्रॉनिक कंपनी सुइदोबाशी हैवी इंडस्ट्री ने बनाया है
  4. आईको– जापानी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है लव चाइल्ड। आईको विश्व की प्रथम महिला रोबोट है जिसका निर्माण कनाडा के ओंटारियों निवासी ली ट्रंग ने किया

भारत में रोबोटिक्स का विकास ( The development of robotics in India )  

भारत में रोबोटिक्स का पर्याप्त विकास नहीं हो पाया है क्योंकि क्षेत्र में अनुसंधान कार्य मंद गति से चल रहा है

भारत में रोबोटिक्स के क्षेत्र में हिंदुस्तान मशीन यंत्र संस्थान, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास, भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलुरु और हैदराबाद विज्ञान संस्थान हैदराबाद आदि में अनुसंधान और विकास कार्य चल रहे हैं

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड देश की स्वदेशी रोबोट उत्पादक कंपनी है दूरदर्शन ट्यूब उत्पादन संयंत्र बेंगलुरु में त्रिअक्षिय गति वाले पिक ऐड प्लेस प्रकार के रोबोट का निर्माण कार्य शुरू किया गया है

रोबोट से लाभ ( Benefits from robots ) 

  1. रोबोट एक स्वचालित मशीन है यह थकान तनाव और भावनाओं से मुक्त है और यह मानव की तुलना में बेहतर श्रम करते है
  2. कारों को भी स्वचालित सुविधाओं से संपन्न किया जा रहा है घरों या कार्यालयों में बिजली और तापमान नियंत्रण की स्वचालित व्यवस्था सामान्य बात है
  3. जोखिमपूर्ण परिस्थितियों में भी रोबोट कार्य कर सकता है रोबोट किसी भी कार्य को बार-बार शुद्धता के साथ दोहरा सकता है
  4. रोबोट एक से अधिक कार्यों को एक साथ कर सकता है
  5. रोबोट मानव श्रम की आर्थिक समस्या को कम कर सकता है यह मानवीय हस्तक्षेप के बिना कार्य करता है

रोबोट से हानियां ( Losses from robots )

  1. वह आपातकाल में अनुचित और गलत कार्य कर सकता है उसकी ऊर्जा क्षमता समाप्त हो सकती है
  2. वह स्वयं को और अन्य मशीनों को नुकसान पहुंचा सकता है और मनुष्य को चोट पहुंचा सकता है
  3. रोबोट में आपातकाल में स्वयं निर्णय लेने की और प्रत्युत्तर देने की क्षमता नहीं होती है
  4. प्रशिक्षण और प्रोग्रामिंग में रोबोट के लिए अत्यधिक धन की आवश्यकता होती है
  5. हर व्यक्ति रोबोट का उपयोग नहीं कर सकता है क्योंकि यह बहुत ज्यादा खर्चीला होता है

मेसर( MASER ) 

MASER ( Microwsve Amplification by Stimulated Emission of Radiation ) अर्थ– विकीरण के उद्दीप्त उत्सर्जन द्वारा माइक्रो तरंगों का प्रवर्धन है लेसर द्वारा दृश्य प्रकाश तरंगों का एक वर्णीय,संकीर्ण और अति तीव्र पुंज प्राप्त होता है ऐसा ही पुंज मेंसर द्वारा अदृश्य माइक्रो तरंगों का प्राप्त होता है लेसर को प्रकाशीय मेंसर भी कहते हैं

इसमें विद्युत चुंबकीय विकिरण की आवृत्ति 10¹¹हर्टज होती है अमोनिया मेंसर का उपयोग आवृत्ति मापक की तरह किया जाता है *अमोनिया मेसर एक घड़ी की तरह कार्य करता है इस प्रकार की घड़ी को पारमाण्विक घड़ी कहते हैं

मेसर पुंज गहरे समुद्र में संकेत भेजने के साथ-साथ बाह्य अंतरिक्ष से प्राप्त अत्यंत निर्बल संकेतों के संकुचन के लिए प्रयुक्त किया जाता है पृथ्वी के चुंबकीय प्रभाव को मापने के लिए अतिसुग्राही चुंबकत्व मापी का निर्माण मेसर के सिद्धांतों पर ही किया जाता है

