0%

1. जेनेटिकली मोडीफाइड (आनुवंशिक रूपांतरित) फसलों के संबंध में कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं? 1. ये फसलें सूखे, ठंड, लवणता एवं ताप के प्रति अधिक सहिष्णु होती हैं। 2. इन फसलों की खनिज उपयोग क्षमता अधिक होती है। 3. इन फसलों की कीटों के प्रति प्रतिरोधी क्षमता अधिक होती है। कूटः

Correct! Wrong!

व्याख्याः ऐसे पौधे, जीवाणु, कवक व जंतु जिनके जीन, तकनीक की मदद से परिवर्तित किये जा चुके हैं, आनुवंशिक रूपांतरित जीव (जेनेटिकली मोडीफाइड आर्गेनाइजेशन- जीएमओ) कहलाते हैं। जीएमओ का व्यवहार स्थानांतरित जीन की प्रकृति, परपोषी पौधे, जंतुओं या जीवाणुओं की प्रकृति व खाद्य जाल पर निर्भर करता है। जीएम पौधे का उपयोग कई प्रकार से लाभदायक है। आनुवंशिक रूपांतरण द्वारा- अजैव प्रतिबलों (ठंडा, सूखा, लवण, ताप) के प्रति अधिक सहिष्णु फसलों का निर्माण। रासायनिक पीड़कनाशकों पर कम निर्भरता करना (पीड़कनाशी-प्रतिरोधी फसल)। कटाई पश्चात् होने वाले नुकसानों को कम करने में सहायक। पौधे द्वारा खनिज उपयोग क्षमता में वृद्धि (यह शीघ्र मृदा उर्वरता समापन को रोकता है)। खाद्य पदार्थों के पोषणिक स्तर में वृद्धि उदाहरणार्थ-विटामिन ए से समृद्ध धान। उपरोक्त उपयोगों के साथ-साथ जीएम का उपयोग तदनुकुल पौधे के निर्माण में सहायक है, जिनसे वैकल्पिक संसाधनों के रूप में उद्योगों में वसा, ईंधन व भेषजीय पदार्थों की आपूर्ति की जाती है।

2. कपास के कीट-रोधी पौधे आनुवंशिक इंजीनियरिंग द्वारा एक जीन को निविष्ट कर निर्मित किये गए हैं, जो लिया गया है-

Correct! Wrong!

व्याख्याः आनुवंशिक इंजीनियरिंग का प्रयोग कर बीटी (Bt) जो एक जीवाणु है, जिसे बैसिलस थुरीनजिएंसीस (संक्षेप में बीटी) कहते हैं से कपास के कीट-रोधी पौधे तैयार किये जाते हैं। बीटी जीव विष जीन जीवाणु से क्लोनिकृत होकर पौधों में अभिव्यक्त होकर कीटों (पीड़कों) के प्रति प्रतिरोधकता पैदा करता है, जिससे कीटनाशकों के उपयोग की आवश्यकता नहीं रह जाती है।

3. गोल्डन चावल एक प्रचुरतम स्रोत है-

Correct! Wrong!

व्याख्याः जेनेटिक इंजीनियरिंग का प्रयोग कर खाद्य पदार्थों के पोषण स्तर में वृद्धि की जाती है। इसका सर्वोत्तम उदाहरण है गोल्डन राइस, जिसमें विटामिन A प्रचुर मात्रा में पाई जाती है।

4. बीटी (Bt) के विष (toxin) रवे (Crystal) कुछ जीवाणुओं द्वारा बनाए जाते हैं, लेकिन जीवाणु स्वयं को नहीं मारते हैं, क्योंकि-

Correct! Wrong!

