Uttar Pradesh Education, Literature and Letters Magazine ( शिक्षा, साहित्य )

उत्तर प्रदेश में आधुनिक शिक्षा की नींव अंग्रेजों द्वारा कब डाली गई जब 1858 में इलाहाबाद में म्योर सेंट्रल कॉलेज की स्थापना की गई। 1882 में स्थापित हंटर कमीशन ने स्थानीय भाषा में प्राथमिक शिक्षा को पढ़ाने पर जोर दिया।

माध्यमिक स्तर की शिक्षा के लिए 1921 में माध्यमिक शिक्षा अधिनियम पारित हुआ और डायरेक्टर उत्तर प्रदेश शासन का गठन किया गया जिसको 1947 में डायरेक्टर ऑफ एजुकेशन नाम दिया गया।

प्राथमिक से माध्यमिक तक शैक्षिक शोध, सेवा पूर्व में सेवारत शिक्षकों का अकादमिक निर्देशन प्रशिक्षण व प्रकाशन के लिए 1981 में राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद की स्थापना की गई। इसके अंतर्गत निम्न इकाईयां क्रियाशील है-

  1.  प्रारंभिक शिक्षा विभाग (राज्य शिक्षा संस्थान) इलाहाबाद।
  2. विज्ञान और गणित विभाग (राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान) इलाहाबाद।
  3. इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज इन एजुकेशन इलाहाबाद।
  4. मनोविज्ञान और निर्देशन विभाग (मनोविज्ञानशाला) इलाहाबाद।
  5. हिंदी तथा अन्य भारतीय भाषा विभाग (राज्य हिंदी संस्थान) वाराणसी।
  6. अंग्रेजी तथा अन्य विदेशी भाषा विभाग (आंग्ल भाषा शिक्षण संस्थान) इलाहाबाद।
  7. कॉलेज ऑफ टीचर एजुकेशन वाराणसी, इलाहाबाद, लखनऊ।
  8. राजकीय शिशु प्रशिक्षण महाविद्यालय आगरा एवं इलाहाबाद।
  9. राजकीय शारीरिक प्रशिक्षण महाविद्यालय रामपुर व इलाहाबाद।
  10. सभी जिलों में जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान।

शिक्षा के सार्थक एवं व्यापक व्यवस्था के लिए सुविधा अनुसार उत्तर प्रदेश के विस्तृत क्षेत्र को 17 शिक्षा मंडल में बांटा गया है।  उच्चतर माध्यमिक शिक्षा स्तर की संस्कृत शिक्षा हेतु लखनऊ में संस्कृत शिक्षा परिषद का गठन किया गया है।

2001 में प्रथमा से लेकर उत्तर मध्यमा इंटर तक की शिक्षा के लिए संस्थाओं को मान्यता देने पाठ्यक्रम तैयार करने और परीक्षा कराने का दायित्व लखनऊ स्थित उत्तर प्रदेश माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद को दे दिया गया है।

प्राथमिक शिक्षा

  • राज्य में प्राथमिक शिक्षा का देखरेख 25 जुलाई 1972 को गठित उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा किया जाता है।
  • इस समय राज्य में सर्व शिक्षा अभियान, मध्यान्ह भोजन योजना व कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय आदि परियोजना संचालित है। कस्तूरबा गांधी योजना को 2007-2008 में सर्व शिक्षा अभियान में ही सम्मिलित कर लिया गया है।
  • जुलाई 2011 में राज्य सरकार द्वारा शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत उत्तर प्रदेश निशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार नियमावली को लागू किया गया है।

प्राथमिक शिक्षा संबंधित कार्यक्रम

? पुरस्कार योजना- भारत सरकार द्वारा 1950 में बेसिक शिक्षा के अध्यापकों की विशिष्ट सेवा हेतु राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान करने की योजना प्रारंभ की गई है। इस योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष प्रदेश के चुने हुए प्राथमिक विद्यालयों के अध्यापकों को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत कर सम्मानित किया जाता है।

? शिक्षा गारंटी योजना- यह योजना असेवित गांवों में प्राथमिक विद्यालय स्थापित करने के उद्देश्य से चलाई जा रही है।