रेडियो ( Radio ) 

रेडियो का आविष्कार 1895 में मारकोनी द्वारा किया गया रेडियो और टेलीविजन दोनों में सूचना का प्रसारण ब्रॉडकास्ट द्वारा किया जाता है रेडियो के प्रसारण में आयाम मॉड्यूलेशन और आवृत्ति मॉड्यूलेशन दोनों का प्रयोग किया जाता है रेडियो प्रसारण में आकाशी तरंगों का प्रयोग किया जाता है

ATM ( ऑटोमेटैड टेलर मशीन ) 

स्वचालित गणक मशीन को ऑटोमेटिक बैंकिंग मशीन भी कहते हैं यह मशीन एक ऐसा दूरसंचार नियंत्रित और कंप्यूटरीकृत उपकरण है जो ग्राहकों को वित्तीय हस्तांतरण से जुड़ी सेवाएं उपलब्ध कराता है *इसे बैंकोग्राफ उपकरण के नाम से जाना जाता है इसे सबसे पहले प्रायोगिक तौर पर 1961 में सिटी बैंक ऑफ न्यूयॉर्क न्यूयॉर्क शहर में ग्राहकों की सेवा में चालू किया था आधुनिक ATM की सबसे पहली पीढ़ी का प्रयोग 27 जून 1967 को लंदन के बॉकले बैंक ने किया था

भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स का विकास ( Development of Electronics in India ) 

भारत इलेक्ट्रॉनिक उद्योग के क्षेत्र में अभी प्रारंभिक अवस्था के दौर से गुजर रहा है भारत में इलेक्ट्रॉनिक उद्योग की स्थापना बीसवीं सदी के पांचवे दशक में हुई भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स के उपयोग स्वास्तिक महत्व को मान्यता होमी जहांगीर भाभा और विक्रम साराभाई के प्रयासों से मिली 70 के दशक के प्रारंभ में इलेक्ट्रॉनिक आयोग और इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग का गठन (1975) में किया गया जिस के प्रथम अध्यक्ष और सचिव एम.जी.मेनन बनाये गये

इलेक्ट्रॉनिक डाटा इंटरचेंज परिषद– भारत सरकार ने 23 सदस्य इलेक्ट्रॉनिक डाटा इंटरचेंज परिषद गठन किया यह परिषद इलेक्ट्रॉनिक डाटा इंटरचेंज के विकास के लिए नीति निर्माण और निर्देशन का दायित्व निभाती है भारतीय इडिफेक्ट कमेटी का प्रमुख कार्य मानकों का निर्माण और उनकी प्रक्रिया का क्रिया विधि को सरल और उपयुक्त बनाना है

इलेक्ट्रॉनिक विभाग ने DOEACC नाम की नई योजना आरंभ की है इसके अंतर्गत निर्धारित गुणवत्ता और सेवा मानदंडों का पालन करने वाली संस्थाओं को कुछ विशिष्ट प्रकार के कंप्यूटर चलाने के लिए प्रत्यापन किया जाता है

यह पाठ्यक्रम है– नीव
1-एडवांस्ड,
2-डिप्लोमा,
3-स्नातक और
4-स्नातकोत्तर

कंप्यूटर लिटरेसी एंड स्टडीज इन स्कूल कार्यक्रम — इलेक्ट्रॉनिक विभाग ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सहयोग से स्कूलों में कंप्यूटर की जानकारी देने का एक अन्य कार्यक्रम कंप्यूटर लिटरेसी एंड स्टडीज इन स्कूल शुरू किया है अभी लगभग 3000 स्कूलों में यह कार्यक्रम चलाया जा रहा है

  • इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग देश में प्रौद्योगिकी के संपूर्ण विकास को सर्वोच्चता प्रदान करता है
  • भारत के इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिजाइन निर्माण का केंद्र बन जाने की उम्मीद है
  • वर्तमान में भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान डाक तार में प्रयोग होने वाले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उत्पादन कर रहे हैं
  • संचार इलेक्ट्रॉनिक्स के विकास के लिए सेमीकंडक्टर लेसर ऑप्टिकल फाइबर डिजिटल तकनीक और शक्तिशाली माइक्रोप्रोसेसर आदि कुछ प्रौद्योगिकियों का सहयोग लिया गया है