व्याख्याः बीटी (बैसीलस थूरीनजिएंसीस) की कुछ नस्लें ऐसे प्रोटीन का निर्माण करती हैं जो विशिष्ट कीटों जैसे कि लीथीडोप्टेशन (तंबाकू की कलिका कीड़ा, सैनिक कीड़ा),कोलियोप्टेरान (भृंग) व डीप्टेरॉन (मक्खी, मच्छर) को मारने में सहायक है। बी. थूरीनजिएंसीस अपनी वृद्धि की विशेष अवस्था में कुछ प्रोटीन रवों का निर्माण करती है। इन रवों में विषाक्त कीटनाशक प्रोटीन होता है। वास्तव में बीटी जीव-विष प्रोटीन, प्राक्जीव में निष्क्रिय रूप में होता है, ज्योंहि कीट इस निष्क्रिय जीव विष को खाता है, इसके रवे आँत में क्षारीय पी एच के कारण घुलनशील होकर सक्रिय रूप में परिवर्तित हो जाते हैं। सक्रिय जीव विष मध्य आँत के उपकलीय कोशिकाओं की सतह से बँधकर उसमें छिद्रों का निर्माण करते हैं, जिस कारण से कोशिकाएँ फूलकर फट जाती हैं और परिणामस्वरूप कीट की मृत्यु हो जाती है।

5. चिकित्सा के क्षेत्र में जैव प्रौद्योगिकी के उपयोग के संबंध नीचे दिये गए कथनों पर विचार कीजियेः 1. इस प्रौद्योगिकी द्वारा विकसित औषधियों का शरीर पर अवांछित प्रतिरक्षात्मक (defensive) प्रभाव नहीं पड़ता है। 2. इस प्रौद्योगिकी के द्वारा मानव शरीर में उत्पन्न होने वाले सारे रोगों का उपचार संभव है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

व्याख्याः केवल पहला कथन सत्य है। जैव प्रौद्योगिकी ने स्वास्थ्य सुरक्षा के क्षेत्र में अत्यधिक प्रभाव डाला है, क्योंकि इसके द्वारा उत्पन्न सुरक्षित व अत्यधिक प्रभावी चिकित्सीय औषधियों का उत्पादन अधिक मात्रा में संभव है। पुनर्योगज चिकित्सीय औषधियों का अवांछित प्रतिरक्षात्मक (unwanted immunological) प्रभाव नहीं पड़ता है जबकि ऐसा देखा गया है कि उपरोक्त उत्पाद जो अमानवीय स्रोतों से विलगित किये गए हैं, वे अवांछित प्रतिरक्षात्मक प्रभाव डालते हैं।

6. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्ति को इसके नियंत्रण के लिये इंसुलिन लेना पड़ता है। 2. मधुमेह रोग में उपयोग लाया जाने वाला इंसुलिन जानवरों व सुअरों को मारकर उनके अग्नाशय से प्राप्त किया जाता था। 3. वर्तमान में जैव प्रौद्योगिकी की सहायता से जीवाणुओं द्वारा इंसुलिन का निर्माण किया जाता है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

व्याख्याः उपरोक्त तीनों कथन सत्य हैं। मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्ति को इसके नियंत्रण के लिये इंसुलिन लेना पड़ता है। मधुमेह रोग में उपयोग में लाया जाने वाला इंसुलिन जानवरों व सुअरों को मारकर उनके अग्नाशय से प्राप्त किया जाता था। वर्तमान में जैव प्रौद्योगिकी की सहायता से जीवाणुओं द्वारा इंसुलिन का निर्माण किया जाता है।

7. आनुवंशिक विकार के साथ पैदा हुए बच्चे के उपचार हेतु जीन चिकित्सा के अंतर्गत जीन को व्यक्ति के शरीर के किस भाग में प्रवेश कराया जाता है? 1. बोनमैरो 2. कोशिका 3. ऊतक 4. माइटोकांड्रिया नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनियेः

Correct! Wrong!

व्याख्याः यदि कोई बच्चा आनुवंशिक रोग के साथ पैदा हुआ है तो इस रोग के उपचार हेतु जीन चिकित्सा ही एकमात्र उपाय है। जीन चिकित्सा में उन विधियों का सहयोग लेते हैं जिनके द्वारा किसी बच्चे या भ्रूण में चिह्नित किये गए जीन दोषों का सुधार किया जाता है। इसमें रोगों के उपचार हेतु जीनों को व्यक्ति की कोशिकाओं या उतकों में प्रवेश कराया जाता है। आनुवंशिक दोष वाली कोशिकाओं के उपचार हेतु सामान्य जीन को व्यक्ति या भ्रूण में स्थानांतरित करते हैं जो निष्क्रिय जीन की क्षतिपूर्ति कर उसके कार्यों को संपन्न करते हैं।

8. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन बायोपाइरेसी को परिभाषित करता है?