? सर्व शिक्षा अभियान- केंद्र की पहल पर वर्ष 2001-02 में संचालित इस अभियान का मुख्य उद्देश्य 6 से 14 वर्ष के बच्चों के सभी बच्चों का विद्यालयों में नामांकन, सामाजिक तथा जेंडर असमानता को समाप्त करना, जीवनोपयोगी गुणवत्तापरक प्रारंभिक शिक्षा देना, ड्रॉप डर को समाप्त करना तथा जनपद स्तर पर तथा उपजनपद स्तर पर क्षमता का विकास करना है। इसमें जीवनोपयोगी गुणवत्तापरक प्रारंभिक शिक्षा व शत-प्रतिशत ठहराव पर विशेष बल दिया जा रहा है। इस अभियान में निर्माण कार्य, बालिका शिक्षा, समेकित शिक्षा, मध्यान भोजन, निशुल्क भोजन, यूनिफार्म, निशुल्क पाठ्य पुस्तक आदि कार्यक्रम सम्मिलित है।

? संपूर्ण साक्षरता अभियान- देश में यह अभियान 15 से 35 वर्ष आयु वर्ग के निरक्षरों के लिए जिला साक्षरता समिति के माध्यम से सभी जनपदों में संचालित किया जा रहा है। इस अभियान के प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार है – लोगों को पढ़ने, लिखने एवं अंक ज्ञान में आत्मनिर्भर बनाना जिससे विकास कार्य में सहभागी बन सके, आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए नए हुनर सिखाना , राष्ट्रीय एकता, पर्यावरण सुरक्षा, महिला और पुरुषों में समानता, छोटे परिवार के महत्व को समझाना आदि।

? निशुल्क पाठ्य पुस्तक तथा यूनिफार्म- परिषदीय प्राथमिक विद्यालय तथा उच्च प्राथमिक विद्यालय में प्रतिवर्ष कक्षा 1 से 8 तक के समस्त बच्चों को निशुल्क पाठ्य पुस्तक व प्रतिबालक दो सेट यूनिफार्म दिया जाता है।

? पोषाहार मिड डे मील- राज्य के सरकारी तथा सरकार से सहायता प्राप्त प्राथमिक विद्यालय में बच्चों के पोषाहार सहायता संबंधी इस राष्ट्रीय कार्यक्रम को 1995 से प्रदेश के 38 जनपदों में तथा 1996 से सभी जनपदों में लागू किया गया। इस योजना का उद्देश्य प्राथमिक शिक्षा के बच्चों के नामांकन में वृद्धि करना, बच्चों को स्कूल में बनाए रखना और उनकी उपस्थिति को बढ़ाकर प्राथमिक शिक्षा में सर्वसुलभीकरण को प्रोत्साहन देना तथा उसके साथ ही प्राथमिक कक्षा के बच्चों को अनुकूल पोषाहार प्रदान करना है। 11वीं योजना में उच्च प्राथमिक विद्यालय में भी लागू कर दिया गया है।

? ऑपरेशन ब्लैक बोर्ड- यह पूर्णता केंद्र प्रायोजित योजना थी जिसमें प्राथमिक विद्यालय को पढ़ाई-लिखाई एवं खेलकूद संबंधी सामग्री प्रदान कराई जाती है।

? पढ़े भारत बढ़े भारत- इस कार्यक्रम का संचालन बच्चों में विज्ञान व गणित के कौशल विकास हेतु किया जा रहा है।

? राष्ट्रीय आविष्कार योजना- इस योजना का संचालन उच्च प्राथमिक विद्यालय में बच्चों में विज्ञान के प्रति रुचि बढ़ाने हेतु किया जा रहा है।

माध्यमिक शिक्षा

प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा (कक्षा 9 से 12 तक) का संचालन 1972 में गठित माध्यमिक शिक्षा निदेशालय द्वारा किया जाता है माध्यमिक स्तर के परीक्षाओं का संचालन, अंकतालिका व सर्टिफिकेट के वितरण आदि से संबंधित कार्य माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा किया जाता है जो कि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के निर्देशन में कार्य करता है।

माध्यमिक शिक्षा परिषद विश्व की सबसे बड़ी परीक्षा लेने वाली संस्था है। माध्यमिक विद्यालय में शिक्षकों की भर्ती के लिए 1982 में इलाहाबाद में एक माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड का गठन किया गया है।

माध्यमिक शिक्षा संबंधी कार्यक्रम

? शिक्षकों को पुरस्कार- भारत सरकार द्वारा उत्कृष्ट माध्यमिक शिक्षकों को पुरस्कृत करने संबंधी योजना 1950 से चल रही है जिसमें राष्ट्रीय स्तर पर माध्यमिक स्तर के चुने में शिक्षकों को सम्मानित किया जाता है। 1984 से प्रदेश स्तर पर भी चुने हुए शिक्षकों को सम्मानित किया जाता है।