इलेक्ट्रॉनिक्स पर राष्ट्रीय नीति 2012 ( National Policy on Electronics 2012 )

यह नीति देश में इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र के विकास के लिए रोड मैप उपलब्ध कराती है इस नीति की कुछ प्रमुख बातें निम्न है—

  1. इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिजाइन और मैन्युफैक्चरिंग को प्रोत्साहन देने के लिए राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स मिशन का गठन किया जाएगा
  2. सूचना प्रौद्योगिकी विभाग का नाम परिवर्तित करके इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग किया गया
  3. 200 इलेक्ट्रॉनिक्स निर्माण क्लस्टर की स्थापना की जाएगी
  4. उच्च स्तर के मानव संसाधन का विकास करने के लिए वर्ष 2020 तक इस क्षेत्र में प्रतिवर्ष ढाई हजार पीएचडी धारकों को तैयार करने का लक्ष्य है
  5. लगभग 2करोड़ 80लाख लोगों को रोजगार मिलने का अनुमान है

सार्वजनिक क्षेत्र के प्रतिष्ठान 

इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के क्षेत्र में विकास के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के अंतर्गत 3 प्रतिष्ठान कार्यरत हैं

1⃣ सीएमसी लिमिटेड– इस संस्थान की स्थापना 1976 में की गई थी इस संस्थान का कार्य कंप्यूटर के रचनात्मक उपयोग को प्रोत्साहन प्रदान करना और उसकी उत्पादकता और कार्यकाल की गुणवत्ता में वृद्धि के लिए अर्थव्यवस्था के अत्यधिक आवश्यकता क्षेत्रों में आधुनिक प्रौद्योगिकी का विकास करना है रेलवे आरक्षण प्रणाली का कंप्यूटरीकरण बैंकिंग प्रणाली का कंप्यूटरीकरण आदि कार्य इस संस्थान के सहयोग से ही संपन्न हुए हैं पुलिस और निरीक्षक संगठनों के लिए अपराध अन्वेषण से संबंध प्रणालियों कंप्यूटर पर आधारित परयावरणीय मॉनिटर प्रणालियों परिवहन प्रबंध ऊर्जा प्रबंध आदि के क्षेत्र में भी यह प्रतिष्ठान अपनी विशेष सहायता प्रदान करता है

2⃣ इलेक्ट्रॉनिक्स व्यापार और प्रौद्योगिकी विकास निगम– इसकी स्थापना इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में विदेशी व्यापार को बढ़ावा और प्रमुख क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी के विकास को ध्यान में रखते हुए की गई है इस निगम के दिशा निर्देश में एक मार्गदर्शन कार्यक्रम की शुरुआत की गई है

सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क--निगम के प्रशासन के अंतर्गत गुजरात के गांधीनगर में एक सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क की स्थापना की गई है 

इलेक्ट्रॉनिक व्यापार और प्रौद्योगिकी विकास निगम ने MP3 आम से आत्मनिर्भरता का कार्यक्रम शुरू किया है इस कार्यक्रम के तहत इस समय देश में 50 से अधिक इकाइयों द्वारा 14 इंच के श्वेत श्याम टेलीविजन सेटों का उत्पादन किया जा रहा है

3⃣ सेमीकंडक्टर कांपलेक्स लिमिटेड– इसकी स्थापना दूरसंचार डाटा प्रोसेसिंग उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स और रक्षा रणनीति कार्यों के लिए एल एस आई/वी एल एस आई सर्किट मॉड्यूल हो और उप प्रणालियों के डिजाइन विकास और उत्पादन के उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए की गई इससे व्यवसायिक उत्पादन 1984 में शुरू किया गया सिरेमिक युक्त पैकेजिंग के विकास और निर्माण का कार्य भी यही संस्थान करता है नोएडा लखनऊ बेंगलुरु बड़ौदा और भुवनेश्वर में सिरेमिक पैकेजिंग के लिए वी एल एस आई डिजाइन केंद्रों की स्थापना की गई है सेमीकंडक्टर कांपलेक्स लिमिटेड द्वारा घड़ियों के लिए इलेक्ट्रॉनिक सर्किट ब्लॉक को डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक्स घड़ियों के लिए मॉड्यूल और यूनिकाँम-8बीट मॉड्यूल ,माइक्रो कंप्यूटर का भी उत्पादन संस्थान द्वारा किया जाता है