Correct! Wrong!

व्याख्याः मल्टीनेशनल कंपनियों व दूसरे संगठनों द्वारा किसी राष्ट्र या उससे संबंधित लोगों से बिना व्यवस्थित अनुमोदन व क्षतिपूरक भुगतान के जैव संसाधनों का उपयोग करना बायोपाइरेसी कहलाता है।

Q9_ इंजाज नाम है विश्व के प्रथम क्लोन।

Correct! Wrong!

Q10_ पहला सफल क्लोन जन्तु था।

Correct! Wrong!

Q11_ बी टी बैगन है।

Correct! Wrong!

Q12_ गोल्डेन धान में सर्वाधिक मात्रा होती हैं

Correct! Wrong!

13.राजस्थान मे नकद हस्तांतरण योजना कहां से प्रारम्भ की गई?

Correct! Wrong!

14. देश मे वाईमैक्स(wimax) तकनीकी ब्राडबैंड की शुरुआत की गई हैं

Correct! Wrong!

15.डाक ग्रामीण बीमा योजना की शुरुआत की गई-

Correct! Wrong!

16. भूकम्प की पूर्व सूचना देने वाले यंत्र 'एकोस्टिक रडार' राज्य में स्थापित किया गया है।

Correct! Wrong!

17. देश मे 'फाइबर टू दी होम सेवा' की शुरुआत की गई-

Correct! Wrong!

प्रश्न18.कोशिकीय एवं आण्विक जीव विज्ञान केंद्र स्थित है-?

Correct! Wrong!

प्रश्न 19. निफ् जीन का कार्य है-?

Correct! Wrong!

प्रश्न 20. जीवाणु Bt संशलेषण करते है-?

Correct! Wrong!

प्रश्न 21.जैव प्रौधोगिकी शब्द निम्न में से किस वैज्ञानिक ने दिया-?

Correct! Wrong!

प्रश्न 22.रॉसलिन संस्था,ऐडिनबर्ग के किस वैज्ञानिक ने भेड़ के प्रतिरूप "डॉली"को बनाने में सफलता प्राप्त की-?

Correct! Wrong!

23. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. पादप एवं जीवों के लिये लैंगिक जनन, अलैंगिक जनन से अधिक लाभकारी है। 2. पौधों एवं जंतुओं के जनन हेतु उपयोग में लाई जाने वाली संकरण विधि से केवल वांछित जीन का ही समावेश होता है। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

व्याख्याः केवल पहला कथन सत्य है। अलैंगिक जनन आनुवंशिक सूचनाओं को परिरक्षित रखता है, जबकि लैंगिक जनन द्वारा विभिन्नता व विशिष्ट आनुवंशिक व्यवस्था के संयोजन के प्रतिपादन का अवसर मिलता है जो जीव या आबादी हेतु लाभकारी हो सकता है। लैंगिक जनन से विभिन्नता उत्पन्न होती है। अतः अलैंगिक जनन की अपेक्षा लैंगिक जनन अधिक फायदेमंद होता है। दूसरा कथन असत्य है। परंपरागत संकरण की विधियाँ जो पौधों एवं जंतुओं के जनन में उपयोगी है, इनके द्वारा वांछित जीन के साथ-साथ अवांछित जीन का समावेश व गुणन हो जाता है। उपर्युक्त कमियों को दूर करने हेतु आनुवंशिक इंजीनियरिंग तकनीकों में जीन क्लोनिंग एवं जीन स्थानांतरण का उपयोग कर पुनर्योगज डीएनए (रीकॉम्बीनेंट डीएनए) का निर्माण किया जाता है।

24. पुनर्योगज डीएनए तकनीक (रिकॉम्बीनेंट डीएनए टेक्नोलॉजी) के अंतर्गत डीएनए को विभिन्न जगहों से काटने के लिये उपयोग किया जाता है-

Correct! Wrong!

व्याख्याः पुनर्योगज डीएनए तकनीक के अंतर्गत डीएनए को विशिष्ट जगहों से काटने के लिये आण्विक कैंची कहे जाने वाले ‘प्रतिबंधन एंजाइम’ (रिस्ट्रिक्सन एंजाइम) का प्रयोग किया जाता है।

25. जेनेटिक इंजीनियरिंग में निम्न में से किसका प्रयोग होता है?