? कंप्यूटर शिक्षा योजना- सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी आईसीटी योजना के तहत योजना केंद्र सरकार के सहयोग से 2005 से राज्य के 4000 चयनित माध्यमिक विद्यालय में संचालित इस योजना का उद्देश्य माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों को कंप्यूटर आधारित शिक्षा देना है। इसके तहत निजी सेवा प्रदाता द्वारा प्रत्येक चयनित विद्यालय में 10-10 कंप्यूटर व अन्य सामग्री दिए जाते हैं और 4-4 अध्यापकों को कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जाता है। इस में केंद्र व राज्य का सहयोग 75:25 है।

? कंप्यूटर लैब योजना- 11वीं योजना के तहत शुरू की गई इस योजना के अंतर्गत चयनित विद्यालयों में 50-50 कंप्यूटर व अन्य उपकरण लगाकर कंप्यूटर लैब की स्थापना की जाती है और कुछ शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाता है।

? पत्राचार शिक्षा संस्थान इलाहाबाद- यह कार्यक्रम 1980 में शुरू किया गया। इसमें इंटरमीडिएट की व्यक्तिगत परीक्षा हेतु पत्राचार के माध्यम से पठन सामग्री उपलब्ध कराई जाती है छात्रों की सुविधा के लिए प्रदेश में इस संस्था के 429 से अधिक केंद्र है।

? राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान- 14 से 18 वर्ष के बच्चों की गुणवत्ता परक शिक्षा प्रदान करने हेतु केंद्र व राज्य सरकार के सहयोग से यह अभियान मार्च 2009 में शुरू किया गया। इस कार्यक्रम के तहत पहले 5 वर्षों में कक्षा 9 और 10 में विद्यार्थियों के सकल पंजीकरण अनुपात 52.26% से बढ़ाकर 75 फ़ीसदी तक पहुंचाने, वर्ष 2017 तक सभी को माध्यमिक स्तर की शिक्षा सुलभ कराने और वर्ष 2020 तक माध्यमिक शिक्षा की ड्रॉपआउट दर को शून्य करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके लिए हर रिहायशी इलाके के 5 किलोमीटर के दायरे में हाईस्कूल और 7 किलोमीटर के दायरे में इंटर कॉलेज की स्थापना के अलावा अन्य विद्यालयों में ढांचागत सुविधाओं की व्यवस्था करना है।

उच्च शिक्षा

  • उच्च शिक्षा के नियंत्रण तथा निर्देशन हेतु 1972 में उच्च शिक्षा निदेशालय इलाहाबाद की स्थापना की गई है।
  • शिक्षकों के चयन हेतु एक उच्च शिक्षा सेवा चयन आयोग इलाहाबाद का गठन किया गया है।
  • प्रदेश के 10 राज्य तथा 10 अशासकीय महाविद्यालय को चिन्हित कर उनमें एजुसेट की स्थापना की गई है।
  • राज्य विश्वविद्यालय शासकीय तथा शासकीय महाविद्यालय में कार्यरत शिक्षकों को उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिए राज्य सरकार द्वारा सरस्वती व शिक्षकश्री सम्मान से सम्मानित किया जाता है।
  • राष्ट्रीय उच्च शिक्षा अभियान के तहत शैक्षिक दृष्टि से पिछड़े राज्य के 29 जिलों में मॉडल डिग्री कॉलेजों की स्थापना किया जाएगा।
  • प्रदेश में उच्च शिक्षा निदेशालय के अधीन इस समय 15 राज्य (सामान्य शिक्षा) विश्वविद्यालय, दो विशेष विश्वविद्यालय, एक मुक्त विश्वविद्यालय और एक डीम्ड विश्वविद्यालय है। राज्य सरकार के यह विश्वविद्यालय केवल 10 मंडलों में है अतः शीघ्र ही सरकार 8 मंडलों में भी एक-एक विश्वविद्यालय की स्थापना करेगी।

?प्राविधिक शिक्षा?

●? 1950 में आगरा में दयालबाग इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना की गई थी जिसे अब दयालबाग डीम्ड विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है उत्तराखंड राज्य के गठन के बाद अब यही प्रदेश का सबसे पुराना इंजीनियरिंग कॉलेज है।

●? वर्तमान में राज्य व्यावसायिक एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग के अधीन 10 स्नातक स्तरीय इंजीनियरिंग कॉलेज तथा तीन प्राविधिक विश्वविद्यालय संचालित है।

? राज्य में डिग्री स्तरीय तकनीकी शिक्षा के समेकित विकास के लिए 8 मई 2000 को लखनऊ में एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय की स्थापना की गई और 11 राजकीय व 222 निजी प्राविधिक कॉलेजों को इसी से संबंध कर दिया गया है।