अन्य संस्थान 

1⃣ इलेक्ट्रॉनिक सामग्री प्रौद्योगिकी केंद्र( C-MAT )-  पुणे हैदराबाद और त्रिशूर में सीमेंट के तीन केंद्र स्थित है जो भारतीय उद्योगों के लिए इलेक्ट्रॉनिक सामग्री और उनकी प्रक्रिया प्रौद्योगिकी में ज्ञान के आधार का विकास कर रहे हैं इसके अलावा केंद्र उद्योग और विशेष रूप से रक्षा अंतरिक्ष और परमाणु ऊर्जा जैसे सामरिक क्षेत्रों के लिए महत्वपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक सामग्री की तकनीकी जानकारी और तकनीकी सेवाओं का संचालन करते हैं सीमेट केंद्र मुख्यतः तीन क्षेत्रों अति शुद्ध सामग्री एकीकृत इलेक्ट्रॉनिक पैकेजिंग और नैनो सामग्री पर कार्य करते हैं

2⃣ प्रायोगिक सूक्ष्म तरंग इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग और अनुसंधान संस्था ( SAMEER )– सूचना प्रौद्योगिकी विकास के अंतर्गत समीर एक स्वायत्त अनुसंधान और विकास प्रयोगशाला हेतु सूचना हस्तांतरण की क्वालिटी और सुरक्षा के में संवर्धन करने के लिए आंकड़ों की संचार प्रणालियों के विकास के लिए कार्य कर रहा है समीर चेन्नई में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और यंत्रों के परीक्षण मूल्यांकन और गुणवत्ता में सुधार के लिए इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंटरफ़रेंस और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक कंपेटिबिलिटी नामक राष्ट्रीय सुविधा केंद्र 2005 को स्थापित किया गया जो भारत में अपने किस्म की पहली और दक्षिण पूर्व एशिया में तीसरी सुविधा है

3⃣ इलेक्ट्रॉनिक हार्डवेयर प्रौद्योगिकी पार्क योजना– भारत सरकार ने विश्वोन्मुखी इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र की विशेष आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए यह योजना 1 अप्रैल 1993 को आरंभ की इस योजना का मुख्य उद्देश्य विशाल भारतीय घरेलू बाजार में संलग्न उद्यमियों को एक लचीले नीतिगत ढांचे के तहत व्यवसाय में सरलता और अधिमान्य पहुंच उपलब्ध कराना है जिससे देश में निर्यात उत्पादन को प्रोत्साहन मिल सके

4⃣ प्रौद्योगिकी विकास परिषद– प्रौद्योगिकी विकास परिषद का गठन अक्टूबर 1973 में इलेक्ट्रॉनिकी आयोग द्वारा किया गया था इसका गठन परामर्शदात्री संस्था के रूप में किया गया इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र में अनुसंधान और विकास की आवश्यकता वाले विषयों का पता लगाना और अनुसंधान और विकास के लिए अपेक्षित प्राथमिकताएं निर्धारित करना इत्यादि महत्वपूर्ण कार्य करती है इसके अलावा अनुसंधान और विकास कार्य के पश्चात उत्पादन के लिए स्थानांतरण की व्यवस्था कार्य भी यही संस्थान करती है

5⃣ अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास– इलेक्ट्रॉनिक विभाग देश में इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में किए जाने वाले अनुसंधान और विकास कार्य हेतु वित्तीय सहायता उपलब्ध कराता है इलेक्ट्रॉनिक विभाग में मानकीकरण परीक्षण और गुणवत्ता नियंत्रण कार्यक्रम चलाया है तथा इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के परीक्षण और मानकीकरण हेतु तीन स्तरों वाली एक प्रणाली लागू की है
प्रथम-नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला की प्राथमिक मानकीकरण सुविधा
द्वितीय-इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्रीय परीक्षण प्रयोगशालाएं और
तृतीय- इलेक्ट्रॉनिक्स परीक्षण और विकास केंद्र
इसके अलावा उद्योग स्तर से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर तक माप के मानकीकरण के लिए राष्ट्रीय माप आश्वासन कार्यक्रम चलाया गया है इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों हेतु आई एस ओ 9000 प्रमाणीकरण स्कीम भी शुरू की गई है