Correct! Wrong!

व्याख्याः जेनेटिक इंजीनियरिंग में प्लाज्मिड का प्रयोग होता है। एक जीवाणु की सभी सामान्य गतिविधिओं का नियंत्रण इसके एकल गुणसूत्र और जीन के छोटे छल्ले पर निर्भर करता है, जिसे प्लाज्मिड कहते हैं। जिस तरह से मच्छर, कीट संवाहक के रूप में मलेरिया परजीवी को मनुष्य के शरीर में स्थानांतरित करता है, ठीक उसी तरह प्लाज्मिड को संवाहक के रूप में प्रयोग कर विजातीय डीएनए के खंड को परपोषी जीवों में पहुँचाया जाता है। जेनेटिक इंजीनियरिंग में आनुवंशिक पदार्थों (डीएनए या आरएनए) के रसायन में परिवर्तन कर इसे परपोषी जीवों (होस्ट आर्गेनिज्म) में प्रवेश कराकर इसके समलक्षणी (फीनोटाइप) में परिवर्तन करते हैं। जेनेटिक इंजीनियरिंग (आनुवंशिक इंजीनियरिंग) तकनीकों में जीन क्लोनिंग एवं जीन स्थानांतरण का उपयोग कर पुनर्योगज डीएनए (रिकॉम्बीनेंट डीएनए) का निर्माण किया जाता है, जिससे बिना अवांछित जीनों के केवल एक या एक से अधिक वांछित जीन को चुने हुए जीवों में स्थानांतरित करते हैं।

26. पुनर्योगज डीएनए तकनीक (रिकॉम्बीनेंट डीएनए टेक्नोलॉजी) जीनों को स्थानांतरित होने देता है- 1. पौधों की विभिन्न जातियों में। 2. जंतुओं से पौधों में। 3. सूक्ष्मजीवों से उच्चतर जीवों में। नीचे दिये गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर चुनियेः

Correct! Wrong!

व्याख्याः रिकॉम्बीनेंट डीएनए टेक्नोलॉजी की सहायता से जीनों को पौधों की विभिन्न प्रजातियों, जंतुओं से पौधों या पौधों से जंतुओं में तथा सूक्ष्मजीवों से उच्चतर जीवों में स्थानांतरित किया जा सकता है। जीनों को पादप और जंतुओं में स्थानांतरित करना मानव ने जीवाणुओं और विषाणुओं से सीखा है, जिन्हें यह बात चिरकाल से पता थी। जीवाणु और विषाणु जानते थे कि सुकेंद्रीय (यूकैरियोटिक) कोशिकाओं को रूपांतरित करने के लिये जीनों का कैसे उपयोग किया जाए और वे जैसा चाहते हैं वैसे करने के लिये जीनों को बाध्य करते हैं।

27. निम्नलिखित में से कौन-सा पृथ्वी पर पाए जाने वाले सभी जीव का आनुवंशिक पदार्थ है?

Correct! Wrong!

व्याख्याः बिना अपवाद के पृथ्वी पर पाए जाने वाले सभी जीवों का आनुवंशिक पदार्थ न्यूक्लिक अम्ल है। अधिकांश जीवों में यह डिऑक्सी राइबो न्यूक्लिक अम्ल है।

28. आनुवंशिक इंजीनियरिंग के अंतर्गत बायोलिस्टीक या “जीन गन” का प्रयोग किया जाता है-

Correct! Wrong!

व्याख्याः परपोषी कोशिकाओं में विजातीय डीएनए को प्रवेश कराने के लिये कई विधियों का प्रयोग किया जाता है। सूक्ष्म अंतःक्षेपण (माइक्रोइंजेक्शन) विधि में पुनर्योगज डीएनए को सीधे जंतु कोशिका केंद्रक के भीतर अंतःक्षेपित किया जाता है। दूसरी विधि है जो पौधों के लिये उपयोगी है। पौधों की कोशिकाओं पर पुनर्योगज डीएनए से विलेपित, स्वर्ण या टंगस्टन के उच्च वेग सूक्ष्म कणों से बमबारी करते हैं जिसे "बायोलिस्टीक" या "जीन गन" कहते हैं।

29. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः 1. डीएनए को प्रतिबंधन एंजाइम (रिस्ट्रिक्सन एंजाइम) द्वारा काटने के लिये दूसरे वृहद्-अणुओं से मुक्त शुद्ध रूप में होना चाहिये। 2. जीन, हिस्टोन प्रोटीन के साथ गुथे हुए डीएनए पर स्थित होते हैं। उपरोक्त में से कौन-सा/से कथन सत्य है/हैं?