●? गोरखपुर स्थित मदन मोहन मालवीय इंजीनियरिंग कॉलेज को 2013 में उच्छिकरत कर रुड़की इंजीनियरिंग कॉलेज की तरह विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया है यह राज्य का दूसरा प्राविधिक विश्वविद्यालय है।

●? कानपुर स्थित एचबीटीआई को 2016 में राज्य का तीसरा प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय बनाया गया है।

●? कानपुर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान आईआईटी और इलाहाबाद में भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान आईआईआईटी व मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान है। जुलाई 2008 में काशी हिंदू विश्वविद्यालय केे प्रौद्योगिकी संस्थान को भी IIT का दर्जा दे दिया गया है।

●? भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान इसरो ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर को देश में अपना पहला नोडल सेंटर बनाया है।

?कृषि शिक्षा?

? चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कानपुर- इस विश्वविद्यालय की स्थापना मार्च 1975 में की गई थी। इस विश्वविद्यालय का कार्यक्षेत्र बुंदेलखंड, दक्षिण पश्चिम में अर्धशुष्क तथा मैदानी क्षेत्र के 30 जनपदों तक है।

? नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय फैजाबाद- कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना 1976 में की गई थी या विश्वविद्यालय पूर्वी उत्तर प्रदेश के 25 जिलों में कृषि शिक्षा शोध एवं प्रसार माध्यम से कृषि एवं आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है।

? सरदार वल्लभभाई कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मेरठ- उत्तरांचल के गठन के बाद पंतनगर स्थित कृषि विश्वविद्यालय उत्तराखंड में चला गया है इसके फलस्वरुप पश्चिम उत्तर प्रदेश के सहारनपुर मेरठ मुरादाबाद एवं बरेली मंडल में कृषि शिक्षा अनुसंधान एवं प्रसार हेतु उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 2 अक्टूबर 2000 को सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मेरठ की स्थापना की गई।

? बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय- बुंदेलखंड क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए इस विद्यालय की स्थापना बांदा में की गई है जो 2010 से कार्यरत है।

? उत्तर प्रदेश कृषि अनुसंधान परिषद- प्रदेश में कृषि विश्वविद्यालय कृषि विभाग एवं कृषि संबंधित अन्य विभागों के कृषि संबंधी शोध एवं शिक्षण में समन्वय स्थापित करने तथा कृषि विकास को प्रोत्साहित करने के लिए उत्तर प्रदेश कृषि अनुसंधान परिषद की स्थापना जुलाई 1989 में की गई।

Play Quiz 

No of Questions-30

0%

Q.1 उत्तर प्रदेश का प्रथम मुक्त विश्वविद्यालय स्थित है? ( यूपी पीसीएस मेंस 2005 )

Correct! Wrong!

Q.2 बनारस हिंदू विश्वविद्यालय का शिलान्यास किसने किया? (यूपी पीसीएस मेंस 2003)

Correct! Wrong!

Q.3 पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय है? ( लोअर मेंस 2015 )

Correct! Wrong!

Q.4 प्रदेश में केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है? ( UDA मेंस 2014 )

Correct! Wrong!

Q.5 कल्प योजना संबंधित है? ( पीसीएस मेंस 2011)

Correct! Wrong!

Q.6 प्रथम विकलांग विश्वविद्यालय स्थापित किया गया है? ( यूपी पीसीएस मेंस 2012)

Correct! Wrong!

Q.7 उत्तर प्रदेश शासन द्वारा किस आयु वर्ग तक के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा उपलब्ध कराने में उच्च प्राथमिकता दी जा रही है वह है? यूपी पीसीएस प्री 2007

Correct! Wrong!

Q.8 निजी क्षेत्र के उच्च माध्यमिक विद्यालय को चिन्हित कीजिए जो उसके सापेक्ष दिखाए गए स्थान से सुमेलित नहीं है? यूपी पीसीएस प्री 2009

Correct! Wrong!

Q.9 विद्या वाहिनी परियोजना निम्न में से किस पर बल देती है? लोअर मेन 2013

Correct! Wrong!

Q.10 प्रदेश में मिड डे मील कार्यक्रम आरंभ किया गया? पीसीएस मेंस 2012

Correct! Wrong!

Q.11 सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय अवस्थित है? पीसीएस मेंस 2010

Correct! Wrong!

Q.12 निम्न में से पहला केंद्रीय विश्वविद्यालय है? पीसीएस मेंस 2011

Correct! Wrong!

Specially thanks to Post and Quiz makers ( With Regards )

चिराग बालियान मुज़फ्फरनगर,