6⃣ केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड( CEL ) — इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में स्वदेशी प्रौद्योगिकी पर बल देने वाली यह कंपनी विशेषकर सौर फोटोवोल्टेइक द्वारा अक्षय ऊर्जा उत्पादन के क्षेत्र में और सामरिक महत्व की रक्षा संबंधी प्रणालियों और उनकी प्रणालियों के उत्पादन पर विशेष ध्यान देती है यह कंपनी सिंगल क्रिस्टलाइन सिलिकॉन सोलर सेल्स का विश्व में सर्वाधिक उत्पादन करती है

7⃣ लाइट एमिटिंग डायोड ( LED )– लाइट एमिटिंग डायोड सेमीकंडक्टर डायोड होता है LED विद्युत धारा प्रवाहित करने पर प्रकाश का उत्सर्जन करता है इसका इस्तेमाल वाहनों और घरों में होता है मिनिएचर फ्लैशिंग हाई पावर मल्टी कलर एल्फान्यूमेरिक LED ओएलईडी इत्यादि LED के प्रमुख प्रकार हैं लैपटॉप नोटबुक सेलुलर फोन डीवीडी प्लेयर वीडियो गेम वीडियो में इस्तेमाल होने वाली ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड को LCD और सीआरटी टेक्नोलॉजी से बेहतर माना जाता है

  • 1907 में ब्रिटिश वैज्ञानिक एच जे राउंड की मारकोनीप्रयोगशाला में एक प्रयोग के दौरान LED रिपार्ट सामने आई
  • 1920 में LED का प्रयोग ओलिग ब्लादिमाइरोविक लोसेव ने किया था कई दशकों तक इस खोज का प्रायोगिक इस्तेमाल नहीं किया गया इसका पहला प्रायोगिक विजिबल स्पेक्ट्रम 1962 में निक होलोनेक जूनियर ने बनाया इन्हें LED के पितामाह के तौर पर जाना जाता है
  • एम जॉर्ज क्राँफर्ड ने पीले और लाल-नारंगी LED की खोज की इसका इस्तेमाल घड़ी केलकुलेटर टीवी रेडियो में किया जाता है ऊर्जा की बचत उष्मा का विकिरण कम करना इत्यादि लाभ के कारण LED अधिक उपयोगी है

8⃣ वॉयस ऑपरेटेड एक्सचेंज ( VOX )– वॉयस ऑपरेटेड एक्सचेंज वॉकी-टॉकी के समान एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो उपभोक्ता की हल्की सी आवाज भी पकड़ लेता है और वह अपने दूसरे साथियों को सुन और बोल सकता है वॉयस ऑपरेटेड एक्सचेंज में लगा ट्रांसमीटर सूचनाएं ग्रहण करता है ईयरपिस सिर के पास होता है और सेंसर चेहरे के पास ताकि आवाज की थोड़ी सी फुसफुसाहट भी सुनी जा सके ध्वनि समाप्त होने के कुछ देर तक सर्किट रहता है और इसके बाद स्वत:ही बंद हो जाता है पुनः थोड़ी सी आवाज होते ही यह स्वयं ही एक्टिवेट हो जाता है मोबाइल में वीओएक्स स्विच का इस्तेमाल बैटरी बचाने के दृष्टिकोण से किया जाता है वर्ष 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के दौरान एनएसजी की टीम ने वॉयस ऑपरेट एक्सचेंज का इस्तेमाल किया

 

विज्ञान एवं प्राधोगिकी -इलोक्ट्रॉनिक्स PDFDOWNLOAD

Play Quiz 

No of Question  

0%

01 प्रौद्योगिकी विकास परिषद का गठन हुआ

Correct! Wrong!

02.एम्स में पहली रोबोटिक सर्जरी हुई

Correct! Wrong!

3. LED आधारित है

Correct! Wrong!