Correct! Wrong!

व्याख्याः उपरोक्त दोनों कथन सत्य हैं। डीएनए को प्रतिबंधन एंजाइम (रिस्ट्रिक्सन एंजाइम) द्वारा काटने के लिये दूसरे वृहद्-अणुओं से मुक्त शुद्ध रूप में होना चाहिये। डीएनए झिल्लियों से घिरा रहता है, इसलिये कोशिका को तोड़कर खोलना पड़ेगा ताकि डीएनए दूसरे वृहद् अणुओं जैसे- आरएनए, प्रोटीन, बहुशर्करा, लिपिड के साथ मोचित (रिलीज) हो सके। यह तभी संभव है जब जीवाणु कोशिका/पादप या जंतु ऊतक, लाइसोजाइम (जीवाणु), सेलुलोज (पादप कोशिका), काइटिनेज (कवक) जैसे एंजाइम द्वारा संसाधित किये जाते हैं। जीन डीएनए के लंबे अणुओं पर स्थित होते हैं व हिस्टोन जैसे प्रोटीनों के साथ गुँथे रहते हैं।

30. क्लोनिंग के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये- 1. ये किसी समरूप कोशिका या किसी अन्य जीवित भाग अथवा संपूर्ण जीव को कृत्रिम रूप से उत्पन्न करने की प्रक्रिया है। 2. सर्वप्रथम सफलतापूर्ण उत्पन्न क्लोन डॉली नामक एक मादा भेड़ थी। 3. डॉली एक फिन डॉरसेट भेड़ (Finn Dorsett Sheep) की क्लोन थी। उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

Correct! Wrong!

व्याख्याः उपर्युक्त तीनों कथन सही हैं। किसी समरूप कोशिका या किसी अन्य जीवित भाग अथवा संपूर्ण जीव को कृत्रिम रूप से उत्पन्न करने की प्रक्रिया क्लोनिंग कहलाती है। सर्वप्रथम इयन विल्मट और उनके सहयोगियों ने एडिनबर्ग, स्कॉटलैंड के रोजलिन इंस्टीट्यूट में एक भेड़ को सफलतापूर्वक क्लोन किया, जिसका नाम डॉली रखा गया। इस प्रक्रिया में फिन डॉरसेट नामक मादा भेड़ की स्तन ग्रंथियों से ली गई कोशिका के केंद्रक को स्कॉटिश ब्लैकफेस ईव (Scottish Blackface Ewe) से ली गई एक अंडकोशिका के केंद्रक के स्थान पर स्थापित किया गया। इस प्रकार उत्पन्न अंडकोशिका को स्कॉटिश ब्लैकफेस ईव में रोपित किया गया। बाद में स्कॉटिश ब्लैकफेश ईव ने डॉली को जन्म दिया, परंतु डॉली फिन डॉरसेट भेड़ के समरूप थी, जिससे केंद्रक लिया गया था। चूँकि स्कॉटिश ब्लैकफेश ईव के केंद्रक को अंडकोशिका से हटा दिया गया था, इसलिये डॉली में उसके कोई भी लक्षण परिलक्षित नहीं हुए। अतः डॉली फिन डॉरसेट भेड़ की क्लोन थी।

Biotechnology and Genetic Engineering Quiz (जैव-प्रौधोगिकी एवं आनुवांशिकीय)
VERY BAD! You got Few answers correct! need hard work.
BAD! You got Few answers correct! need hard work
GOOD! You well tried but got some wrong! need more preparation
VERY GOOD! You well tried but got some wrong! need preparation
AWESOME! You got the quiz correct! KEEP IT UP

Share your Results: