Ghazal – No hope is available ( गज़ल – कोई उम्मीद बर नही आती )

Ghazal – No hope is available  ( गज़ल – कोई उम्मीद बर नही आती )       Quiz  Question – 18 Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards ) समसुद्दीन जी बीकानेर

Nazm ( नज़्म )

Nazm ( नज़्म ) नजम अरबी जबान का लफ़्ज़ है इसके मानी लड़ी में मोती पिरोना है  और साथ ही इसके दूसरे मानी ( मिजाजी मानी ) इंतजाम तरतीब और अराइज के है अदबी इस्लाह के तोर पर लफ्ज़ नज़्म […]

Marcia ( मरसिया )

Marcia ( मरसिया ) मरसिया अरबी लब्ज है और यह “रशा” ( رثا ) से निकला है जिसके मानी आह व बका آہ و بکا के है मर्सिया उस नज़्म को कहते है जिस किसी की मौत पर इजहारे गम्म […]