4. भारत में लेसर प्रौद्योगिकी की शुरुआत हुई

Correct! Wrong!

5. लेसर तरंगे होती है

Correct! Wrong!

प्रश्न 6 फोटॉन का इलेक्ट्रॉन से संघट्ट होने पर इलेक्ट्रॉन द्वारा फोटॉन का प्रकीर्णन कहलाता है

Correct! Wrong!

प्रश्न 7 - ब्लुटूथ प्रणाली की खोज की-

Correct! Wrong!

प्रश्न 8 ताप बढाने पर चालक पदार्थों की प्रतिरोधकता पर क्या प्रभाव पडता है-

Correct! Wrong!

प्रश्न 9 अशुद्धियों को मिलाकर अर्द्धचालक की चालकता बढाना कहलाता है-

Correct! Wrong!

प्रश्न 10 तरंगदैर्ध्य के अनुसार विकिरणों की क्रमिक व्यवस्था को कहते है-

Correct! Wrong!

प्रश्न 11.दिष्टकारी के रूप में किसका उपयोग ACधारा को DC धारा में बदलने में किया जाता है?

Correct! Wrong!

प्रश्न 12. किसका उपयोग वांछित रंगवाली लाइट उत्पन्न करने में किया जाता है ?

Correct! Wrong!

प्रश्न 13. लेजर किरणों की आवृत्ति होती है?

Correct! Wrong!

प्रश्न 14. भारत में लेजर प्रोद्यौगिकी की शुरूआत कब हुई?

Correct! Wrong!

प्रश्न 15 नाभिकीय संलयन के संदर्भ मे निम्न लिखित कथनों पर विचार कीजिये। 1. नाभिकीय संलयन अभिक्रिया के दौरान दो हल्के नाभिकों को जोड़कर एक भारी नाभिक बनाया जाता है 2. नाभिकीय संलयन मे सामन्यतः हाइड्रोजन अथवा हाइड्रोजन संस्थानिको से हीलियम उत्पन की जाती है। 3.नाभिकीय संलयन अभिक्रियाएँ सूर्य तथा अन्य तारो की विशाल ऊर्जा का स्रोत है। उपरोक्त मे से कौनसा कथन सत्य है-

Correct! Wrong!

प्रशन 16 हाइड्रोजन बम निम्न लिखित मे से किस सिद्धान्त पर आधारित हैं।

Correct! Wrong!

प्रशन 17 निम्न लिखित कथनों पर विचार कीजिये। 1 स्टेथोस्कोप से चिकित्सक रोगी के ह्रदय की धड़कन सुन सकता है। 2 सिनेमा हाल की छत वक्राकार बनाई जाती है, जिससे ध्वनि का बारम्बार परावर्तन न हो और ध्वनि स्प्ष्ट सुनी जा सके। उपरोक्त कथनों मे से कौनसा सही है।

Correct! Wrong!

प्रश्न 18 सूची 1 को सूची 2 से मिलान कीजिये। सूची 1 सूची 2 परमाणु शक्ति केंद्र राज्य A कलपक्कम 1 उतर प्रदेश B नरौरा 2 गुजरात C काकरापार 3 तमिलनाडु D ट्राम्बे। 4 महाराष्ट्र

Correct! Wrong!

प्रश्न 19 प्रेरित विधुत वाहक बल की दिशा ऐसी है कि वह उसके कारण का विरोध करती है यह कथन है।

Correct! Wrong!

प्रश्न 20 अगर किसी डी०सी० मोटर को ए०सी० में चलाया जाए तो

Correct! Wrong!

Electronics Quiz 02-Science and Technology
VERY BAD! You got Few answers correct! need hard work.
BAD! You got Few answers correct! need hard work
GOOD! You well tried but got some wrong! need more preparation
VERY GOOD! You well tried but got some wrong! need preparation
AWESOME! You got the quiz correct! KEEP IT UP

Share your Results:

Specially thanks to post writers ( With Regards )

Mamta Sharma Kota, पूनम जी, P K Nagauri, मोहन दान चारण, जैसलमेर, नवीना जी बाड़मेर

One thought on “Science and Technology- Electronics 02 ( विज्ञान एवं प्राधोगिकी -इलोक्ट्रॉनिक्स )”

Comments are closed.