पृथ्वी सूर्य से ऊर्जा प्राप्त करके उसे अंतरिक्ष में विकृत कर देती है, इसी कारण ना तो पृथ्वी ज्यादा गर्म और और ना ज्यादा ठंडी होती है, पृथ्वी के प्रत्येक भाग पर ताप की मात्रा अलग-अलग होती है और इसी वजह वायुमंडल के दाब में भिन्नता पाई जाती है इसी कारण पवनों के द्वारा ताप का स्थानांतरण एक स्थान से दूसरे स्थान पर होता है 

 पृथ्वी की सतह पर प्राप्त होने वाली ऊर्जा का अधिकतम भाग लघु तरंग धैर्य के रूप में आता है  पृथ्वी को प्राप्त होने वाली ऊर्जा को “आगामी सौर विकिरण या छोटे रूप में”, सूर्य तप कहते हैं वायुमंडल की सतह पर प्राप्त होने वाली ऊर्जा प्रतिवर्ष थोड़ी परिवर्तित होती है  यही कारण है पृथ्वी व सूर्य के बीच दूरी के लिए

सूर्य के चारों ओर परिक्रमा के दौरान पृथ्वी से सूर्य की दूरी, इस स्थिति को” अपसौर “का जाता है

पृथ्वी की सतह पर सूर्यताप में भिन्नता

सूर्य ताप की तीव्रता की मात्रा में प्रतिदिन हर मौसम और प्रतिवर्ष परिवर्तन होता है

सूर्यताप में होने वाले कारक

1.अक्षांशीय वितरण
2.समुद्र तल से ऊंचाई
3.समुद्र तट से दूरी
4.समुद्री धाराएं
5.प्रचलित पवनें
6.धरातल की प्रकृति
7.भूमि का ढाल
8.वर्षा एवं बादल

पृथ्वी का अक्ष सूर्य के चारों ओर परिक्रमा की समतल कक्षा में 66 पॉइंट 5 डिग्री का कोण बनाता है जो विभिन्न अक्षांशों पर प्राप्त होने वाले सूर्यताप की मात्रा को बहुत प्रभावित करता है I

तापमान का प्रतिलोमन या व्युत्क्रमण

 सामान्य स्थिति में ऊंचाई बढ़ने के साथ-साथ तापमान घटता है। परंतु कुछ विशेष परिस्थितियों में ऊंचाई बढ़ने के साथ-साथ तापमान घटने के स्थान पर बढ़ने लग जाता है। इसे ही “तापमान का व्युत्क्रमण” कहते हैं।??

कारक- स्वच्छ आकाश, लंबी रातें, शांत वायु, शुष्क वायु, हिम आदि की परिस्थितियां प्रमुख कारक है।??

वायु की निचली परतों से ऊष्मा का हास विकिरण द्वारा तेज गति से होता है, परंतु ऊपर की वायु का विकिरण द्वारा ऊष्मा का हास तुलनात्मक रुप से कम गति से होता है। अतः निचली वायु की परतें ठंडी और ऊपरी वायु की परतें अपेक्षाकृत गरम रहती है। यह परिस्थितियां पर्वतीय घाटियों में शीत ऋतु की रात्रि में अधिक देखने को मिलता है। इसीलिए वहां बस्तियां घाटियों पर ना होकर पर्वती ढलान पर होती हैं।

पृथ्वी का ऊष्मा बजट

पृथ्वी ना तो ऊष्मा को संचय करती है और ना ही हा,  पृथ्वी तापमान को स्थिर रखती है संभवत ऐसा तभी होता है, जब सूर्य विकिरण द्वारा सूर्य ताप (ऊर्जा का छोटा रूप) के रूप में प्राप्त ऊष्मा व पार्थिव विकिरण द्वारा अंतरिक्ष में संचरित ताप बराबर हो 

सूर्यताप /पार्थिव विकिरण= अंतरिक्ष में संचालित ताप 

ऊर्जा वायुमंडल से गुजरते हुए आती है तो ऊर्जा का कुछ अंश परावर्तित, प्रकीणित व अवशोषित हो जाती है  इस सौर विकिरण की इस परावर्तित मात्रा को पृथ्वी का “एल्बिडो” कहते हैं 

 

पृथ्वी पर ऊर्जा का स्रोत सूर्य है जिसकी पृथ्वी से औसत दूरी 15 करोड किलोमीटर  है। सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक पहुंचने में 8 मिनट 20 सेकंड का समय लगाता है। सूर्य की किरणें इस दूरी को 300000 किलोमीटर प्रति सेकंड की दर से तय करती है।

सूर्य की बाहरी सतह  6000 डिग्री सेल्सियस का तापमान रहता है। सूर्य में लगातार ऊर्जा बनने की प्रक्रिया नाभिकीय संलयन  द्वारा प्राप्त होती है। सूर्य से हमारी पृथ्वी तक लघु तरंगों के रुप में ऊर्जा पहुंचती है।

पृथ्वी सौर विकिरण का मात्र 2 अरब वां हिस्सा ही प्राप्त कर पाता है। पृथ्वी पर पहुंचने वाली  सौर्य विकिरण सूर्यताप  कहलाती है। पृथ्वी का धरातल 2 Cal/Cm2/min. दर से ऊर्जा प्राप्त करता है। इसे सौर स्थिरांक भी कहते हैं।

यही सौर विकिरण हमारी पृथ्वी का औसत तापमान 15 डिग्री सेल्सियस बरकरार रखती हैं। सूर्य ताप का मापन  पाइरेलियो मीटर (Pyrheliometer) द्वारा किया जाता है।

 

Play Quiz 

No of Questions-15

[wp_quiz id=”1993″]

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

Anita meena,  P K Nagauri, राजवीर प्रजापत

Leave a Reply